January 20, 2017

ताज़ा खबर

 

श्रीलंकाई पीएम रानिल विक्रमसिंघे बोले, सीमा पार आतंक दक्षेस एजेंडा में शीर्ष पर

श्रीलंका के प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने इस बात पर हैरत जतायी कि क्या आठ सदस्यों का यह समूह बना रह पाएगा।

Author नई दिल्ली | October 6, 2016 21:23 pm
श्रीलंका के प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे (पीटीआई फाइल फोटो)

सीमा पार आतंकवाद को दक्षेस के एजेंडा पर शीर्ष स्थान देते हुए श्रीलंका के प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने गुरुवार (6 अक्टूबर) को कहा कि भारत एवं पाकिस्तान के बीच तनाव का प्रभाव समूह पर होगा। उन्होंने इस बात पर हैरत जतायी कि क्या आठ सदस्यों का यह समूह बना रह पाएगा। उन्होंने कहा कि आठ सदस्यों के इस समूह में आर्थिक गतिविधियां बहुत कम हैं तथा दक्षिण एशियाई उप महाद्वीप में समन्वय का एक तरह से कोई काम नहीं हुआ है। उन्होंने पूछा कि क्या दक्षेस गहरे सहयोग एवं समन्वय की दिशा में आगे बढ़ना चाहता है। भारत और पाकिस्तान के बीच मौजूदा तनाव के बारे में पूछे जाने पर जिसके कारण दक्षेस शिखर बैठक रद्द कर दी गयी, विक्रमसिंघे ने कहा, ‘ये वे मुद्दे हैं, जिन्होंने दक्षिण एशिया को अपने शिकंजे में ले रखा है। इसका दक्षेस पर असर है। दक्षेस बना रह पाएगा या नहीं।’

भारत आर्थिक शिखर बैठक में यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ‘सीमापार आतंकवाद एजेंडा के शीर्ष पर है। हालांकि हम नहीं चाहते थे कि यह वहां हो, पर यह वहां पहुंच गया।’ उन्होंने कहा कि अधिकतर मुद्दे पाकिस्तान, अफगानिस्तान एवं भारत के बीच हैं। उन्होंने कहा, ‘हमें उम्मीद करनी चाहिए कि चीजों का हल निकल आएगा।’ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तथा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह एवं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी सहित अन्य भारतीय राजनीतिक नेताओं के काफी संयम बरतने और दूरदृष्टि अपनाने की सराहना करते हुए विक्रमसिंघे ने कहा, ‘यह बहुत-बहुत कठिन स्थिति है, जिसमें मीडिया आप को अतिवादी कदम उठाने के लिए प्रेरित कर सकता है जो उपयुक्त नहीं है, मैं कठिनाइयां जानता हूं, मैं उनसे गुजरा हूं। आपने वाकई में कूटनीतिक रवैया अपनाया।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 6, 2016 9:23 pm

सबरंग