ताज़ा खबर
 

राष्ट्रमंडल शिखर सम्मेलन में शामिल होने माल्टा गईं सुषमा स्वराज

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज शुक्रवार से शुरू हो रहे राष्ट्रमंडल शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए माल्टा रवाना हो गईं।
Author नई दिल्ली | November 27, 2015 01:51 am

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज शुक्रवार से शुरू हो रहे राष्ट्रमंडल शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए माल्टा रवाना हो गईं। सम्मेलन में आतंकवाद व हिंसक चरमपंथ से लड़ने और जलवायु संकट से निपटने जैसे मुद्दों पर ध्यान केंद्रित रहने की संभावना है। ब्रिटेन के उपनिवेश रह चुके 53 देशों के ब्लॉक का शिखर सम्मेलन पेरिस में हुए भीषण आतंकी हमलों के दो सप्ताह बाद हो रहा है और उम्मीद है कि इसमें आतंकवाद और चरमपंथ का मुकाबला करने के लिए प्रभावी तौर तरीके ढूंढ़ने पर गहन चर्चा होगी।

भारत राष्ट्रमंडल का सबसे बड़ा सदस्य देश है और सुषमा शिखर सम्मेलन में कई महत्त्वपूर्ण मुद्दों पर भारत का दृष्टिकोण स्पष्ट करेंगी। इसमें 30 से ज्यादा राष्ट्राध्यक्षों व शासन प्रमुखों के शामिल होने की संभावना है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने ट्वीट किया कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज चोगम शिखर सम्मेलन में शामिल होने माल्टा रवाना। तीन दिन तक चलने वाली राष्ट्रमंडल सरकार प्रमुखों की बैठक (चोगम) में जलवायु परिवर्तन से संबंधित व्यापक मुद्दों पर भी चर्चा होने जा रही है और इसमें पेरिस शिखर सम्मेलन से पहले राजनीतिक समर्थन जुटाने की कोशिश की जाएगी ।

जलवायु संकट पर एक विशेष कार्यकारी सत्र होगा, जिसमें पेरिस शिखर सम्मेलन में राष्ट्रमंडल देशों की ओर से एक संयुक्त कटिबद्धता पैदा करने पर विशेष ध्यान के साथ जलवायु संकट जैसे विभिन्न मुद्दों पर चर्चा होगी। सत्र में संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून और फ्रांस के विदेश मंत्री लॉरेंट फेबियस के शामिल होने की संभावना है। चोगम हर दो साल बाद आयोजित होता है और इस साल के लिए थीम ‘एंडिंग ग्लोबल वैल्यू’ है। शिखर सम्मेलन में व्यापार, वाणिज्य, आव्रजन और अन्य मुद्दों पर भी चर्चा होने की संभावना है।

jeवर्ष 2013 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह श्रीलंका में 26 साल तक चले गृहयुद्ध के दौरान कथित मानवाधिकार उल्लंघन को लेकर तमिलनाडु के राजनीतिक दलों और कांग्रेस के एक तबके के विरोध के चलते कोलंबो में आयोजित शिखर सम्मेलन में शामिल नहीं हुए थे। राष्ट्रमंडल देशों की आबादी करीब 2.2 अरब है। इस आबादी में से 60 फीसद से ज्यादा लोग 30 साल से कम उम्र के हैं। समूह में विश्व के कुछ सबसे बड़े, सबसे छोटे, सबसे धनी और सबसे गरीब देश शामिल हैं। इसके 31 सदस्य छोटे देश हैं जिनमें से कई द्वीप देश हैं। महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के भी शिखर सम्मेलन में शामिल होने की संभावना है। माल्टा दूसरी बार शिखर सम्मेलन की मेजबानी कर रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग