ताज़ा खबर
 

सीपीएम दफ्तर पर फेंकी गई स्याही, बोर्ड पर लिख दिया-पाकिस्तान, तीन लोग गिरफ्तार

संसद हमले के दोषी अजफल गुरू को फांसी के खिलाफ जेएनयू परिसर में हुए कार्यक्रम के बाद उपजे विवाद की पृष्ठभूमि में यह हमला हुआ है।
Author नई दिल्‍ली | February 15, 2016 00:45 am
भारतीय कम्यूनिस्ट पार्टी।

युवाओं के एक समूह ने राजधानी स्थित माकपा के मुख्यालय में हमला करने की कोशिश की। पुलिस ने उनमें से को एक हिरासत में ले लिया है। संसद हमले के दोषी अजफल गुरु को फांसी के खिलाफ जेएनयू परिसर में हुए कार्यक्रम के बाद उपजे विवाद की पृष्ठभूमि में यह हमला हुआ है। माकपा ने कहा कि हमलावर आरएसएस-भाजपा के कार्यकर्ता थे जिन्होंने पत्थर भी फेंके, जबकि पुलिस का कहना है कि हिरासत में लिए गए युवक ने दावा किया है कि वह ‘आम आदमी सेना’ नामक संगठन का सदस्य है।

नई दिल्ली के पुलिस उपायुक्त जतिन नरवाल ने कहा कि तीन युवक माकपा के दफ्तर आए और उन्होंने भवन की दीवारों पर काली स्याही फेंकी। उनमें से दो भागने में कायमाब रहे, जबकि एक को माकपा कार्यकर्ताओं ने पकड़ लिया और पुलिस के हवाले कर दिया। उन्होंने कहा कि युवक की पहचान सुशांत खोसला के तौर पर हुई है। उसने पुलिस से कहा है कि वह आम आदमी सेना का सदस्य है। हमने मामले के बाबत कानूनी कार्रवाई शुरू कर दी है और जांच की जा रही है।

हमले की पुष्टि करते हुए माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि उन्होंने हमारे कार्यालय बोर्ड पर पाकिस्तान जिंदाबाद जैसे नारे लिखने की कोशिश की। उनको हमारे कार्यकर्ताओं ने खदेड़ा और उनमें से एक को पकड़ लिया, जिसे पुलिस के हवाले कर दिया गया। उन्होंने कहा, ‘‘हम इस हमले की निंदा करते हैं। महात्मा गांधी के हत्यारे की पूजा करने वाली आरएसएस सबसे ज्यादा धर्मनिरपेक्ष लोकतांत्रिक बल माकपा की अब राष्ट्र विरोधी के तौर पर ब्रांडिंग कर रही है।’’

येचुरी ने कहा कि देश में सामाजिक और आर्थिक परिस्थितियों को लेकर जो अव्यवस्था वे लेकर आए हैं, उससे ध्यान हटाने के लिए आरएसएस ऐसा कर रही है। वह सांप्रदायिक ध्रुवीकरण के जरिए लोगों का ध्यान हटाना चाहते हैं। माकपा सूत्रों ने कहा कि युवकों ने पत्थर फेंके और माकपा ‘देश छोड़ो’ जैसे नारे लगाए।

भाकपा के राष्ट्रीय सचिव डी राजा ने माकपा के दफ्तर पर हुए हमले की कड़ी निंदा की और कहा कि संघ परिवार हमारी लोकतांत्रिक राजनीतिक व्यवस्था और हमारी राजनीति की संवैधानिक व्यवस्था को नष्ट नहीं कर सकती है। राजा ने कहा कि अगर वे कुछ बहस करना चाहते हैं तो बहस करें, लेकिन उन्हें ऐसे कायराना और असभ्य हमले नहीं करने चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. D
    Dinesh Singh
    Feb 14, 2016 at 11:18 pm
    उसके मोटे डो पे मारो कस के डंडे सब बक देगा की किसने भेजा था उसे.
    (0)(0)
    Reply
    1. D
      Dinesh Singh
      Feb 14, 2016 at 5:48 pm
      पता नहीं उस पकड़े गए गुंडे की इज़्ज़त अफ़ज़ाई किया या नहीं. जब भी ऐसे असाम्प्रदायिक वयक्ति पकडे जय तो पुलिस को देने से पहले उनकी थोड़ा मोड़ा इज़्ज़त करना जरूरी हो गया है.
      (0)(0)
      Reply