ताज़ा खबर
 

इशरत मामले में सतीश वर्मा ने तोड़ी चुप्‍पी, बोले- उसकी पूर्वनियोजित हत्‍या की गई, आतंकी कहने पर उठाए सवाल

वर्मा ने कहा, राष्‍ट्रवाद और सुरक्षा के नाम पर एक गरीब और मासूम लड़की का नाम खराब किया जा रहा है जिससे अपराध में शामिल लोगों के माकूल माहौल बनाया जा सके।
सतीश वर्मा इशरत जहां मामले में गुजरात हाईकोर्ट की ओर से बनार्इ गई एसआईटी के सदस्‍य थे।

इशरत जहां मुठभेड़ मामले में सीबीआई जांच में शामिल आईपीएस सतीश वर्मा ने चुप्‍पी तोड़ते हुए बुधवार को कहा कि उसकी मौत पूर्वनियोजित हत्‍या थी। उन्होंने इंडियन एक्‍सप्रेस से कहा, ‘हमारी जांच में पता चला है कि एनकाउंटर से कुछ दिन पहले आईबी अधिकारियों ने इशरत जहां और उसके तीन साथियों को उठा लिया था। गौर करने वाली बात ये है कि उस वक्त भी आईबी के पास इस बात के सबूत या संकेत नहीं थे कि एक महिला आतंकियों के साथ मिली हुई है। इन लोगों को गैर कानूनी रूप से कस्टडी में रखा गया और फिर मार डाला गया।’ वर्मा गुजरात हाईकोर्ट की ओर से बनार्इ गई एसआईटी के सदस्‍य थे।

वर्तमान में वर्मा शिलॉन्‍ग में नेपको में मुख्‍य सतर्कता अधिकारी के रूप में पदस्‍थ हैं। उन्‍होंने कहा,’ अब ऐसा हो रहा है राष्‍ट्रवाद और सुरक्षा के नाम पर एक गरीब और मासूम लड़की का नाम खराब किया जा रहा है जिससे कि इस अपराध में शामिल लोगों के माकूल माहौल बनाया जा सके।’ उन्‍होंने इशरत के लश्‍कर ए तैयबा आतंकी और आत्‍मघाती हमलावर होने का भी खंडन किया। वर्मा ने कहा कि जावेद शेख के संपर्क में आने के बाद वह अपने घर और परिवार से केवल 10 दिन दूर रही। एक आत्‍मघाती हमलावर और लश्‍कर का आतंकी बनाने के लिए लंबा समय लगता है। 303 राइफल को भी सही तरीके से चलाने के लिए 15 दिन का समय लगता है। जितने समय तक वह बाहर रही उसमें उसे फिदायीन नहीं बनाया जा सकता।

Read Alsoपूर्व गृह सचिव बोले- आतंकी थी इशरत, वरना बिनब्‍याही मुस्लिम लड़की किसी शादीशुदा शख्‍स के साथ नहीं जाती

वर्मा ने पूर्व अंडर सेक्रेटरी आरवीएस मणि के आरोपों का भी खंडन किया। उन्‍होंने कहा कि पिल्‍लई इंटेलिजेंस अधिकारी नहीं है। सतीश वर्मा ने कहा कि मणि को मामले की सीधी जानकारी नहीं थी। मणि की ओर से लगाए गए आरोप पुराने हैं। बता दें कि मणि ने आरोप लगाया था कि उन्‍हें इस मामले में प्रताडि़त किया गया। सतीश वर्मा ने उन्‍हें सिगरेट से दागा।

Read Also:  इशरत जहां केस: पूर्व अंडर सेक्रेटरी का दावा- आईबी को फंसाने के लिए उन्‍हें प्रताडि़त किया गया

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    amin sayyad
    Mar 3, 2016 at 8:34 am
    यही काम करते आई हैं सरकार बेकसूर मुसलमानो को फंसना और उनको जेलों मैं बंद करना और १४/१५ साल जेल मैं बंद करके उनकी ज़िन्दगी बर्बाद करना यही होता आया हैं और असली मुजरिम बाहर आज़ाद घूम रहे हैं अल्लाह रहम करे
    (2)(0)
    Reply