ताज़ा खबर
 

लॉन्चिंग के पहले हफ़्ते में ही रिपब्लिक ने रचा इतिहास, 50 फीसदी मार्केट शेयर पर अकेले अरनब गोस्वामी के चैनल का कब्जा

अंग्रेजी न्यूज़ चैनलों में रिपब्लिक ने 50 फीसदी से ज्यादा मार्केट शेयर पर अकेले ही कब्जा कर लिया है।
रिपब्लिक चैनल के हेड अरनब गोस्वामी।

अंग्रेजी न्यूज़ चैनल रिपब्लिक टीवी ने लॉन्चिंग के पहले ही हफ़्ते में इतिहास रच दिया है। समाचार चैनलों की टीआरपी रेटिंग देने वाले एजेंसी बार्क की पहले हफ्ते की रेटिंग आ गई है। इस रेटिंग के मुताबिक लॉन्चिंग के बाद ही अंग्रेजी न्यूज़ चैनलों में रिपब्लिक ने 50 फीसदी से ज्यादा मार्केट शेयर पर अकेले ही कब्जा कर लिया है। रेटिंग के मुताबिक अंग्रेजी न्यूज चैनल देखने वाले दर्शकों में 51.8 फीसदी दर्शक रिपब्लिक टीवी को देख रहे हैं। जबकि रिपब्लिक से कॉम्पीटिशन कर रहे टाइम्स नाउ को 24.5 फीसदी, इंडिया टुडे को 8.1 फीसदी, एनडीटीवी को 6.9 फीसदी, सीएनएन न्यूज 18 को 6.64 % और न्यूज एक्स को 1.78 फीसदी टीआरपी मिली है। बता दें कि 6 मई को रिपब्लिक चैनल लॉन्च किया गया था। अंग्रेजी मीडिया के एंकर और टाइम्स नाउ में अपने शो न्यूज़ ऑवर के लिए मशहूर अरनब गोस्वामी की अगुवाई में इस चैनल की लॉन्चिंग की गई है।

बार्क का डाटा आने के बाद अरनब गोस्वामी ने लोगों का बधाई दी है। अरनब ने रिपब्लिक टीवी के ट्वीट के जरिये एक मैसेज लिखा है। इस मैसेज में अरनब ने लिखा है कि रिपब्लिक टीवी को जो प्यार समर्थन और विशाल दर्शक मिला है उसका मैं आभार व्यक्त करता हूं, इससे मेरा ये विश्वास एक बार फिर से पुख्ता हो गया है कि लोग वही देखते हैं जिन पर उन्हें विश्वास होता है, मैं इस देश के लोगों को रिपब्लिक टीवी को नंबर वन चैनल बनाने के लिए दिल से आभार व्यक्त करता हूं।’ रिपब्लिक के एक दूसरे ट्वीट में कहा गया है कि हमारी पत्रकारिता देश को सर्वप्रथम रखने की है, रिपब्लिक टीम इसी में विश्वास करती है, हमें नंबर वन बनाने के लिए आपका शुक्रिया।’ बता दें कि लॉन्चिंग के बाद रिपब्लिक टीवी ने लालू यादव और माफिया शहाबुद्दीन, सुनंदा पुष्कर मौत, ISIS समेत कई खुलासे किये हैं।

कुलभूषण जाधव केस: ICJ आज सुनाएगा फैसला

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. Shrikant Sharma
    May 18, 2017 at 7:16 pm
    arnab ke pas tahlaka ka example hai,uskee trp itnee jyada thee pahile saptah mein ki dilli bambay choke ho jaate the par voh maintain nahi kar ke rakh saka bichara apnee chotee sambhalne ko news anchoring samjh baitha tha mujhe dar hai ye apne lat julfon ki sambhalne ko publicity ka baro meter na man le soscial media ke zamane janta news mangati hai hai jaise ki jaitely ke raj mein kartikey giraftar hoga ya president election ki blackmai mein mbaram us bacha le jayega tv par hum akhbaron mein padh chuke scoop ke details to chahte hain par repi ion nahin.bjp ke sansadon ka paissa mubarak arnab dekhen kitnee door kheench paate ho agar president ka sahi naam ujagar kar paye aur voh jeet a to tum bhi chal nikloge warna dooboge.
    (0)(0)
    Reply