ताज़ा खबर
 

गुर्जर आंदोलन: राजस्थान HC ने मुख्य सचिव और डीजीपी की खिंचाई की

राजस्थान उच्च न्यायालय ने एक भी गुर्जर प्रदर्शकारी को गिरफ्तार नहीं कर पाने और अलोकतांत्रिक प्रदर्शन से लोगों को मुश्किल में डालने की अनुमति देने को लेकर मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) की आज खिंचाई की। गुर्जरों के विरोध प्रदर्शनों के कारण राज्य में सड़क एवं रेल सेवाएं बाधित हो गई हैं, जिसके कारण आम लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।
Author May 28, 2015 13:12 pm
गुर्जर आंदोलन पर हाई कोर्ट सख्त, अगले दौर की वार्ता शाम में (फोटो: भाषा)

राजस्थान उच्च न्यायालय ने एक भी गुर्जर प्रदर्शकारी को गिरफ्तार नहीं कर पाने और अलोकतांत्रिक प्रदर्शन से लोगों को मुश्किल में डालने की अनुमति देने को लेकर मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) की आज खिंचाई की। गुर्जरों के विरोध प्रदर्शनों के कारण राज्य में सड़क एवं रेल सेवाएं बाधित हो गई हैं, जिसके कारण आम लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

उच्च न्यायालय ने अधिकारियों से कहा कि वे सभी सड़कों और रेल मार्गों से अवरोध हटाने के लिए तत्काल कार्रवाई करें। अदालत ने मुख्य सचिव और डीजीपी को कल तक शपथ पत्र जमा करके यह स्पष्ट करने का निर्देश दिया कि प्रदर्शनकारियों के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी के तहत कार्रवाई क्यों नहीं की गई। अदालत ने उनसे कहा कि वे गुर्जरों के विरोध प्रदर्शन के कारण निजी एवं सार्वजनिक संपत्ति को हुए नुकसान की विस्तृत जानकारी मुहैया कराएं। गुर्जर सरकारी नौकरियों में पांच प्रतिशत आरक्षण की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं।

अदालत की एकल पीठ ने कहा कि आप (मुख्य सचिव और डीजीपी) नौकरशाही और कानून व्यवस्था तंत्र के प्रमुख होने के नाते गुर्जर प्रदर्शनकारियों और राज्य सरकार के बीच राजनीतिक वार्ता के केवल दर्शक बने रहने के लिए बाध्य नहीं हैं।

वहीं, राजस्थान में आरक्षण की मांग को लेकर आंदोलन कर रही गुर्जर संघर्ष समिति के अध्यक्ष कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला आज राज्य सरकार के बुलावे पर बातचीत के लिए जयपुर पहुंच गये हैं। सूत्रों ने बताया कि बातचीत सचिवालय कक्ष में होगी, जिसमें चिकित्सा मंत्री राजेन्द्र सिंह राठौड़, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री अरुण चतुर्वेदी एवं खाद्य आपूर्ति मंत्री हेमसिंह भडाना के साथ गुर्जर नेता बैंसला एवं गुर्जर समाज के अन्य प्रतिनिधि मौजूद रहेंगे। इससे पहले गुर्जर नेताओं ने भडाना के घर पहुंच कर उनसे मुलाकात की तथा बाद में सचिवालय के लिए रवाना हो गये।

इससे पहले कल गुर्जर प्रतिनिधि मंडल के साथ राज्य सरकार के प्रतिनिधियों की तीन बार बैठक हुई, लेकिन नतीजा नहीं निकला। गुर्जरों की सरकार से मौजूदा पचास प्रतिशत अंदर ही आरक्षण देने की मांग थी, जिसे सरकार ने स्वीकार नहीं किया। राज्य सरकार का कहना है कि पचास फीसदी आरक्षण सीमा के बाहर जाकर गुर्जर को आरक्षण दिया जा सकता है। यह संविघान की धारा 16(4ए) तथा 16(4बी) के अनुसार संभव है। यदि गुर्जर समाज इस पर राजी हुआ तो सरकार इस संबंघ में नया विधेयक ला सकती है।

गौरतलब है कि उच्च न्यायालय के आदेश के बावजूद राजस्थान सरकार अभी तक गुर्जर आंदोलनकारियों से पीलूपुरा के निकट दिल्ली-मुंबई रेलवे ट्रैक और दौसा जिले के सिकंदरा के निकट राष्ट्रीय राजमार्ग और अन्य मार्ग को खाली नहीं करवा सकी है। पचास प्रतिशत आरक्षण के भीतर पांच फीसदी आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जर आन्दोलनकारियों के आन्दोलन के आठवें दिन आज पीलूपुरा के निकट मुम्बई-दिल्ली रेल मार्ग पर महिलाओं और बच्चों की संख्या अचानक बढ़ गयी है।

जिला कलेक्टर रवि जैन ने आंदोलनकारियों से रेलवे ट्रैक खाली करने एवं सड़क मार्गों से अवरोध हटाए जाने की सख्त हिदायत की है। इसके बावजूद पीलूपुरा ट्रैक पर आंदोलनकारी जमे हुये हैं। ट्रैक के आसपास के गांव रसेरी, महावर, पीलूपुरा कारबारी और अन्य ढाणियों की महिलाओं ने कहा है कि राज्य सरकार आरक्षण देने में चाहे जितना समय लगा ले, लेकिन इस बार लड़ाई आर पार की होगी और आरक्षण के बगैर पटरियां नहीं छोडेंगी।

कर्नल बैसला ने बुधवार को देर शाम पत्रकारों के सवालों के जवाब में कहा कि न्यायालय के आदेश का सम्मान करते हैं। यदि आंदोलनकारियों को दमनपूर्वक ट्रैक से खदेड़ा गया तो वह ट्रैक के दोनों तरफ गुर्जर समाज के खेतों में पड़ाव डालेंगे लेकिन बिना आरक्षण के खाली हाथ नहीं लौटेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.