ताज़ा खबर
 

अगस्‍ता वेस्‍टलैंड चॉपर केस: पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्‍यागी को जमानत, दिल्‍ली-एनसीआर से बाहर जाने पर रोक

त्‍यागी को अगस्‍ता वेस्‍टलैंड वीवीआईपी चॉपर डील में घूस मामले में गिरफ्तार किया गया था।
पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्‍यागी के विदेश जाने पर लगाई रोक। (फाइल फोटो)

पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्‍यागी पटियाला हाउस कोर्ट ने जमानत दे दी है। त्‍यागी को अगस्‍ता वेस्‍टलैंड वीवीआईपी चॉपर डील में घूस मामले में गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद उन्‍हें हिरासत में भेज दिया गया था। कोर्ट ने त्‍यागी को दो लाख रुपये के मुचलके पर जमानत दी है। साथ ही हिदायत दी है कि वे दिल्‍ली-एनसीआर छोड़कर ना जाएं और सबूतों से भी छेड़छाड़ ना करें। हालांकि कोर्ट ने संजीव त्‍यागी और गौतम खेतान की जमानत याचिका पर सुनवाई टाल दी। इन दोनों की याचिका पर सुनवाई चार जनवरी को होगी, तब तक दोनों न्‍यायिक हिरासत में रहेंगे।

त्‍यागी को सीबीआई ने नौ दिसंबर को गिरफ्तार किया था। उनके साथ ही गौतम खेतान और संजीव त्‍यागी उर्फ जूली त्‍यागी को भी गिरफ्तार किया गया था। सीबीआई ने बताया था कि तीनों को अवैध व भ्रष्‍ट तरीकों के जरिए दबाव डालकर अवैध फायदा लेने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। संजीव त्‍यागी पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्‍यागी के चचेरे भार्इ हैं। वहीं गौतम खेतान त्‍यागी के भाई हैं। छह साल पुराने अगस्‍ता वेस्‍टलैंड केस में इस कंपनी को ठेका दिलाने के लिए घूस लेने का मामला सामने आया था। सीबीआई मामले की जांच कर रही है।

त्‍यागी ने खुद को इस मामले में बेकसूर बताया है। उन्‍होंने कोर्ट में कहा था, ”मैं भ्रष्‍ट आदमी नहीं हूं। मैं अपने बैंक खातों की जानकारी दे सकता हूं। मैंने जमीन 2002 में खरीदी थी और हर बात की जानकारी सबके सामने है। इस देश में जब आप गिरफ्तार हो जाते हैं तो आप गिरफ्तार ही रहते हैं। आप टीवी चैनलों पर होते हैं।” त्‍यागी ने अगस्‍ता केस में मनमोहन सिंह सरकार के दफ्तर को भी घसीटा था। वहीं

सीबीआई ने कोर्ट से कहा था, ”अगस्‍ता लगातार मिडिलमैन से बात कर रही थी। घूस दी जा रही थी। मामले में जांच की जा रही है।” उसकी ओर से कहा गया कि अगस्‍ता के अधिकारियों ने एसपी त्‍यागी से उनके घर पर मुलाकात की थी। उन्‍हें त्‍यागी के खिलाफ इटली और मॉरिशस से फंसाने वाले दस्‍तावेज मिले हैं। त्‍यागी के वायुसेना प्रमुख रहने के दौरान उनके परिवार ने खेती की जमीन में निवेश किया था। इस संबंध में उनसे पूछताछ जरूरी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.