ताज़ा खबर
 

टीएमसी के निलंबित सांसद व सारदा घोटाला मामले में आरोपी कुणाल घोष ने की ‘आत्महत्या’ की कोशिश

कोलकाता। तृणमूल कांग्रेस के निलंबित सांसद और सारदा घोटाला मामले में आरोपी कुणाल घोष ने आज अलीपुर केंद्रीय जेल में नींद की गोलियों का सेवन कर कथित तौर पर आत्महत्या करने की कोशिश की। पश्चिम बंगाल सुधारगृह सेवा मंत्री एच ए स्वाफी ने यह जानकारी दी। घोष को सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। […]
Author November 14, 2014 11:00 am
कुणाल घोष ने कोर्ट में कहा कि यदि किसी ने सारदा मीडिया से सबसे अधिक लाभ प्राप्त किया है तो वह मुख्यमंत्री ममता बनर्जी हैं। (फोटो: भाषा)

कोलकाता। तृणमूल कांग्रेस के निलंबित सांसद और सारदा घोटाला मामले में आरोपी कुणाल घोष ने आज अलीपुर केंद्रीय जेल में नींद की गोलियों का सेवन कर कथित तौर पर आत्महत्या करने की कोशिश की।

पश्चिम बंगाल सुधारगृह सेवा मंत्री एच ए स्वाफी ने यह जानकारी दी। घोष को सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

मंत्री ने बताया ‘‘कुणाल घोष ने कहा कि उन्होंने आत्महत्या करने के लिए नींद की गोलियां लीं। बाद में उन्होंने डॉक्टर को बुलाया जिन्होंने पाया कि सब कुछ सामान्य है। लेकिन अब भी, ऐहतियात के तौर पर हमने कोई खतरा मोल नहीं लिया और उन्हें एसएसकेएम अस्पताल में भर्ती कराया गया।’’

सारदा घोटाला मामले में आरोपी घोष के स्वास्थ्य पर डॉक्टर नजर रख रहे हैं।

कुणाल घोष को जब 10 नवंबर को शहर की एक अदालत में पेश किया गया था तब उन्होंने धमकी दी थी कि अगर घोटाले में ‘‘शामिल लोगों’’ के खिलाफ सीबीआई ने तीन दिन के अंदर समुचित कार्रवाई नहीं की तो वह आत्महत्या कर लेंगे।

तृणमूल कांग्रेस के निलंबित सांसद ने यहां बैंकशाल अदालत में मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट अरविंद मिश्रा के समक्ष कहा था ‘‘जांच प्रभावित की जा रही है। यह स्वीकार्य नहीं है कि मैं जेल में सड़ता रहूं जबकि इसमें शामिल लोग खुलेआम घूमें। मैं तीन दिन का समय दे रहा हूं….. अगर कार्रवाई नहीं की गई तो मैं आत्महत्या कर लूंगा।’’

घोष ने न्यायाधीश के समक्ष कहा था ‘‘मैं आपसे एक आदेश जारी करने की प्रार्थना करता हूं कि इन तीन दिनों के दौरान मेरे किसी भी संबंधी या मेरे वकील को मुझसे मिलने की अनुमति न दी जाए अन्यथा मैं प्रभावित हो जाउंगा या रूक जाउंगा।’’

इससे पहले, सुनवाई के दौरान उन्होंने तृणमूल कांग्रेस के कुछ शीर्ष नेताओं पर घोटाले से लाभान्वित होने का आरोप लगाया था।
पेशे से पत्रकार घोष सारदा ग्रुप की कंपनी बेंगाल मीडिया लि. के पूर्व मुख्य कार्यकारी हैं।

जेल विभाग के एक शीर्ष अधिकारी ने बताया ‘‘उन्होंने :आत्महत्या करने की: धमकी दी थी इसलिए हम पिछले दो दिन से उन पर अतिरिक्त नजर रख रहे थे। उनके सोने से पहले हमने उनकी अच्छी तरह तलाशी ली थी। लेकिन तब कोई भी दर्दनाशक दवा या नींद की गोलियां उनके पास से नहीं मिली थीं।’’

अधिकारी ने बताया ‘‘लेकिन देर रात दो बज कर करीब 30 मिनट के आसपास उन्होंने श्वास लेने में समस्या की शिकायत की और कहा उन्होंने गोलियों का सेवन किया है। इसके बाद जेल के डॉक्टरों को बुलाया गया तथा उनकी गहन जांच की गई लेकिन कुछ भी असामान्य नहीं पाया गया। फिर भी, हमने कोई खतरा मोल नहीं लिया।’’

 

 

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग