April 26, 2017

ताज़ा खबर

 

विदेश सचिव की बात से झूठ साबित हुआ बीजेपी का दावा, बोले- पहले भी हुई हैं LOC पार करके कार्रवाई

आर्मी ने लाइन ऑफ कंट्रोल (LOC) पार करके 'सीमित क्षमता, लक्ष्य विशिष्ट, आतंकवाद विरोधी कार्रवाई' पहले भी की है लेकिन यह पहली बार हुआ कि 29 सितंबर को सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में पूरे देश को जानकारी दी गई।

सुषमा स्वराज और एस जयशंकर। मंगलवार को दिल्ली में बात करते हुए। Source: Renuka Puri

आर्मी ने लाइन ऑफ कंट्रोल (LOC) पार करके ‘सीमित क्षमता, लक्ष्य विशिष्ट, आतंकवाद विरोधी कार्रवाई’ पहले भी की है लेकिन यह पहली बार हुआ कि 29 सितंबर को सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में पूरे देश को जानकारी दी गई। यह बात विदेश मंत्रालय द्वारा मंगलवार (18 अक्टूबर) को संसदीय पैनल को बताई गई। पैनल में कांग्रेस पार्टी से सांसद शशि थरूर भी शामिल थे। पैनल को ब्रीफ करने का काम विदेश सचिव एस जयशंकर, डिफेंस सेक्रेटरी जी मोहन कुमार, आर्मी स्टाफ के वाइस चीफ लेफ्टिनेंट जनरल विपिन रावत और गृह मंत्रालय के स्पेशल सेक्रेटरी एमके सिंगला ने किया। इन लोगों द्वारा बताया गया कि सर्जिकल स्ट्राइक की बात को सार्वजनिक करने के पीछे एक ‘रणनीति’ थी।

सूत्रों के मुताबिक, ब्रीफिंग में कांग्रेस के सदस्य सत्यव्रत चतुर्वेदी ने पूछा था कि क्या पाकिस्तान के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक्स पहली बार हुए हैं? इसके जवाब में विदेश सचिव ने कहा कि ‘सीमित क्षमता, लक्ष्य विशिष्ट, आतंकवाद विरोधी कार्रवाई’ पहले भी होती रही हैं। लेकिन कभी उनका जिक्र नहीं किया गया। हालांकि, पहले हुई कार्रवाई को उन्होंने सर्जिकल स्ट्राइक का नाम नहीं दिया। विदेश सचिव ने यह भी बताया कि स्ट्राइक के बाद 29 सितंबर को पाकिस्तान मिलिट्री ऑपरेशन के डायरेक्टर जनरल को सूचना भी दे दी गई थी।

वीडियो: विदेश सचिव ने झूठा साबित किया बीजेपी का दावा; कहा- ‘सेना ने पहले भी किए हैं सर्जिकल स्ट्राइक’

सेना सबूत जुटाने नहीं गई थी: इंडियन एक्सप्रेस को मिली जानकारी के मुताबिक, ब्रीफिंग में सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत के बारे में भी सवाल किया गया। उसपर सरकार की तरफ से जवाब आया कि स्पेशल फोर्स स्ट्राइक करने गई थी सबूत जुटाने के लिए नहीं। सरकारी प्रतिनिधियों से सवाल पूछने वालों में कांग्रेस के करण सिंह, सत्यव्रत चौधरी, CPI(M) के मोहम्मद सलीम और एनसीपी के डीपी त्रिपाठी शामिल थे। मीटिंग में राहुल गांधी भी मौजूद थे लेकिन उन्होंने कोई सवाल नहीं पूछा। कांग्रेस के लोगों ने यह भी पूछा कि क्या ऐसे स्ट्राइक आगे भी किए जाएंगे? इसपर सरकारी प्रतिनिधियों ने कहा कि फिलहाल के स्ट्राइक का मकसद सफल रहा है। आगे वक्त पड़ने पर देखा जाएगा। शशि थरूर ने जैश ए मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर पर चीन द्वारा डाले जाने वाले अडंगे के बारे में भी सवाल पूछा। इसपर कहा गया कि सरकार इस मसले पर काम कर रही है।

वीडियो: Speed News

बीजेपी सांसद के सवाल पर भड़के कांग्रेसी: बीजेपी के सांसद में मीटिंग में सांसदों की सुरक्षा के बारे में भी सवाल उठा दिया था। उसपर कांग्रेस के सदस्य नाराज होकर बोले कि मीटिंग देश की सुरक्षा के लिए बुलाई गई है किसी पर्सनल सिक्योरिटी के लिए नहीं।

Read also: सर्जिकल स्ट्राइक्स का सबूत मांग रहे लोगों को मनोहर पर्रिकर ने लताड़ा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 19, 2016 7:37 am

  1. P
    preetpal
    Oct 19, 2016 at 10:19 am
    पर्रिकर के मुह पर टेप लगा देना चाहिए.
    Reply
    1. S
      sanjay
      Oct 19, 2016 at 4:40 am
      मीडिया की हेड लाइन है की बीजेपी का दावा झूठा साबित हुआ पहले भी सर्जिकल स्ट्राइक हुआ है सबकुछ पहले ही हुआ होता तो आज पाकिस्तान चीन भारत को आँख नहीं दिखाता! ७० साल का शासन छोटा नहीं होता है तरक्की और विकास करने हेतु लेकिन आज भारत हर तरफ से विश्व रेटिंग में सबसे निचे पायदान पर है फिर भी मीडिया बुद्दिजीवी लोग बीजेपी को कोस रहे है की बीजेपी झूट बोल रही है,जो लोग सत्य बोल रहे थे उन्होंने ७० साल तक देश को क्या दिया मीडिया जाकर उनसे पूछे !सत्य पत्रकारिता पर ग्रहण लगाने के कारण आज देश की स्थिति दयनीय है
      Reply
      1. R
        rameshwar
        Oct 19, 2016 at 6:04 am
        ी है , झूठ बोलते रहिये और वोट मांगते रहिये | यही हमारे देश की कहानी बन गयी है |
        Reply
      2. S
        Sidheswar Misra
        Oct 19, 2016 at 4:46 am
        एक सामान्य बात होती है किसी भी पर कोई हा करता है जिसपर हा होता है वह चुप नहीं बैठता वह उसका जबाब देता है . भारतीय सेना जबाब देती न रही होती तो अबतक पाकिस्तान न जाने कितने आतंकी कश्मीर में भेज चूका होता . वर्तमान सरकार के भाषण की है वह वही कर रही है जो कभी इंद्रा गाँधी करती थी .
        Reply

        सबरंग