ताज़ा खबर
 

आरएसएस ने बजाई खतरे की घंटी, चेताया- घट रही है मोदी सरकार की लोकप्रियता, बदल सकता है जनता का मूड

रिपोर्ट के अनुसार आरएसएस के अनुसार नरेंद्र मोदी अभी भी जनता के बीच लोकप्रिय हैं लेकिन इससे चुनावी जीत सुनिश्चित नहीं है।
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत (बाएं) और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (फाइल फोटो)

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को नरेंद्र मोदी सरकार की घटती लोकप्रियता के प्रति सचेत किया है। द टेलीग्राफ की रिपोर्ट के अनुसार आरएसएस ने अपने विभिन्न संगठनों से फीडबैक लेने के बाद आर्थिक सुस्ती, बेरोजगारी और नौकरियां जाने, नोटबंदी की विफलता और किसानों की बदहाली जैसे मुद्दों की वजह से आम लोगों में उपजी निराशा के प्रति बीजेपी को आगाह किया है।  रिपोर्ट के अनुसार आरएसएस ने मोदी सरकार के वरिष्ठ नेताओं को कहा है कि उसके कार्यकर्ताओं के अनुसार आम लोग मोदी सरकार के बारे में असुविधाजनक सवाल और बहसें कर रहे हैं।

रिपोर्ट के अनुसार आरएसएस के अनुसार नरेंद्र मोदी अभी भी जनता के बीच लोकप्रिय हैं लेकिन इससे चुनावी जीत सुनिश्चित नहीं है। आरएसएस ने मोदी सरकार को चेताया है कि उसे याद रखना चाहिए बीजेपी साल 2004 में अटल बिहारी वाजपेयी की लोकप्रियता के बावजूद लोक सभा चुनाव हार गयी थी। आरएसएस नेताओं ने हाल ही में मथुरा में तीन दिन का समन्वय कार्यक्रम किया था। माना जा रहा है कि इस बैठक में आरएसएस ने जमीनी रिपोर्टों का विश्लेषण किया। इस बैठक में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी शामिल हुए थे।

रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि संघ से जुड़े कई संगठन नरेंद्र मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों से खफा हैं। आरएसएस के एक नेता ने द टेलीग्राफ को बताया कि आम लोगों को उम्मीद थी कि मोदी सरकार के बनने के बाद ढेर साला कालाधन वापस आएगा और नोटबंदी से भी बहुत सा कालाधन सामने आएगा लेकिन ये सब नहीं हुआ जिसकी वजह से लोग ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं। आरएसएस से जुड़े भारतीय मजदूर संघ (बीएमएस) ने 17 नवंबर से दिल्ली में सरकारी की आर्थिक नीतियों के खिलाफ बड़ा प्रदर्शन करने वाली है। साल 2015 में भरतीय मजूदर संघ ऐसा ही प्रदर्शन करने वाली थी लेकिन अंत समय में उसने इसे वापस ले लिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. R
    Rajsaxena
    Sep 15, 2017 at 1:38 am
    Esa kuch nhi modi sarkar se sahmat hain but sarkar ne jo bade hindu or hindu dharma se kiye the wo pure nhi huye
    (0)(0)
    Reply
    1. Y
      yogesh
      Sep 14, 2017 at 6:27 pm
      लगता है इस वेबसाइट को मोदी सर्कार की आलोचना के लिए बनाया गया है विपक्षी पार्टियों से कितने पैसे मिल रहे है बताओ तो जरा जनसत्ता वालो . पेड मीडिया हो तुम फेक न्यूज़
      (1)(0)
      Reply
      1. D
        Dr B
        Sep 14, 2017 at 1:56 pm
        फार्मर्स आर नॉट हैप्पी
        (0)(0)
        Reply