ताज़ा खबर
 

Sheena Bora Murder Case: इंद्राणी ने कबूल की हत्या की बात, लैपटॉप की जांच शुरू

खार पुलिस ने बुधवार को शीना बोरा हत्याकांड मामले में पीटर को पूछताछ के लिए थाने में बुलाया। पुलिस ने पीटर का बयान दर्ज करने के साथ ही उनकी उपस्थिति में तीनों अभियुक्तों इंद्राणी, उसके पूर्व पति संजीव और ड्राइवर श्याम राय से पूछताछ की। दो घंटे की पूछताछ के बाद पुलिस टीम पीटर के घर की छानबीन करने गई।
Author मुंबई | September 3, 2015 15:44 pm
शीना मर्डर केस: पीटर मुखर्जी के घर की तलाशी, लैपटॉप जब्त

खार पुलिस ने बुधवार को शीना बोरा हत्याकांड मामले में पीटर को पूछताछ के लिए थाने में बुलाया। पुलिस ने पीटर का बयान दर्ज करने के साथ ही उनकी उपस्थिति में तीनों अभियुक्तों इंद्राणी, उसके पूर्व पति संजीव और ड्राइवर श्याम राय से पूछताछ की। दो घंटे की पूछताछ के बाद पुलिस टीम पीटर के घर की छानबीन करने गई।

पुलिस ने छानबीन का ब्योरा सार्वजनिक नहीं किया है। उधर, खार पुलिस की एक टीम इंद्राणी और संजीव के लैपटॉप और मोबाइल फोन के डेटा की जांच में लगी है। शीना और इंद्राणी के ईमेल-ब्योरे की जांच से यह बात सामने आ रही है कि दोनों के बीच बहुत कड़वाहट थी।

बुधवार को बयान दर्ज करवाने सुबह साढ़े दस बजे खार पुलिस थाने पहुंचे मुखर्जी के साथ उनके वकील भी थे। पीटर को पिछले शुक्रवार की शाम भी पूछताछ के लिए बुलाया गया था, मगर विस्तार से उनका बयान दर्ज नहीं हुआ था। इंद्राणी की गिरफ्तारी के बाद पीटर का कहना था कि उन्हें यह नहीं पता था कि शीना इंद्राणी की बहन नहीं बल्कि बेटी है। बाद में पीटर ने माना कि उन्हें शीना बोरा के अलावा उनके बेटे राहुल ने भी लगभग दो साल पहले बताया था कि शीना इंद्राणी की बहन नहीं बल्कि बेटी है, मगर उन्होंने उन पर विश्वास नहीं किया।

इस बीच शीना को अमेरिका में जिंदा बताने और उसकी हत्या से इनकार करनेवाली इंद्राणी आखिर मंगलवार की रात टूट गई। इंद्राणी ने पहली बार माना कि उसने शीना की हत्या की मगर मिखाइल की हत्या करने की कोशिश के आरोपों से उसने साफ इनकार किया। इससे पहले सोमवार को इंद्राणी बांद्रा मेट्रोपोलिटिन मजिस्ट्रेट की अदालत में अपनी बेटी विधि मुखर्जी से मिली थी। इसके बाद रात को पुलिस ने इंद्राणी से फिर पूछताछ शुरू की थी जिसमें उसने हत्या की बात कबूल की।

सोमवार को बांद्रा मेट्रोपोलिटिन मजिस्ट्रेट के सामने इंद्राणी, उसके पूर्व पति संजीव खन्ना और ड्राइवर श्याम राय तीनों को पेश किया गया। इसके बाद अदालत ने उन्हें पांच सितंबर तक पुलिस हिरासत में भेज दिया। नौ दिनों की पुलिस हवालात की जिंदगी ने इंद्राणी को तोड़ दिया है। सुबह नाश्ते में चाय पाव और दोपहर को दाल-चावल खा खाकर इंद्राणी परेशान हो गई है। पुलिस उसे घर और बाहर का खाना नहीं खाने दे रही है। दूसरी ओर इंद्राणी का पूर्व पति संजीव खन्ना भी पुलिस से बार-बार सिगरेट की मांग करता रहता है।

शीना हत्याकांड में शव नहीं मिल पाने के कारण पुलिस परिस्थितजन्य साक्ष्य जुटाने पर जोर दे रही है। पुलिस ने तीनों अभियुक्तों से पूछताछ के बाद पता लगाया है कि पांच हजार रुपए में दो बैग दादर के फुटपाथ से खरीदे गए थे। खरीदे गए दो बैगों में से एक में शीना बोरा का शव रखकर पेट्रोल डालकर जलाया गया था। दूसरा बैग पुलिस इंद्राणी के घर से बरामद कर चुकी है। पुलिस का मानना है कि इंद्राणी ने अपने बेटे मिखाइल की हत्या के बाद उसका शव रखने के लिए दूसरा बैग अपने घर में रखा था। मिखाइल पुलिस को बयान दे चुका है कि इंद्राणी ने चार बार उसकी हत्या की कोशिश की थी।

उधर, रायगढ़ में शीना बोरा के कथित शव मिलने के बाद पुलिस ने कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं की थी और आगे की कार्रवाई में लापरवाही बरती थी, इसकी जांच शुरू हो चुकी है। पुलिस पाटील गणेश ढेणे द्वारा अज्ञात शव की सूचना मिलने के बाद उपविभागीय अधिकारी प्रदीप चव्हाण और पुणे पुलिस इंस्पेक्टर सुदेश मिरगे ने पंचनामा बनाकर शव के अवशेष रासायनिक जांच के लिए भिजवा कर शव को दफन कर दिया था।

इस लापरवाही के बाद पुलिस महानिदेशक संजीव दयाल ने रायगढ़ के तत्कालीन पुलिस अधीक्षक आरडी शिंदे को जांच के आदेश दिए हैं। चौहान इस समय अकोला में, मिरगे पुणे में और शिंदे मध्यक्षेत्र मुंबई के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त के रूप में पदस्थ हैं। इन तीनों की जांच शुरू हो चुकी है। कोकण क्षेत्र आइजी प्रशांत बुराडे ने जांच का काम पुलिस अधीक्षक सुवेज हक को सौंपा है।

जांच के आदेश मिलने के बाद सोमवार को पुणे के दो पुलिस कर्मचारियों से पूछताछ की गई। मंगलवार को हक ने चव्हाण, मिरगे और सहायक निरीक्षक धांडे से देर रात तक पूछताछ की। पूछताछ में यह बात उभर कर सामने आ रही है कि ऊपरी दबाव के चलते इस मामले की जांच रोकी गई थी। यहां तक कि आधी लिखी हुई प्राथमिकी भी एक फोन आने के बाद निरस्त कर दी गई थी। यह फोन किसका था, अब इसकी जांच की जा रही है। अंदेशा है कि शीना की हत्या करने के बावजूद इंद्राणी का ध्यान गोगादे में होनेवाली गतिविधियों पर लगा था और उसने ही स्थानीय स्तर पर शुरू हुई जांच को रुकवाने के लिए अपने संपर्कों की मदद ली।

शीना बोरा हत्याकांड को सुलझाने के लिए पुलिस गोगादे के जंगलों से मिली खोपड़ी को ‘फेशियल रीकंस्ट्रक्शन’ के जरिए एक आकार देना चाहती है। निठारी हत्याकांड में इस तकनीक से बच्चों के चेहरे तैयार किए गए थे। गोगादे के जंगल से मिली खोपड़ी से कौनसा चेहरा उभरता है, पुलिस यह देखना चाहती है। मुंबई के केईएम अस्पताल में यह सुविधा मौजूद है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग