ताज़ा खबर
 

दिवाली पर लक्ष्मी गणेश के साथ लैपटॉप, आईपैड की पूजा

नयी दिल्ली: दिवाली के दिन व्यापारी अपने कारोबार की उन्नति के लिए लक्ष्मी, गणेश की पूजा करने के साथ साथ अब लैपटॉप और आईपैड की भी पूजा करेंगे। व्यापारी अब नये बही खाते नहीं खोलते बल्कि कंप्यूटर पर ही उनके खातों का हिसाब होता इसलिये उसीमें स्वास्तिक का चिन्ह बनाकर पूजा की जाने लगी है। […]
Author October 22, 2014 17:23 pm

नयी दिल्ली: दिवाली के दिन व्यापारी अपने कारोबार की उन्नति के लिए लक्ष्मी, गणेश की पूजा करने के साथ साथ अब लैपटॉप और आईपैड की भी पूजा करेंगे। व्यापारी अब नये बही खाते नहीं खोलते बल्कि कंप्यूटर पर ही उनके खातों का हिसाब होता इसलिये उसीमें स्वास्तिक का चिन्ह बनाकर पूजा की जाने लगी है।

आॅनलाइन कारोबार से मिल रही चुनौती के बीच अब आम व्यापारी भी कंप्यूटर और इंटरनेट जैसे आधुनिक आईटी उपकरणों का इस्तेमाल करने लगा है। सौदे लिखने और बही का हिसाब अब खाता खतौनी में नहीं बल्कि कंप्यूटर नेटवर्क के जरिये होता है।

व्यापारियों के प्रमुख संगठन कनफेडरेशन आॅफ आॅल इंडिया ट्रेडर्स :कैट: के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने ‘भाषा’ से कहा कि व्यापारी लक्ष्मी गणेश के साथ कंप्यूटर, लैपटॉप और आईपैड की भी पूजा करेंगे। उन्होंने कहा कि हमने देशभर में व्यापारियों से कहा है कि वे आॅनलाइन शॉपिंग कंपनियों से मिल रही चुनौती से निपटने के लिए खुद भी आधुनिक प्रौद्योगिकी का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें।

आमतौर पर दिवाली पर व्यापारी अपने पुराने बही खातों के स्थान पर नई किताबें खोलते हैं और उसमें स्वास्तिक का चिन्ह लगाकर नये शक् संवत वर्ष का पहला सौदा लिखकर पूजा की जाती रही है।

हालांकि, आधुनिक प्रौद्योगिकी के बावजूद व्यापारियों का कहना है कि लक्ष्मी गणेश पूजा के साथ ही बहुत से दुकानदार दिवाली के दिन हवन भी कराते हैं।

कनफेडरेशन आॅफ सदर बाजार ट्रेड्स एसोसिएशन के महासचिव देवराज बवेजा ने भी कहा कि निश्चित रूप से आज दिवाली पूजन आधुनिक हो गया है। उन्होंने कहा कि व्यापारी अपना हिसाब किताब जिस भी रूप में रखते हों … मसलन किताब या कंप्यूटर पूजा उसी की होती है। आज ज्यादातर बड़े व्यापारी कंप्यूटरों में ही हिसाब किताब रखते हैं। ऐसे में दिवाली पूजन में वे कंप्यूटर, लैपटॉप आदि की भी पूजा करते हैं।

इस बार की दिवाली पर व्यापारी नये शक संवत वर्ष 2071 के लिये दोपहर एक से शाम पांच बजे तक पूजन करेंगे। व्यापारियों का कहना है कि दिवाली पर आमतौर पर वे शाम पांच बजे तक दुकान बंद कर देते हैं।

खंडेलवाल ने कहा कि आॅनलाइन शापिंग ने व्यापारियों को काफी नुकसान पहुंचाया है। ऐसे में यह जरूरी हो गया है कि खुदरा दुकानदार और व्यापारी भी आधुनिक प्रौद्योगिकी को अपनाएं। दिवाली एक ऐसा पर्व है जो व्यापारियों के लिए काफी महत्वपूर्ण होता है।

यही वजह है कि हमने व्यापारियों से दिवाली पर लक्ष्मी गणेश के साथ प्रौद्योगिकी के उपकरणों मसलन कंप्यूटर, लैपटॉप, आईपैड, मोबाइल आदि की भी पूजा करने को कहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. I
    iqbal gajjan
    Oct 23, 2014 at 6:00 am
    कंप्यूटर नेट वर्क सिस्टम को अज्ञान की नही विज्ञान की बुधि की जरूरत होती है .....विशवास आशी चीज है .....अंधविश्वास ी चीज होती है ......कम्प्यूटर को साफ़ रखना चाहिए ....विज्ञान की जानकारी भी उतनी जरूरी है .......विज्ञान की चापलूसी करना समय को नष्ट करना है ......!!!
    (0)(0)
    Reply
    1. I
      iqbal gajjan
      Oct 23, 2014 at 6:04 am
      विज्ञान की वस्तू की पूजा करना अंधविश्वास ही होता है ........
      (0)(0)
      Reply
      सबरंग