December 09, 2016

ताज़ा खबर

 

नोटबंदी पर बोले रविशंकर प्रसाद: यह सलाह रिजर्व बैंक ने दी थी

कानून और आईटी मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने कहा कि 500 और 1000 रुपए के नोट बंद करने का फैसला सरकार ने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की सलाह पर लिया था।

रवि शंकर प्रसाद। (फाइल फोटो)

कानून और आईटी मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने शनिवार (27 नवंबर) को कहा कि 500 और 1000 रुपए के नोट बंद करने का फैसला सरकार ने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की सलाह पर लिया था। रविशंकर प्रसाद ने कहा, ‘यह विमुद्रीकरण नहीं है। इसे गलत तरीके से पेश किया जा रहा है। सरकार ने नोटबंदी का फैसला रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की सिफारिश पर लिया जो चाहता था कि 500 और 1000 रुपए के नोट लीगल टेंडर ना रहें।’ रविशंकर ने आगे कहा कि सरकार ने 500 और 1000 के नोट भले ही बंद किए लेकिन कई जरूरी जगहों पर नोट को चलाने की इजाजत भी दी।

प्रसाद ने आगे कहा, ‘भारत ईमानदारी और पारदर्शिता की तरफ बढ़ रहा है। यह हमारा कर्तव्य है कि भारत को भ्रष्टाचार मुक्त करके उसे बाहर लाया जाए।’ इसके साथ ही प्रसाद ने यह भी कहा कि उनकी सरकार ने मनरेगा और बाकी सब्सडी को डायरेक्ट अकाउंट में ट्रांसफर करने की सुविधा करके 36 हजार करोड़ रुपए बचाए हैं।

मोदी सरकार द्वारा 8 नवंबर को नोटबंदी का एलान किया गया था। मोदी द्वारा किए गए एलान में कहा गया था कि 30 दिसंबर के बाद से 500 और 1000 रुपए के नोट अमान्य हो जाएंगे। लोगों से उनके नोटों को बैंकों में जमा करने के लिए कहा गया था। हालांकि, कुछ जगहों पर नोटों को चलाने की इजाजत मिली थी। जिसे 24 नवंबर के बाद से बंद कर दिया। अब सिर्फ 500 रुपए के नोट ही चल सकते हैं। वह भी सिर्फ 15 दिसंबर तक। वहीं 1000 के नोटों को अब बैंक में ही जमा करवाना होगा।

बैंकों और एटीएम के बाहर लगी लाइन खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। आम लोगों के अलावा विपक्षी दल भी सरकार को निशाने पर लेने का मौका नहीं छोड़ रहे। संसद में शीतकालीन सत्र की कार्यवाही भी इस वजह से नहीं हो पा रही। आठ दिन से संसद में हंगामे के अलावा कोई काम नहीं हुआ है। विपक्षी दल लगातार पीएम मोदी को संसद में आकर बहस करने की चुनौती दे रहे हैं।

इस वक्त की बड़ी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

वीडियो: नोटबंदी पर पीएम के सर्वे को शत्रुघ्न सिन्हा ने बताया प्लांटेड; कहा- मूर्खों की दुनिया में जीना बंद करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 27, 2016 10:24 am

सबरंग