ताज़ा खबर
 

अलवर मामला: सुप्रीम कोर्ट ने राजस्थान सरकार से मांगा जवाब, दिया तीन हफ्ते का वक्त

अलवर मामले में सुप्रीम कोर्ट ने राजस्थान सरकार से जवाब मांगा है।
वीडियो से लिया स्क्रीनशॉट

अलवर मामले में सुप्रीम कोर्ट ने राजस्थान सरकार से जवाब मांगा है। शुक्रवार (7 अप्रैल) को सुप्रीम कोर्ट ने राजस्थान सरकार से तीन हफ्तों के अंदर जवाब देने को कहा है। उच्चतम न्यायालय ने गोरक्षा समूहों पर प्रतिबंध की मांग करने वाली याचिका पर राजस्थान समेत छह राज्यों से आज जवाब मांगा। न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा और न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर ने राजस्थान, महाराष्ट्र, गुजरात, झारखंड, कर्नाटक और उत्तर प्रदेश को नोटिस जारी किए और उन्हें तीन सप्ताह में अपना जवाब दायर करने को कहा। पीठ ने मामले की आगे की सुनवाई के लिए तीन मई की तारीख तय की।

याचिकाकर्ता की ओर से पेश हुए वकील ने संक्षिप्त सुनवाई में राजस्थान के अलवर में हाल में हुई घटना का जिक्र किया जिसमें एक व्यक्ति की गोरक्षक समूह ने कथित रूप से हत्या कर दी थी। वकील ने कहा कि इन राज्यों में जमीनी स्थिति चिंताजनक है क्योंकि गोरक्षा समूह वहां हिंसा कर रहे हैं।

केंद्र की ओर से पेश हुए सॉलिसिटर जनरल रंजीत कुमार ने पीठ से कहा कि याचिका पर राज्यों को औपचारिक नोटिस नहीं दिए गए हैं जिसके बाद न्यायालय ने इन छह राज्यों से जवाब मांगा।

न्यायालय ने पिछले साल 21 अक्तूबर को याचिका की समीक्षा पर सहमति जताई थी। याचिका में गोरक्षा समूहों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई है जो कथित रूप से हिंसा कर रहे हैं और दलितों एवं अल्पसंख्यकों पर अत्याचार कर रहे हैं।

सामाजिक कार्यकर्ता तहसीन ए पूनावाला ने अपनी याचिका में कहा कि इन ‘गोरक्षा’ समूहों द्वारा की जाने वाली कथित हिंसा इस हद तक बढ़ गई है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इन लोगों के बारे में कहा था कि वे ‘‘समाज को नष्ट’’ कर रहे हैं।

बता दें कि शनिवार (1 अप्रैल) को अलवर के बहरोड़ हाईवे पर तकरीबन 15 लोगों को बुरी तरह पीटा गया था। उन लोगों को कथित गौ रक्षकों ने पीटा था। पिटाई खा रहे लोगों ने कुछ कागजात भी दिखाए थे। उन लोगों का दावा था कि वे गौ तस्कर नहीं हैं और गायों को जयपुर के मेले से खरीदकर लाए हैं। एक वीडियो भी सामने आया था। उसमें लोगों को पिटाई करते दिखाया गाया था। पुलिस ने बताया था कि हमला करने वाले लोग विश्व हिंदू परिषद (VHP) और बजरंग दल से जुड़े हुए थे।

इस मामले पर संसद में भी हंगामा हुआ था। बीजेपी नेता मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा था कि राजस्थान में ऐसी कोई घटना घटी ही नहीं कांग्रेस ने इस बयान की निंदा करते हुए कहा था कि विदेशी अखबारों तक में घटना तक का जिक्र है लेकिन मंत्रीजी को पता ही नहीं।

देखिए संबंधित वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. H
    Hem Raj
    Apr 7, 2017 at 12:21 pm
    Nakvi Ji don't lie on the reality. You sink in the of politics.For the sake of God don't spread the hatred.You are Minister not a monster. What do you want to say nothing has happened.What is there in Video and in The News Channels.I ashamed of you that a Minister in the Cabinet is telling a white lie in the Parliament.
    (0)(0)
    Reply
    1. M
      Manoj
      Apr 7, 2017 at 12:00 pm
      There has been public ault on many occasion in different parts of India why all are in hurry to show its wisdom when particular religion is involved? after all we are all Indian same before the law they why special treatment to some? why death of some are issue of more concern then death of others? killing of one person is breaking of law machinery. Within 24 hours there has been 6 murder reported from Bihar yesterday why these killing are not braking of law machinery? We must rise above appea t and treat each crime with iron hand including this crime.
      (0)(0)
      Reply
      1. N
        Nadeem Ansari
        Apr 7, 2017 at 12:49 pm
        You should know difference between killing and mob killing..and also taking law in hand just to prove that they are real cow protectors...if they really love cow then 1st they should serve cows in cow shelters.
        (0)(0)
        Reply
      सबरंग