ताज़ा खबर
 

ताजमहल विवाद: संगीत सोम को मिला भाजपा नेताओं का साथ, पर योगी सरकार ने किया किनारा

संगीत सोम ने कहा था कि ताजमहल को इतिहास में क्यों रखा गया है, यह हिंदुओं पर हमला करने वाले 'गद्दारों' ने बनाया था।
भाजपा विधायक संगीत सोम। (फाइल फोटो)

भाजपा नेतृत्व वाली उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने विधायक संगीत सोम के ताजमहल को भारतीय संस्कृति पर ‘धब्बा’ बताने वाले बयान से किनारा कर लिया। संगीत सोम ने कहा था कि ताजमहल को इतिहास में क्यों रखा गया है, इसे हिंदुओं पर हमला करने वाले ‘गद्दारों’ ने बनाया था। इसके बाद भारतीय जनता पार्टी ने संगीत सोम के बयान से दूरी बनाते हुए कहा कि यह उनके ‘व्यक्तिगत विचार’ हैं।

यूपी की पर्यटन मंत्री रीता बहुगुणा जोशी के हवाले से हिंदुस्तान टाइम्स ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है, ‘मुख्यमंत्री इस बात को स्पष्ट कर चुके हैं कि ताजमहल हमारी विरासत का हिस्सा है। हमारी सरकार ने ताज के आसपास पार्क और अन्य सुविधाओं के लिए 155 करोड़ रुपए अनुमोदित किए हैं।’ जब उनसे भाजपा विधायक के बयान के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘देखिए, हर किसी को अपने विचार रखने की छूट है, लेकिन सरकार की नजर में ताजमहल हमारी प्राथमिकता में है।’

इसके साथ ही संगीत सोम के बयान के बाद भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय सचिव सरदार आर पी सिंह ने कहा था कि ताज महल न केवल देशी-विदेशी पर्यटकों का आकर्षण केंद्र है बल्कि वह मुगलकालीन स्थापत्य कला का एक जीता जागता और बेजोड़ नमूना है, जिसकी कद्र पूरी दुनिया करती है। साथ ही सिंह ने कहा कि संगीत सोम जो कह रहे हैं वह उनका विचार है लेकिन इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि ताज महल दुनिया के सात अजूबों में शामिल है।

वहीं वरिष्ठ भाजपा नेता और सांसद सुब्रमण्यम स्वामी की प्रतिक्रिया भी आई। उन्होंने संगीत सोम का बचाव करते हुए टीवी चैनल पर एक डिबेट में स्वामी ने कहा कि ताज महल चोरी की जमीन पर बनाया गया था। स्वामी ने बताया कि शाहजहां ने ताजमहल के लिए जयपुर के राजा पर जमीन के लिए दबाव बनाया था। मुआवजे के तौर पर तब उसे 40 गांव दिए थे। जल्द ही वह उन दस्तावेजों को सबके सामने जाहिर करेंगे। हालांकि, अभी यह कहना जल्दबाजी होगा कि वहां पहले से मंदिर था या नहीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. N
    Nastik
    Oct 17, 2017 at 3:34 am
    जब कु.ता .पा.ग. ल . हो जाये
    (1)(0)
    Reply
    1. N
      Nastik
      Oct 17, 2017 at 3:31 am
      जब हो जाए तो उसके साथ क्या करना चाहिए,,,,,,
      (1)(0)
      Reply
      1. M
        manish agrawal
        Oct 17, 2017 at 12:31 am
        संगीत सोम ! तुम्हारे को क्या मालुम है, हिन्दोस्तान की संस्कृति के बारे में ? सती प्रथा, बाल विवाह, दलितों के साथ जानवरों से बदतर व्यवहार ! यही सब है हिन्दोस्तान की संस्कृति ?
        (2)(0)
        Reply
        1. R
          Ray
          Oct 17, 2017 at 10:19 am
          Kiss party sa hoo.
          (0)(0)
          Reply
        2. M
          manish agrawal
          Oct 17, 2017 at 12:29 am
          संगीत सोम ! चलो ताजमहल तुड़वा देते हैं ! लेकिन फिर गैर-मुल्कों से आये हुए सैलानियों को क्या दिखाओगे ? सांप और नेवले की लड़ाई का मदारी वाला खेल, रस्सी पर चलता हुआ नट और RAMLEELA ? या फिर तांत्रिकों और ज्योतिषियों के चमत्कार ?
          (1)(0)
          Reply
          1. M
            manish agrawal
            Oct 17, 2017 at 12:28 am
            संगीत सोम ! तुम्हारे जैसे अधकचरे और छुटभैये नेता की क्या औकात, की ताजमहल की मज़म्मत करे ? संगीत सोम ! तुम्हे पता है की कानून भी औलाद को नाज़ायज़ नहीं मानता बल्कि उसके वालिदेन को नाज़ायज़ मानता है फिर यदि मुग़ल बादशाह शाहजहां यदि ग़लत थे भी तो ताजमहल कैसे गलत हो सकता है ? ताजमहल तो आज के हिन्दोस्तान की मिल्कियत है, भले ही उसको शाहजहां ने तामीर कराया हो !
            (1)(1)
            Reply
            1. M
              manish agrawal
              Oct 17, 2017 at 12:26 am
              दिल्ली में भी बीजेपी की केंद्र सरकार है और उत्तरप्रदेश में भी बीजेपी ही है ! ऐसा मौका फिर कभी नहीं आएगा क्योंकि " काठ की हांडी बार बार नहीं चढ़ती " ! इसलिए बीजेपी वालों ! चूको मत ! दिल्ली के लाल किले , कुतब मीनार तथा आगरा के ताजमहल और आगरा फोर्ट पर बुलडोज़र चलवा दो ! ना रहेगा बांस ना बजेगी बांसुरी !
              (1)(2)
              Reply
              1. M
                manish agrawal
                Oct 17, 2017 at 12:25 am
                संगीत सोम ! ताजमहल ही हिन्दोस्तान की इकलौती ईमारत है , जिसकी प्रतिकृतियां बिकती हैं और करोड़ों रूपये का मार्किट है, जिसमे हज़ारों लोगों को रोज़गार मिला हुआ है ! देशी और विदेशी पर्यटक आगरा आता ही सिर्फ ताजमहल देखने के लिए ! यदि ताजमहल ना हो तो आगरा की हज़ारों करोड़ की पर्यटन से होने वाली income शून्य हो जायेगी ! यदि ताजमहल न हो, तो आगरा के रेस्त्रां वाले, ढावे वाले, होटल वाले , टेक्सी वाले, ऑटो रिक्शे वाले , टूरिस्ट गाइड इत्यादि क्या करेंगें ? और यदि पर्यटक आगरा आया ही नहीं तो हज़ारों करोड़ रूपये के सामान को शो-रूमों से खरीदेगा कौन ?
                (1)(0)
                Reply
                1. M
                  manish agrawal
                  Oct 17, 2017 at 12:22 am
                  संगीत सोम को शायद मालुम नहीं की उत्तरप्रदेश के 5 सबसे नगरों में से एक, आगरा की पहचान, सारी दुनिया में सिर्फ ताजमहल की वजह से है ! यूरोप, अमेरिका और दीगर मुल्कों से सैलानी सिर्फ ताजमहल का दीदार करने आते हैं, ना की गोरखनाथ मंदिर और रामजन्मभूमि देखने ! अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने ताजमहल को देखा तो उनके मुँह से निकला था AMAZING, MARVELLOUS ! अब संगीत सोम अमेरिकी पर्यटकों को ताजमहल के वजाय गोरखनाथ मंदिर घुमाएंगे तो बेचारे अमेरिकन अपना सिर पीट लेंगें !
                  (1)(0)
                  Reply
                  1. M
                    manish agrawal
                    Oct 17, 2017 at 12:19 am
                    ताजमहल हिन्दोस्तान का सबसे अज़ीमुश्शान शाहकार है , जिसकी शोहरत का परचम सारी दुनिया में पिछले 400 साल से लहरा रहा है ! ताजमहल किसी उत्तरप्रदेश की हक़ीर सी हुकूमत के रहमोकरम का मोहताज़ नहीं ! किसी संगीत सोम की क्या मज़ाल कि ताजमहल का रुतबा जरा सा भी कम कर सके !
                    (1)(0)
                    Reply
                    1. Load More Comments