ताज़ा खबर
 

अमीरों को खूब पसंद आई पीएम नरेंद्र मोदी की ‘कड़क चाय’; उद्योगपतियों ने की जमकर तारीफ

अंबानी ने मोदी की तारीफ ऐसे समय की है जब विधानसभा चुनावों से पहले मोदी नोटबंदी को गरीबों के हित और अमीरों के खिलाफ लिया गया फैसला बता रहे हैं।
वाइब्रेंट गुजरात समिट को संबोधित करते पीएम नरेंद्र मोदी। (Source: PTI)

ऐसा लगता है कि अमीरों को भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘कड़क चाय’ पसंद आ रही है। गुजरात में चल रही ‘वाइब्रेंट गुजरात ग्‍लोबल समिट के दौरान बड़े-बड़े कारोबारियों ने पीएम मोदी की शान में कसीदे पढ़ें। भारत के सबसे अमीर शख्‍स, मुकेश अंबानी ने कहा कि ‘दुनिया के किसी और नेता ने इतने कम समय में इतने सारे लोगों की सोच और व्‍यवहार नहीं बदला है।” अंबानी ने समिट में कहा कि प्रधानमंत्री ‘एक महान परिवर्तनकारी नेता’ हैं जिन्‍होंने पहले गुजरात की सूरत बदली और अब दूरदर्शी कार्यक्रमों के साथ भारत को बदल रहे हैं। उन्‍होंने स्‍वच्‍छ भारत अभियान, डिजिटल इंडिया, मेक इन इंडिया, स्किल इंडिया और स्‍टार्ट अप इंडिया जैसे कार्यक्रमों का जिक्र भी किया। वाइब्रेंट गुजरात के चलते नरेंद्र मोदी ने अपने छवि खासी बेहतर की थी और ‘विकास-पुरुष’ का नाम भी कमाया। अंबानी ने मोदी की तारीफ ऐसे समय की है जब विधानसभा चुनावों से पहले मोदी गरीबी कार्ड खेल रहे हैं और नोटबंदी को गरीबों के हित और अमीरों के खिलाफ लिया गया फैसला बता रहे हैं।

उत्‍तर प्रदेश में 14 नवंबर को एक रैली में, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था, ”मेरा फैसला कड़क था। जब मैं बच्‍चा था, गरीब मुझसे कड़क चाय बनाने को कहते। गरीबों को यह बहुत पसंद है। बचपन से ही, मेरे आदत कड़क चाय बनाने की रही है। यह गरीबों को पसंद आती है।” हालांकि वाइब्रेट गुजरात समिट में उद्योगपतियों की बातें सुनकर कहीं से ऐसा नहीं लगा कि उन्‍हें कड़क चाय पसंद नहीं आई। उल्‍टे, वे पीएम की तारीफों के पुल बांधते नजर आए।

समिट में बोलते हुए मोदी ने कहा था कि डिजिटल टेक्नोलॉजी विकास में तेजी लाती है और सरकार को ठीक और सरल रूप से काम करने में मदद करती है। मोदी ने वहां मौजूद लोगों से कहा, ‘यकीन कीजिए हम लोग दुनिया की सबसे डिजीटल अर्थव्यवस्था बनने की दहलीज पर खड़े हैं।’

मोदी ने कहा कि वैश्विक मंदी के बावजूद भारत ने अच्छी बढ़त हासिल करके दिखाई। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार भारतीय अर्थव्यवस्था में बदलाव के लिए पूरी कोशिश कर रही है। मोदी ने कहा कि ‘मेक इन इंडिया’ वैश्विक स्तर पर उतना बड़ा ब्रैंड बन चुका है जो कि भारत के पास पहले नहीं था। उन्होंने बताया कि भारत निर्माण उद्योग में दुनिया में छठा स्थान रखता है।

नोटबंदी पर सुनिए इस शख्स की कविता:

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on January 11, 2017 3:34 pm

  1. S
    Sanjeev
    Jan 12, 2017 at 2:25 am
    इस खबर को लिखने वाले ने टाइटल इस तरह से लिखा है की लोग मोदी जी के खिलाफ हो जाएँ लकिन ऐसी पेड न्यूज़ करने वाला कोई डाला पत्रकार है जो अछि खबर को भी ी बता के लिखता है
    Reply
  2. S
    Sanjeev
    Jan 12, 2017 at 2:29 am
    हेमंत तुम से तुम्हारे घर में कोई रे नहीं लेता होगा यहाँ तुम ड्डूसरों को बता रहे हो ी में तुम्हे खुद के बारे में नहीं पता और मोदी जी के बारे में ज्ञान बाँट रहे हो
    Reply
  3. S
    sach
    Jan 11, 2017 at 10:50 am
    तारीफ़ क्यों नहीं करेंगे? आखिर उनके स्विस खातों की जांच नहीं हुई.... गरीब और गरीब हो गए...अब स्विस बैंकों में खाते वाले गरीब मजबूर लोगों की जमीनें कौड़ियों के भाव खरीद लेंगे....! कहावत हैं न "चोर-चोर मौसेरे भाई.."
    Reply
  4. S
    sach
    Jan 12, 2017 at 3:35 am
    अदानी, हेमा मालिनी, आनंदी बेन की बेटी को कौड़ियों के भाव जमीन दी गई कि नहीं दी गई? देश भर में भाजपा ने जो जमीनें खरीदी वह क्या है?
    Reply
  5. H
    Hemant
    Jan 11, 2017 at 6:42 pm
    Bina budhi Wale konsi samany budhi ki bat karte ho ,modi ne apne bhaio ko koi profit diya ya nahi tum dekh kar aye the kya ,dusri bat modi ko pta he khud ke bhaio ke bare m unme business karne ke koi lakchan nahi he ,isliye dusro ke through apna mal ikahta kar raha he ,modi pura bika hua he ambani ,adani Tata ,malya ke Hathor jesa vo khete ye karta he
    Reply
  6. M
    miss practical
    Jan 11, 2017 at 11:31 am
    मोदी जी ने खुद के भाई और चचेरे भाई को कोई लाभ नहीं दिया तो किसी मोसेरे भाई को क्यों लाभ देंगे , सामान्य भुद्धि का इस्तेमाल करे.
    Reply
  7. Load More Comments
सबरंग