ताज़ा खबर
 

15 अगस्त को मदरसों में जाकर तिरंगा फहराएगा आरएसएस से जुड़ा मुस्लिम संगठन

राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (आरएसएस) से जुड़े एक मुस्लिम संगठन ने फैसला किया है कि वह स्वतंत्रता दिवस के दिन मदरसों में जाकर तिरंगा फहराएगा।
राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (आरएसएस) से जुड़ा मुस्लिम संगठन स्वतंत्रता दिवस पर तिरंगा फहराएगा। (फोटो-PTI)

राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (आरएसएस) से जुड़े एक मुस्लिम संगठन ने फैसला किया है कि वह स्वतंत्रता दिवस के दिन मदरसों में जाकर तिरंगा फहराएगा। यह कार्यक्रम देश के विभिन्न हिस्सों में किया जाएगा। राष्ट्रीय मुस्लिम मंच का यह कदम इसलिए सराहनीय माना जा रहा है क्योंकि हाल ही में इलाहबाद के एक प्राइवेट स्कूल ने स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्र गान गाने की परमिशन देने से मना करके विवाद पैदा कर दिया था। कार्यक्रम के लिए राष्ट्रीय मुस्लिम मंच के प्रमुख इंद्रेश कुमार स्वंतत्रता दिवस के मौके पर नागपुर में रहेंगे। वे वहां बिनकई मंगलवारी के एक मदरसे में झण्डा फहराएगें। यह बड़ी बात इसलिए भी है क्योंकि शायद ऐसा पहली बार होगा जब संघ से जुड़ा कोई सदस्य किसी मदरसे के किसी कार्यक्रम में जाएगा।

शुरू में नहीं मिली थी इजाजत: इंद्रेश कुमार को शुरू में मदरसे के अंदर जाने की इजाजत नहीं मिल रही थी। मदरसे के जुड़े लोगों ने कहा था कि उन्हें बीजेपी के नेताओं के आने से कोई परेशानी नहीं है लेकिन संघ से जुड़े लोगों को वे नहीं आने देना चाहते। हालांकि, बाद में किसी तरह उन लोगों को मना लिया गया और इंद्रेश और बाकी लोगों को वहां जाने की इजाजत मिल गई। टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत के दौरान इंद्रेश ने कहा, ‘झण्डा पूरे देश में फहराया जाएगा। किसी किसी जगह पर राष्ट्रगान भी गाया जाएगा और भारत माता की जय भी बोला जाएगा।’

आतंक से लड़ने के लिए नया संगठन भी बनाया जाएगा: कार्यक्रम के दौरान RSS आतंक विरोधी दल का भी निर्माण करेगा। उसमें पढ़े-लिखे मुसलमानों को शामिल किया जाएगा जो कि युवाओं को आतंकी सगंठनों के प्रति आकर्षित होने से रोकेंगे।

Read Also: महाभारत के ‘श्रीकृष्ण’ ने कहा- भारत असहिष्णु देश, हिंदू धर्म की बात करुंगा तो मुझ पर लगा देंगे RSS का लेबल

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. Z
    Zakirhusain Hundekari
    Aug 13, 2016 at 4:24 am
    मदरसे ही क्यों ?आरएसएस के कार्यालय पर क्यों नही ?
    Reply
सबरंग