April 30, 2017

ताज़ा खबर

 

RSS करवाएगी साइंस का पेपर, DPS, Amity जैसे 2,000 स्कूलों के 1.4 लाख छात्र लेगें हिस्सा

राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (RSS) की शाखा 'विजन भारती' द्वारा देशभर के स्कूलों में एक प्रतियोगिता करवाई जाएगी।

Author November 13, 2016 07:54 am
RSS की शाखा विजन भारती 20 नवंबर को साइंस की परीक्षा करवाएगी। (प्रतिकात्मक तस्वीर)

राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (RSS) की शाखा ‘विजन भारती’ द्वारा देशभर के स्कूलों में एक प्रतियोगिता करवाई जाएगी। 20 नवंबर को होने वाली उस प्रतियोगिता में कुल 2 हजार सरकारी और प्राइवेट स्कूलों के 1.4 लाख छात्र भाग लेने वाले हैं। वे सभी छात्र 6 से 11वीं क्लास के होंगे। सभी ‘विज्ञान में भारत का योगदान’ और ‘राष्ट्रपति अब्दुल कलाम आजाद की जीवनी’ से संबंधित विषयों पर परीक्षा देंगे। परीक्षा के लिए पढ़ने को दी गईं किताबों में ‘ऋग वेद के हिसाब से खगोल विज्ञान और तत्वमीमांसा की परिभाषा बताइए’, ‘वैदिक काल में परमाणु का वर्णन कीजिए’ ‘सुश्रुत सर्जरी के जनक थे। उन्होंने 300 से ज्यादा तरीके से सर्जरी के तरीके बताए’ प्रकार की बातें हैं। परीक्षा में कुछ ऐसे ही सवाल आएंगे। ये बातें उस स्टडी मैटेरियल में लिखी हैं जो विज्ञान भारती द्वारा उन सभी स्कूलों में बांट दिया गया है जो परीक्षा में हिस्सा लेंगे।

परीक्षा में हिस्सा लेने वालों में डीपीएस, केंद्रीय विद्यालय, नवोदय विद्यालय और एमिटी इंटरनेशनल स्कूल जैसे बड़े और नामी स्कूल भी शामिल हैं। सभी स्कूलों के टीचर्स को परीक्षा के लिए दिया गया सलेब्स काफी पसंद भी आ रहा है। स्कूलों के प्रिंसिपल्स का मानना है कि पढ़ने के लिए दी गई सामग्री बहुत अच्छी है और उससे बच्चों को विज्ञान में भारत के योगदान के बारे में पता लगेगा और साथ ही विज्ञान के प्रति रुचि भी बढ़ेगी। विजन भारती के सचिव ए जयकुमार, ने कहा कि इस परीक्षा का मुख्य उद्देश्य छात्रों को विज्ञान में भारत के योगदान के बारे में बताना और विज्ञान के प्रति उनकी रुचि बढ़ाना है। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार की तरफ से इस पेपर के लिए कोई आर्थिक मदद नहीं की गई है।

विजन भारती द्वारा बताया गया है कि वे लोग पेपर्स को चेक करेंगे और उसके बाद इस एग्जाम में सफल हुए छात्र स्टेट और नेशनल लेवल की परीक्षा में बैठेंगे। उसके बाद जीतने वाले को राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित किया जाएगा। पढ़ने के लिए दी गई किताबों में कई तरह की चीजें शामिल हैं। जैसे आर्यभट्ट के बारे में, आयुर्वेद के बारे में, तेल से होने वाली विभिन्न मसाज के तरीकों का भी किताबों में जिक्र है। साथ ही साथ इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन (ISRO) का भी किताबों में जिक्र है।

वीडियो: RSS से जुड़े संगठन ने HRD मंत्रालय से कहा- “अंग्रेज़ी और भारत का अपमान करने वाला पाठ्यक्रम बंद करो”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 13, 2016 7:50 am

  1. V
    Vijay Anand
    Nov 13, 2016 at 4:15 am
    प्राचीन भरत मे विज्ञान पर ये परीक्षा लेने का अद्भुत सराहनीय काम कर रहें है |
    Reply

    सबरंग