ताज़ा खबर
 

संघ के राकेश सिन्हा ने असदुद्दीन ओवैसी से पूछा- जब आतंकियों का कोई मजहब नहीं तो गोरक्षकों का कैसे?

जुनैद के हत्यारों पर सवाल उठाते हुए ओवैसी ने कहा कि गोरक्षा के नाम पर गुंडई करने वालों को बीजेपी और संघ का समर्थन प्राप्त रहता है।
ऑल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असद्दुद्दीन ओवैसी (पीटीआई फाइल फोटो)

दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर और संघ विचारक डॉ. राकेश सिन्हा ने असदुद्दीन ओवैसी से पूछा कि जब कोई आतंकी पकड़ा जाता है तो उसका कोई धर्म नहीं होता लेकिन अगर गौरक्षक पकड़े जाएं तो उसके लिए धर्म जिम्मेदार कैसे हो जाता है। दरअसल गुरुवार 29 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अहमदाबाद के साबरमती आश्रम में कहा कि गोरक्षा के नाम पर हिंसा बर्दाश्त नहीं की जाएगी, हमें गांधी जी के अहिंसा के मार्ग पर चलना होगा। पीएम मोदी के इस बयान के बाद विपक्षी दल उनपर हमला करते हुए कह रहे हैं कि क्या सिर्फ बातें करने से ये सब रुकेगा? इसी मुद्दे पर हिंदी न्यूज़ चैनल आज तक ने एक डिबेट शो रखा। इस शो में AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी के साथ ही संघ विचारक डॉ. राकेश सिन्हा भी मौजूद थे।

शो में असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि पीएम सिर्फ बोलते हैं, अगर वो वाकई में फिक्रमंद हैं तो पहलू खान के कातिल आज तक क्यों नहीं पकड़े गए। वल्लभगढ़ में जुनैद के हत्यारों पर सवाल उठाते हुए ओवैसी ने कहा कि गोरक्षा के नाम पर गुंडई करने वालों को बीजेपी और संघ का समर्थन प्राप्त रहता है। ओवैसी की बात का जवाब देते हुए राकेश सिन्हा ने कहा- जुनैद की हत्या में जो 5 लोग अभियुक्त थे उन सबकी गिरफ्तारी हो चुकी है। पहलू खान के कातिल भी पकड़े जाएंगे और कानून अपने हिसाब से काम करेगा।

 

राकेश सिन्हा ने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए असदुद्दीन ओवैसी से पूछ लिया कि आप ये बता दो कि जब को आतंकी पकड़ा जाता है तो कहा जाता है कि आतंकी का कोई धर्म नहीं होता तो फिर गोरक्षकों की हिंसा के साथ पूरे धर्म को क्यों जोड़ दिया जाता है। राकेश सिन्हा के सवाल से ओवैसी का भी पारा चढ़ गया। गुस्साए ओवैसी ने कह दिया कि आप अपनी मजहबी आस्था को बाजू रखिए, राइट टू लाइफ इंसान को है, जानवर को नहीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग