ताज़ा खबर
 

कम से कम 35-40 लाख रुपए और कड़ी जुगत से अहमद पटेल को मिली है जीत

कांग्रेस के 44 विधायक कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु के एक आलीशान रिसॉर्ट में 10 दिन तक रहे थे।
गुजरात के कांग्रेसी विधायकों को एयरपोर्ट से बस में बेंगलुरु के रिसॉर्ट तक पहुंचाया गया।

गुजरात राज्य सभा की तीन सीटों के लिए मंगलवार (आठ अगस्त) को मतदान में कांग्रेस के एक और बीजेपी के दो बड़े नेताओं को जीत मिली। गुजरात में बीेजपी के 122 विधायक हैं तो उसके नेताओं अमित शाह और स्मृति ईरानी की जीत पक्की थी। आशंका कांग्रेसी नेता अहमद पटेल की जीत को लेकर थी क्योंकि राज्य सभा चुनाव की घोषणा होते ही कांग्रेस में फूट पड़ गई। कई विधायक पार्टी छोड़ गए। कुछ बीेजपी के हो लिए। फिर भी कांग्रेस चुनाव जीत गई। लेकिन इस जीत के लिए कांग्रेस को अच्छी खासी कीमत चुकानी पड़ी है। दिन-रात की मेहनत के अलावा एक अनु्मान के मुताबिक उसे 35-40 लाख रुपये खर्च करने पड़े।

बीजेपी ने गुजरात राज्य सभा की तीसरी सीट के लिए पूर्व कांग्रेसी बलवंत सिंह राजपूत को समर्थन देकर अहमद पटेल की सीट को खतरे में डाल दिया था। राजपूत कांग्रेस के पूर्व विधायक दल के नेता शंकर सिंह वाघेला के रिश्तेदार हैं। चुनावी घोषणा पत्र में राजपूत ने अपनी कुल जायदाद 323 करोड़ रुपये बतायी। ऐसे में राजपूत वोट और नोट दोनों मामलों में तगड़े नेता हैं। जिस तरह राज्य सभा चुनाव की घोषणा होते ही छह कांग्रेसियों ने पार्टी छोड़ी और बीजेपी का दामन थाम लिया उससे कांग्रेस ने भांप लिया कि मामला गड़बड़ हो सकता है। कांग्रेस ने बाकी बचे विधायकों को राज्य से बाहर भेजने की तैयारी कर ली। लेकिन यहां भी उसे झटका लगा। कांग्रेस के राज्य सभा चुनाव की घोषणा से पहले कुल 57 विधायक थे। छह ने पार्टी छोड़ दी लेकिन बाकी बचे 51 में से 44 ही कर्नाटक गए। चुनाव जीतने के लिए 45 वोट चाहिए थे। यानी एक वोट का संकट कांग्रेस पर शुरू से मंडरा रहा था।

कांग्रेस के सभी 44 विधायक कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु के एक आलीशान रिसॉर्ट में रुके। इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार इस रिसॉर्ट में एक कमरे की एक रात की कीमत करीब सात हजार रुपये है। कांग्रेस के सभी विधायक करीब 10 दिन तक इस रिसॉर्ट में रुके थे। रिपोर्ट के अनुसार अगर एक कमरे में दो विधायक रुके हों तो भी कांग्रेस को कम से कम 15.50 लाख रुपये केवल कमरे का किराया देना पड़ा होगा। अगर एक कमरे में केवल एक विधायक रहा होगा तो कमरे का किराया सीधे 30 लाख रुपये पड़ा होगा। इसके अलावा खाने-पीने का खर्च अलग से।

सभी विधायकों को मतदान से एक दिन पहले गुजरात वापस लाया गया लेकिन वो अपने-अपने घर नहीं गए बल्कि आनंद स्थित एक रिसॉर्ट में रुके। इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार आनंद के जिस निजानंद रिसॉर्ट में ये विधायक रुके थे वहां एक कमरे की एक रात की कीमत 6500 रुपये है। अगर दो विधायक एक कमरे में रहें होंगे तो कांग्रेस को 1.43 लाख रुपये केवल कमरों के किराे के तौर पर देने पड़े होंगे। एक विधायक एक कमरे में रहा होगा तो करीब तीन लाख रुपये केवल किराया देना पड़ा होगा। खाना-पीना अलग से।

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार सभी विधायक गुजरात से कर्नाटक हवाई-जहाज से गए थे और लौटे थे। करीब चार हजार रुपये प्रति व्यक्ति किराया जोड़ा जाए तो आने जाने में करीब 3.6 लाख रुपये खर्च हुए होंगे।  अगर इन सभी खर्चों को जोड़ दिया जाए तो कांग्रेस पार्टी को अहमद पटेल की जीत सुनिश्चित करने के लिए 35-40 लाख रुपये खर्च करने पड़े होंगे। लेकिन जिस तरह मीडिया ने इस चुनाव को अमित शाह बनाम अहमद पटेल बना दिया था उसके बाद कांग्रेस को राहत महसूस कर रही होगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. S
    suhas sarode
    Aug 10, 2017 at 5:04 am
    कमसे काम ४०- ५० लाख और असलमे कितना होगे {५ करोडसे कम तो नहीं होगा.}
    Reply
  2. K
    Khursheed Ahmad
    Aug 9, 2017 at 2:07 pm
    Congress ke 35.40 lakh dikhaee de raha hai leking BJP ne congress ke MLAs to phorne ke liye kitne Crore Kharch kiye hogien uska to aapke media aur paper waloun ko kuchh pata bhi nahi hoga
    Reply
सबरंग