ताज़ा खबर
 

सुषमा स्वराज: ट्वीट का तो देती हैं फौरन जवाब, पर डेढ़ महीने बाद भी नहीं सुनी खुशवंत सिंह के बेटे की अर्जी

हिमालय हिल स्टेशन के प्रभारी ब्रिगेडियर ने इस कार्यक्रम में पाकिस्तानियों को आमंत्रित करने के मामले में दिल्ली में बैठे उच्च अधिकारियों से अनुमति लेने से इनकार कर दिया था।
Author नई दिल्ली | August 13, 2017 11:13 am
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज। ( फाइल फोटो)

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज अपने ट्विटर हैंडल पर ट्वीट करने वाले लोगों को बिना किसी देरी के तुरंत ही जवाब दे देती हैं लेकिल मशहूर लेखक खुशवंत सिंह के बेटे राहुल सिंह द्वारा स्वराज को भेजी गई अर्जी का अभी तक उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया है। पांच वर्ष से लगातार कसौली में आयोजित होने वाले खुशवंत सिंह लिटफेस्ट का एक बड़ा आकर्षण पाकिस्तानी पत्रकारों और बुद्धिजीवियों का इसमें भाग लेना रहा है। इस मशहूर लिटफेस्ट के पीछे का मकसद दो देशों के ज्यादा से ज्यादा लोगों को इसमें जोड़ना और सभी परेशानियों को दूर करना है।

पिछले साल पहली बार ऐसा हुआ था जब इस कार्यक्रम के आयोजकों ने इसमें पाकिस्तानी लेखकों और बुद्धिजीवियों को आमंत्रित नहीं किया था। कसौली एक बहुत बड़ी सैन्य छावनी है और हिमालय हिल स्टेशन के प्रभारी ब्रिगेडियर ने इस कार्यक्रम में पाकिस्तानियों को आमंत्रित करने के मामले में दिल्ली में बैठे उच्च अधिकारियों से अनुमति लेने से इनकार कर दिया था। खुशवंत सिंह के बेटे और लिटफेस्ट फाउंडेशन के ट्रस्टी पत्रकार राहुल सिंह ने 1 जून को सुषमा स्वराज को अर्जी लिखी थी। उन्होंने अपनी इस अर्जी में अक्टूबर में होने वाले खुशवंत सिंह लिटफेस्ट कार्यक्रम में पाकिस्तानी लेखकों के भारत आने की राह को मंजूरी देने के लिए कहा था।

सुषमा स्वराज यूं तो एनआरआई और देश-विदेश के लोगों के ट्वीट का तुरंत जवाब दे देती हैं लेकिन राहुल द्वारा भेजी गई अर्जी को काफी समय बीत चुका है लेकिन उन्होंने अभी तक उसका जवाब नहीं दिया है। इस अर्जी का जवाब मिलने में होती देरी के कारण अब इस कार्यक्रम के आयोजक विचार कर रहे हैं कि सुषमा स्वराज को इस मामले को लेकर ट्वीट किया जाए, शायद तभी वे इसका जवाब देंगी। फिलहाल कार्यक्रम के आयोजक सुषमा स्वराज के जवाब का इंतजार कर रहे हैं और अगर वे जवाब नहीं देती हैं तो वे लोग स्वराज को ट्वीट कर उनसे जवाब मांगेंगे।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग