ताज़ा खबर
 

अरुण जेटली के सूचना मंत्री रहते रजत शर्मा को दूरदर्शन से मिलते थे कौन बनेगा करोड़पति के होस्ट अमिताभ बच्चन से भी ज्यादा पैसे!

दूरदर्शन ने रजत शर्मा को दो महीने में ही करोड़पति बना दिया। उन्हें हर महीने 55 लाख रुपये दिए जाते थे, जबकि वो दूरदर्शन के सारे संसाधनों का ही इस्तेमाल करते थे।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और वित्त मंत्री अरुण जेटली के साथ रजत शर्मा (फाइल फोटो)

साल 2000-2001 में स्टार प्लस टीवी पर सदी के महानायक अमिताभ बच्चन ‘कौन बनेगा करोड़पति’ नाम का शो लेकर आते थे। इस शो में कुछ प्रतिभागियों को अमिताभ बच्चन ने करोड़पति बनाया तो कई को लखपति। स्टार प्लस ने भी इस शो के एवज में अमिताभ बच्चन को मोटी रकम दी लेकिन उससे भी ज्यादा रकम दूरदर्शन ने टीवी पत्रकार और इंडिया टीवी के मैनेजिंग एडिटर रजत शर्मा को दिया। स्टार प्लस ने कई महीने शो होस्ट कराने के बाद अमिताभ बच्चन को करोड़ रुपये बतौर फीस दी लेकिन सरकारी टीवी चैनल दूरदर्शन ने दो महीने में ही रजत शर्मा को करोड़पति बना दिया। दरअसल, नेशनल डेमोक्रेटिक अलायंस (एनडीए) के दूसरे शासनकाल में जब रजत शर्मा के दोस्त अरुण जेटली सूचना एवं प्रसारण राज्य मंत्री थे तब दूरदर्शन ने उन्हें ‘सात से नौ’ नाम का शो करने के लिए खूब पैसे दिए। यह शो सप्ताह में पांच दिन सुबह में प्रसारित होता था।

साल 2000 में ही जब वरिष्ठ पत्रकार कुलदीप नैयर (जो उस वक्त राज्य सभा के सदस्य थे) ने संसद में एक सवाल पूछकर दूरदर्शन पर प्रसारित होने वाले सभी समाचार और करंट अफेयर्स से संबंधित शो और उसके प्रोड्यूसर्स (कंपनी और व्यक्ति) और उन्हें दी जाने वाली मासिक रकम के बारे में जानकारी मांगी थी। जब संसद में यह जानकारी सार्वजनिक की गई तो आंकड़े चौंकाने वाले थे।

आंकड़े जारी होने के बाद एक अन्य पत्रकार जल खंबाटा ने इसे एक मित्र द्वारा दूसरे मित्र को परोपकार में दी गई रकम करार दिया। खंबाटा ने ‘द कारवां’ पत्रिका को बताया कि तत्कालीन सूचना एवं प्रसारण राज्य मंत्री अरुण जेटली ने अपने कॉलेज के दिनों के दोस्त और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में साथ-साथ रहे और अब के इंडिया टीवी के मौनेजिंग एडिटर रजत शर्मा को दोस्ती के नाम पर सरकारी ईनाम दिया था। वो कहते हैं कि शर्मा उसी समय कौन बनेगा करोड़पति नामक चर्चित शो कर रहे अमिताभ बच्चन से भी ज्यादा पाने में कामयाब रहे। दूरदर्शन ने रजत शर्मा को दो महीने में ही करोड़पति बना दिया। उन्हें हर महीने 55 लाख रुपये दिए जाते थे, जबकि वो दूरदर्शन के सारे संसाधनों का ही इस्तेमाल करते थे।

रजत शर्मा को ये पैसे इंडिपेन्टेन्ट मीडिया प्राइवेट लिमिटेड नाम की कंपनी के जरिए मिलते थे जिसे उन्होंने अपनी पत्नी रितु धवन के साथ मिलकर 1997 में बनाया था। कंपनी बनाने के पीछे उद्देश्य यह था कि रजत शर्मा पर कोई भी व्यक्तिगत तौर पर उंगली न उठा सके। कारवां में लिखा गया है कि 13 दिनी सरकार के बाद अटल बिहारी वाजपेयी जब दूसरी बार प्रधानमंत्री बने तब रजत शर्मा की पहुंच सीधे प्रधानमंत्री निवास तक हो गई। इसकी वजह वाजपेयी जी की दत्तक पुत्री नमिता कौल थीं। नमिता के साथ भी रजत शर्मा की दोस्ती पुरानी थी। दोनों छात्र राजनीति में साथ-साथ थे। बाद में जब नमिता की शादी बिजनेसमैन रंजन भट्टाचार्य से हुई तब रजत शर्मा और पॉवरफुल हो गए क्योंकि उनकी दोस्ती न केवल नमिता कौल से थी बल्कि उनके पति रंजन भट्टाचार्य से भी थी। भट्टाचार्य और रजत शर्मा दोनों कॉलेज और यूनिवर्सिटी के समय से दोस्त थे। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि रजत शर्मा की राजनीतिक पहुंच और रसूख कहां तक थी।

वीडियो देखिए- नेशनल हेराल्ड केस: सोनिया- राहुल को बड़ी राहत, स्वामी की अर्जी खारिज

वीडियो देखिए- परमाणु क्षमता से लैस मिसाइल अग्नि-5 का परीक्षण, 5000 किमी तक मार कर सकती है

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Abu talib
    Dec 27, 2016 at 3:08 am
    " कहो जी ! तुम क्या क्या खरीदोगे ! यहाँ तो हर चीज़ बिकती है ! "
    (1)(1)
    Reply
    1. A
      Al
      Jan 5, 2017 at 1:37 pm
      गलत रिपोर्ट है , कौन बनेगा करोड़पति के लिए बच्चन 75 करोड़ लिए थे ।
      (0)(0)
      Reply
      1. G
        good
        Dec 26, 2016 at 8:52 pm
        जय हो!
        (1)(0)
        Reply
        1. B
          Bharat Bhushan
          Dec 27, 2016 at 6:51 am
          जनसत्ता लगता है पूरा कांग्रेसीओ ने खरीद रखा है, कांग्रेस के भी कुछ राज़ बताओ, करोड़ो के घोटालो के बारे में BJP के १० साल के करप्शन बराबर है कांग्रेस के १ महीने के करप्शन के.
          (0)(0)
          Reply
          1. B
            Bharat Bhushan
            Dec 27, 2016 at 6:53 am
            रोबर्ट वाड्रा जैसा सिंपल सा बिज़नसमन आज करोड़ पति है, कैसे, बोलिये जनसत्ता वालो. बिकाऊ न्यूज़ पेपर.
            (0)(0)
            Reply
            1. J
              jaya
              Dec 27, 2016 at 6:09 am
              अँधा बनते रेवाड़ी फिर फिर अपनो को देत
              (0)(0)
              Reply
              1. J
                jaya
                Dec 27, 2016 at 6:08 am
                अट्ट ईमानदार और सुपर क्लीन और चाणक्य है बी जी पी और संघ का झुण्ड
                (0)(0)
                Reply
                1. A
                  Asi
                  Dec 27, 2016 at 5:12 am
                  कहा था न सबका साथ सबका बिकास, तो इस सब में रजत सर्मा भी तो है!!!!! चलो किसी गरीब चाटुकार को 15 लाख से जादा तो मिला
                  (1)(0)
                  Reply
                  1. P
                    param
                    Dec 29, 2016 at 8:50 am
                    भक्त बहुत परेशां हैं ये सुनके की उनके पाप जेटली ने क्या किया.
                    (0)(0)
                    Reply
                    1. Load More Comments
                    सबरंग