December 09, 2016

ताज़ा खबर

 

थेरेसा मे ने भारत को बताया सबसे अच्छे दोस्तों में एक, फिर इन भारतीय भगोड़ों को क्‍यों दे रखी है पनाह?

भारत के बीच 22 सितंबर 1992 में प्रत्यर्पण संधि पर दस्तखत किए गए थे। इसके बावजूद भारत के कई वॉन्टेड ब्रिटेन में रह रहे हैं।

माल्या के अलावा भी भारत के कई और मोस्ट वॉन्टेड ब्रिटेन की शरण में हैं।

ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे भारत के तीन दिवसीय दौरे पर हैं। थेरेसा ने भारत को ब्रिटेन का सबसे करीबी और महत्वपूर्ण दोस्त बताया है। ब्रिटिश प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत दौरे पर आने से दोनों देशों की द्विपक्षीय साझेदारी मजबूत होगी। थेरेसा मे के भारत दौरे का भारत की नजर से एक दूसरा पहलू भी है। भारत की कई मोस्ट वॉन्टेड ब्रिटेन की शरण में हैं। ब्रिटेन और भारत के बीच 22 सितंबर 1992 में प्रत्यर्पण संधि पर दस्तखत किए गए थे। इसके बावजूद भारत के कई वॉन्टेड ब्रिटेन में रह रहे हैं। भारत के मोस्ट वॉन्टेड में से एक टाइगर हनीफ है। टाइगर हनीफ का पूरा नाम मोहम्मद उमर जी पटेल है। टाइगर पर 1993 में गुजरात में दो बम धमाकों में शामिल होने का आरोप है। इसके अलावा विजय माल्या का नाम भी भारत की मोस्ट वॉन्टेड लिस्ट में हैं। माल्या भी इस वक्त ब्रिटेन में हैं। कोर्ट के कई समन के बावजूद माल्या कोर्ट में हाजिर नहीं हुए हैं। माल्या के अलावा भी भारत के कई और मोस्ट वॉन्टेड ब्रिटेन की शरण में हैं। आईपीएल के पूर्व चेयरमैन ललित मोदी भी ब्रिटेन में रह रहे हैं। गुलशन कुमार हत्याकांड में शामिल नदीम सैफी भी ब्रिटेन में है। इंडियन नेवी वॉर रूम लीक केस में आरोपी रवि शंकरन ब्रिटेन में हैं। गोवा में 150 बच्चों के शोषण के मामले में आरोपी ब्रिटिश नागरिक रेमंड वर्ली को भारत को प्रत्यर्पित करने से ब्रिटेन ने इंकार कर दिया था।

वीडियो: शराब कारोबारी विजय माल्या की मुश्किलें; सुप्रीम कोर्ट ने विदेश में संपत्ति का ब्यौरा देने को कहा

भारत के दौरे पर आईं ब्रिटश प्रधानमंत्री ने कहा था कि भारत और ब्रिटेन के बीच खास है रिश्ता है। उन्होंने कहा कि भारत और ब्रिटेन तकनीक के क्षेत्र में काफी आगे बढ़ सकते हैं। ब्रिटिश सरकार आर्थिक और सामाजिक सुधार पर काम कर रही हैं और भारतीय निवेश हमारी अर्थव्यवस्था में विविधता ला रही है। इस दौरान प्रधानमंत्री ने थेरेसा मे के दौरे का जिक्र करते हुए कहा कि ये हमारे लिए सौभाग्य की बात है कि ब्रिटिश पीएम ने यूरोप के बाहर भारत का विदेशी दौरे के लिए चुनाव किया।

Read Also: टेक समिट में मिले थेरेसा मे-नरेंद्र मोदी, भारत-ब्रिटेन के बीच कई क्षेत्रों में सहयोग पर बनी सहमति

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 7, 2016 12:17 pm

सबरंग