ताज़ा खबर
 

भगोड़े विजय माल्या समेत 63 कर्जदारों से 7000 करोड़ रुपये नहीं वसूलेगी SBI

विजय माल्या की किंगफिशर एयरलाइंस पर 17 बैंकों का कुल 6993 करोड़ रुपये बकाया है जिसमें 1201 करोड़ रुपये एसबीआई के हैं।
विजय माल्या पर विभिन्न भारतीय बैंकों का 9000 करोड़ रुपये कर्ज है (फाइल फोटो)

भारत के सार्वजनिक क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने भगोड़ा घोषित कारोबारी विजय माल्या समेत 63 कर्जदारों का करीब सात हजार करोड़ रुपये का बकाया लोन को डूबा हुआ मान लिया है। ये राशि एसबीआई के शीर्ष 100 लोन डिफाल्टरों (बकाया नहीं चुकाने वाले) पर बाकी कुल राशि का करीब 80 प्रतिशत है। बैड लोन (वसूला न जा सकना वाला लोन) का मुद्दा पिछले कुछ सालों से चर्चा में रहा है। कारोबारी विजय माल्या पर विभिन्न बैंकों का नौ हजार करोड़ रुपये का बकाया था। जब सभी बैंक मिलकर बकाया वसूलने के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंचे तो माल्या देश से फरार हो गए। डीएनए की रिपोर्ट के अनुसार एसबीआई जब बकाया लोन वसूल करने में विफल रही तो उसने शीर्ष 100 विलफुट डिफाल्टरों (जो लोन नहीं दे रहे) में से 60 से अधिक पर बकाया 7016 करोड़ रुपये का लोन माफ करने का फैसला कर लिया है। हालांकि वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बुधवार (16 नवंबर) को राज्य सभा इससे जुड़े एक सवाल के जवाब में कहा गया है कि इस कर्ज को माफ नहीं किया गया है और इसे वसूलने की कोशिश जारी रहेगी।

रिपोर्ट के अनुसार एसबीआई के 63 डिफाल्टरों का पूरा कर्ज छोड़ दिया है। वहीं 31 कर्जदारों का लोन आंशिक तौर पर छोड़ा गया है। छह अन्य कर्जदारों पर बकाया लोन को नॉन पर्फॉर्मिंग एसेट (एनपीए) घोषित कर दिया गया है। 30 जून 2016 तक एसबीआई 48 हजार करोड़ रुपये का बैड लोन माफ कर चुका है। हालांकि ये लोन कब माफ किए गए इसकी तारीख नहीं बताई गई है। भारत के सबसे बड़े सार्वजनिक बैंक ने इन कर्जदारों का कर्ज “टॉक्सिक लोन” के मद में डाल दिया है। एडवांस अंडर कलेक्शन अकाउंट (एयूसीए) के तहत “टॉक्सिक लोन” का मतलब होता है बहीखाते से हटा देना। यानी एसबीआई के इस फैसले के बाद विजय माल्या की किंगफिशर एयरलाइंस समेत 63 कर्जदारों का कर्ज बैंक की बैलेंसशीट से हटा दिया जाएगा। इसका ये अर्थ हुआ कि बैंक अब इन कर्जदारों से कर्ज वसूलेनी की कोशिश बंद कर देगा।

जिन लोगों का कर्ज छोड़ा गया है उनमें किंगफिशर एयरलाइंस ( करीब 1201 करोड़ रुपये), केएस ऑयल (596 करोड़ रुपये), सूर्या फार्मास्यूटिकल (526 करोड़ रुपये), जीईटी पावर (400 करोड़ रुपये) और साई इंफो सिस्टम (376 करोड़ रुपये) शामिल हैं। डीएनए अखबार ने जब इस मसले पर एसबीआई और कर्ज छूट का लाभ पाने वाली शीर्ष पांच कंपनियों से संपर्क की कोशिश की तो उसे कोई जवाब नहीं मिला।इन सभी कंपनियों को विलफुल डिफॉल्टर घोषित किया जा चुका है। किंगफिशर एयरलाइंस पर 17 बैंकों का कुल 6993 करोड़ रुपये बकाया है जिसमें 1201 करोड़ रुपये एसबीआई के हैं।

प्रवर्तन निदेशालय ने शराब कारोबारी विजय माल्या और अन्य के खिलाफ धन शोधन से जुड़े मामलों में 1620 करोड़ रुपये की नई संपत्तियों को कुर्क कर लिया है। यह कार्रवाई धन शोधन से जुड़े मामलों को देखने वाली विशेष अदालत की अनुमति से की गयी। वहीं दिल्ली की अदालत ने विजय माल्या के खिलाफ दो गैर-जमानती वारंट जारी किए हैं। पहला वारंट फेरा के उल्लंघन के एक मामले में सम्मनों की कथित तौर पर तामील न करने पर जारी किया गया है। वहीं दूसरा 2012 में चेक बाउंस को लेकर दायर डीआईएएल की एक याचिका पर जारी किया गया है।

वीडियोः अदालत ने विजय माल्या से विदेशी संपत्ति का ब्योरा देने के लिए कहा है-

वीडियोः 2000 का नया नोट असली है या नकली इसे आप चुटकियों में पहचान सकते हैं-

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Ajit Rajput
    Nov 16, 2016 at 10:16 am
    ये निर्णय लोगो में गलत सन्देश भेजेगा, जो लोग ईमानदारी से अपना कर्ज भर रहे है वो है. ये तो पुराने डकैतो के द्वारा लूटने जैसा हो गया. वो जब चाहिए अपनी मनमानी कर सकते है क्यू की उनके पास पैसा है तागत है. वो कानून को अपने मुताबिक नाचा सकते है इस देश से आसानी से भाग सकते है. और आम आदमी सिर्फ बैठ के तमाशा देखता है.और न्यूज़ चैनल टीआरपी काम लेती है. बस ये ज़िन्दगी रह गयी है इस देश में. सजा क्या होती है ये देखना बाकि रह गया है जो दिखती नहीं है. बस आस में ज़िन्दगी कट रही है.
    (2)(0)
    Reply
    1. अनादि मिश्र
      Nov 17, 2016 at 12:48 am
      पत्रकार महोदय write off और waiver दोनी शब्दो में बहुत अंतर है अपने हैडलाइन को सुधारें और माफ़ी आगे नहीं गलत न्यूज़ के रिपोर्ट करूँगा
      (0)(0)
      Reply
      1. M
        MMK
        Nov 17, 2016 at 4:10 am
        Tum kon hote hoo patakha ko ulta sakta bolne waale.. Apni limits mat bhoolo
        (0)(0)
        Reply
        1. G
          G.D.Bairwa
          Nov 16, 2016 at 10:42 am
          मान्यवर -----साहब ने माँ का दूध पिया हे तो यंहा सर्जिकल स्ट्राइक करके दिखाए
          (1)(0)
          Reply
          1. A
            akshayjethi
            Nov 16, 2016 at 6:21 pm
            देश के साथ इमोशनल खिलवाड़,हिम सुब पक्ष पैट छोड़ के देश के भविष्य और देश के बछो इ साथ किलवाड़ न करे वोह अच्छा रहेगा, निश्पक्षता से सोचे, आपने दिल को , आत्मा को पूछ के सच्चे लोग, सकारात्मक काम करने वालो का साथ से च है कोई भी पक्ष का beta
            (0)(0)
            Reply
            1. S
              sc amba
              Nov 18, 2016 at 6:45 am
              पैसा जमा करने पर 200% की पेनल्टी का फार्मूला इस लिए है की लोग ज्यादा पैसा जमा नहीं करेंगे तो रिज़र्व बैंक जनवरी से ज्यादा पैसा प्रिंट कर सकेगा,,ज्यादा पैसा मतलब ज्यादा लोन दिया जा सकेगा,,आगे भी तो चुनाव लड़ना है,,बिना घोटाले किये,,ये मोदी/ बीजेपी को इलेक्शन के लिए दी गई रकम मालूम होती है, बैंको में रखा गया जनता का पैसा ही नहीं बल्कि जनता लुट रही है....
              (0)(0)
              Reply
              1. S
                Sidheswar Misra
                Nov 16, 2016 at 10:52 am
                ईमानदार सरकार का चेहरा है भष्टाचार किसे कहते है . मोदी की सरकार पर यह काला दाग नहीं यह नजर न लगे का काला टिका है .
                (0)(1)
                Reply
                1. S
                  Shyam Singh Rawat
                  Dec 15, 2016 at 5:56 am
                  देश की जनता की खून-पसीने की कमाई के 6993 करोड़ रुपये के देनदार और भगौड़े विजय माल्या का यह अंगूठा भारत सरकार को मुँह चिढ़ाता है, जैसे चुनौती दे रहा हो--'कर लो मेरा क्या बि़ लोगे'। माल्या समेत 63 कर्जदारों से 7000 करोड़ रुपये नहीं वसूलेगा भारतीय स्टेट बैंक। न जाने क्यों सरकार हुई बेबस और मूक-दर्शक।
                  (0)(0)
                  Reply
                  1. P
                    Prashant Mishra
                    Nov 16, 2016 at 11:33 am
                    फेक न्यूज़ है ये
                    (0)(0)
                    Reply
                    1. Load More Comments
                    सबरंग