ताज़ा खबर
 

सर्जिकल स्ट्राइक को ‘फर्जी’ बताकर फंसे कांग्रेसी नेता संजय निरूपम, विरोध होने पर पार्टी ने भी किया किनारा

कांग्रेस नेता संजय निरूपम के सर्जिकल स्ट्राइक को फर्जी बताने वाले ट्वीट की हर तरफ निंदा हुई। बीजेपी तो संजय का विरोध कर ही रही थी लेकिन अब उनकी खुद की पार्टी यानी कांग्रेस भी उनके साथ नहीं है।
कांग्रेस नेता संजय निरूपम। (फाइल फोटो)

कांग्रेस नेता संजय निरूपम के सर्जिकल स्ट्राइक को फर्जी बताने वाले ट्वीट की हर तरफ निंदा हुई। बीजेपी तो संजय का विरोध कर ही रही थी लेकिन अब उनकी खुद की पार्टी यानी कांग्रेस भी उनके साथ नहीं है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, ‘कांग्रेस संजय निरूपम के बयान से सहमत नहीं है। हम लोग इसपर सख्ती से बात करेंगे।’ सुरजेवाला ने आगे कहा, ‘यह वह वक्त है जब भारत की सरकार को पाकिस्तान के झूठे प्रोपगेण्डा को बेनकाब करना चाहिए। ऐसा करने के लिए सबूतों को सबके सामने लाना चाहिए। वहीं समाजवादी पार्टी की महाराष्ट्र युनिट से जुड़े अबु आजमी ने ऐसे बयानों को सेना का मनोबल गिराने वाला बताया। अबु आजमी ने बुधवार (5 अक्टूबर) को ANI से बात करते हुए कहा, ‘ऐसे बयान लोगों के साथ-साथ सुरक्षा बलों और सेना का भी मनोबल गिरा देते हैं।’

कांग्रेस नेता संजय निरूपम ने भारतीय सेना की पाकिस्‍तान अधिकृत कश्‍मीर में सर्जिकल स्‍ट्राइक की कार्रवाई को फर्जी बताया था। निरूपम ने ट्वीट किया था, ‘प्रत्‍येक भारतीय पाकिस्‍तान के खिलाफ सर्जिकल स्‍ट्राइक्‍स चाहता है लेकिन भाजपा द्वारा राजनीतिक फायदे के लिए फर्जी वाली नहीं। देश के हितों पर राजनीति।’ संजय निरूपम के अलावा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मतभेदों को परे करते हुए सर्जिकल स्‍ट्राइक के मुद्दे पर उनकी जोरदार तारीफ की थी। केजरीवाल ने सीमापार मौजूद आतंकी ठिकानों पर सर्जिकल स्‍ट्राइक का आदेश देने का फैसला लेने को पीएम मोदी को सैल्‍यूट भी किया था। केजरीवाल ने सर्जिकल स्‍ट्राइक को नकार रहे पाकिस्‍तान को अंतरराष्‍ट्रीय मंच पर बेनकाब करने की अपील भी की थी। इसको लेकर केजरीवाल को भी विपक्षी पार्टी ने घेर लिया था।

वीडियो: जनसत्ता न्यूज़ बुलेटिन

27-28 सितंबर की रात को भारतीय सेना ने पीओके में आतंकी लॉन्‍चपैड पर सर्जिकल स्‍ट्राइक की थी। इसमें बड़ी संख्‍या में आतंकी मारे गए थे। तब से दोनों देशों के बीच तनाव अपने चरम स्तर पर है। गौरतलब है कि पिछले रविवार (18 सितंबर) को जम्मू-कश्मीर के उरी में सेना के ऊपर आतंकियों ने हमला किया था जिसमें 18 जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद आर्मी ने बॉर्डर पर सुरक्षा बढ़ा दी है। कई जगहों पर घुसपैठ की कोशिशों को भी सेना ने नाकाम किया है। उरी में घुसपैठ की कोशिश कर रहे 15 आतंकियों पर सेना ने फायरिंग की थी जिसमें से 10 आंतकी मारे गए थे बाकी 5-6 आतंकी वापस भाग गए थे। इसका बदला लेने के उद्देश्य से ही सर्जिकल स्ट्राइक की गई थी।

Read Also: सर्जिकल स्‍ट्राइक को फर्जी बताकर घिरे संजय निरुपम, ट्विटर यूजर ने पूछा- क्‍या आप देंगे देशभक्ति का सबूत?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 5, 2016 10:12 am

  1. No Comments.
सबरंग