December 03, 2016

ताज़ा खबर

 

पाकिस्तानी जासूसी गिरोह का चौथा आरोपी शोएब छह बार गया था पाकिस्तान

आरोपी शोएब हसन को 11 दिन की पुलिस रिमाड पर जांच एंजंसी को सौंप दिया गया।

Author नई दिल्ली | October 28, 2016 21:43 pm
जोधपुर से गिरफ्तार पाकिस्तान के लिए जासूसी करने के आरोपी को नई दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच में मीडिया के सामने दिखाते पुलिसकर्मी (सादे कपड़े में)। (REUTERS/Adnan Abidi/28 Oct, 2016)

जासूसी गिरोह में शामिल होने के आरोपी शोएब हसन को जोधपुर से लाए जाने के बाद यहां गिरफ्तार किया गया। इसके तुरंत बाद शोएब को दिल्ली की एक अदालत में पेश किया गया। आरोपी शोएब हसन को 11 दिन की पुलिस रिमाड पर जांच एंजंसी को सौंप दिया गया। पुलिस ने दावा किया है कि वह तीन-चार साल से पाकिस्तानी उच्चायोग के निष्कासित कर्मी के संपर्क में था। वह छह बार पाकिस्तान भी गया था। जांचकर्ताओं ने बताया कि उसके पास से जब्त एक ‘फैबलेट’ से डाटा हासिल करने का प्रयास किया जाएगा जिसे उसने गुरुवार (27 अक्टूबर) की रात जोधपुर में पुलिस की ओर से हिरासत में लिए जाने के वक्त क्षतिग्रस्त करने का प्रयास किया था। अधिकारी उससे तथा इस मामले में गिरफ्तार दो अन्य कथित जासूसों सुभाष जांगीर और मौलाना रमजान से पूछताछ करेंगे। आरोप है कि पासपोर्ट और वीजा एजेंट शोएब माड्यूल में सुभाष और मौलाना को शामिल करने के लिए जिम्मेदार है। संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध) रवींद्र यादव ने कहा-शोएब ने कम से कम छह बार पाकिस्तान का दौरा किया जहां उसकी नाना नानी रहते हैं। उन्होंने कहा कि वह तीन चार साल से पाकिस्तान उच्चायोग के कर्मी महमूद अख्तर के संपर्क में था।

यादव ने बताया कि शोएब के पास से कुछ दस्तावेज और एक फैबलेट बरामद हुआ है। उन्होंने यह भी बताया कि उसके पास से कुछ गोपनीय दस्तावेज बरामद हुए। उसने फैबलेट क्षतिग्रस्त करने का भी प्रयास किया ताकि डेटा हासिल नहीं हो सके लेकिन हम जानकारी हासिल करने का प्रयास करेंगे। सुभाष और मौलाना ने पुलिस को बताया था कि शोएब भी दिल्ली चिडियाघर पर मौजूद था, जब वे अख्तर को दस्तावेज सौंपने गए थे। शोएब ने पुलिस को बताया कि वह एक होटल में था। यादव ने कहा कि वह होटल में रुका था जबकि अन्य दो दस्तावेज सौंपने चिडियाघर गए थे। जब उसने देखा कि दो अन्य का मोबाइल बंद आ रहा है तो उसे कुछ गलत होने की आभास हुआ। और वह दिल्ली से जोधपुर की ओर फरार हो गया। दिल्ली पुलिस के मुताबिक उसने शोएब को हिरासत में लेने के लिए जोधपुर पुलिस से अनुरोध किया था और उसे शुक्रवार (28 अक्टूबर) रात हिरासत में लिया गया।

अधिकारी ने कहा कि शोएब से सुभाष और मौलाना के साथ पूछताछ की जाएगी ताकि उसकी बातों के विरोधाभास के बारे में सही जानकारी मिल सके। शोएब के परिवार की जोधपुर में कपड़े की दुकान है। वह अपने परिवार के कारोबार में शामिल था और पासपोर्ट एवं वीजा एजेंट के रूप में भी काम कर रहा था। बता दें कि अख्तर को अवांछित व्यक्ति घोषित किया जा चुका है। उसे 48 घंटे के भीतर देश छोडने के निर्देश गुरुवार को ही दिए जा चुके हैं। जबकि सुभाष और मौलाना को भारत-पाकिस्तान सीमा के पास सीमा सुरक्षा बल की तैनाती की जानकारी, संवेदनशील सूचना एवं रक्षा दस्तावेज साझा करने के आरोप में 12 दिन की पुलिस रिमांड पर हैं। अधिकारी ने बताया कि शोएब करीब डेढ़ साल पहले मौलाना के संपर्क में आया था और उसने उसे गुजरात एवं राजस्थान में सेना एवं अर्द्धसैन्य बलों के ठिकानों के बारे में अहम सूचना एकत्र करने की गतिविधियों में शामिल होने के लिए फुसलाया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 28, 2016 9:39 pm

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग