ताज़ा खबर
 

रक्षा राज्‍य मंत्री से हटाए गए राव इंदरजीत इटैलियन कंपनी की कर रहे थे पैरवी, दो बार पर्रिकर को लिखी थी चिट्ठी

रक्षा राज्‍य मंत्री के पद से हटाए गए राव इंदरजीत सिंह ने सेना के लिए कार्बाइन खरीद के मामले में इटैलियन कंपनी बेरेटा को शामिल किए जाने की पैरवी की थी।
Author नई दिल्‍ली | July 8, 2016 11:14 am
राव इंदरजीत सिंह गुड़गांव से सांसद हैं।

रक्षा राज्‍य मंत्री के पद से हटाए गए राव इंदरजीत सिंह ने सेना के लिए कार्बाइन खरीद के मामले में इटैलियन कंपनी बेरेटा को शामिल किए जाने की पैरवी की थी। इस संबंध में उन्‍होंने सिंह ने दो बार चिट्ठी लिखी थी, साथ ही 24 जून को रक्षा मंत्रालय की बैठक में भी इस मुद्दे को उठाया था। सेना ने ट्रायल के दौरान बेरेटा कंपनी को बाहर कर दिया था। 2010 में 44600 कार्बाइन मंगाने का टेंडर जारी हुआ। 2013 में बेरेटा, आईडब्‍ल्‍यूआई और कोल्‍ट ने ट्रायल दिया। कोल्‍ट और बेरेटा की कार्बाइन नाइट साइट में फेल हो गई थी। सेना का कहना था कि बेरेटा को फिर से शामिल करना संभव नहीं। यह फैसला कोर्ट में नहीं टिक पाएगा।

रक्षा राज्य मंत्री पद से हटाए जाने के पहले राव इंदरजीत ने जताया था सेना में घोटाले का शक, उठाई थी CBI जांच की मांग

राव इंद्रजीत सिंह इस बात से सहमत नजर नहीं आए। उन्‍होंने बैठक में सेना और रक्षा मंत्रालय की अधिग्रहण इकाई पर गलत कंपनी के चुनाव का आरोप लगाते हुए सीबीआई जांच की मांग की। सेना ने कहा कि किसी एक कंपनी को शामिल करने के लिए टेंडर के नियम नहीं बदले जा सकते। रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर भी इस बात से सहमत थे हालांकि उन्‍होंने मामले को अन्‍य स्‍तर पर उठाने की बात कही थी। बता दें कि सेना के ट्रायल में बेरेटा कंपनी की कार्बाइन फेल हो गई थी और इजरायली कंपनी आईडब्‍ल्‍यूआई ही यह टेस्‍ट पास कर पाई।

इटैलियन कंपनी बेरेटा को भारत में भूपिंदर सिंह ऊर्फ टस्‍की और उनके बेटे उदय सिंह प्रमोट कर रहे हैं। इन्‍होंने भी रक्षा मंत्रालय को री-ट्रायल के लिए कई खत लिखे। ये दोनों दिल्‍ली में डिफेंस सर्किल में काफी जाना माना नाम है। बीएसएफ को कमजोर गुणवत्‍ता की सबमशीन गन की सप्‍लाई के विवाद में भी इन दोनों का नाम आया था। बेरेटा को फिर से शामिल करने के लिए राव इंद्रजीत सिंह ने सबसे पहले फरवरी 2015 में खत लिखा था। इसके बाद जून 2015 में उन्‍होंने दोबारा पत्र लिखा। उन्‍होंने लिखा कि टेंडर में एक ही कंपनी के होने से कीमतें बढ़ जाएंगी। साथ ही कहा कि लेजर साइट भारत में मेक इन इंडिया के तहत भारत इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स लिमिटेड से बनवाए जा सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग