ताज़ा खबर
 

शीना बोरा हत्या: जांच के दायरे में रायगढ़ पुलिस, सरकार ने मांगी रिपोर्ट

रायगढ़ पुलिस द्वारा 2012 के शीना बोरा हत्या मामले में कथित तौर पर ढिलाई बरतने को लेकर सवाल उठने के बीच महाराष्ट्र सरकार ने राज्य के पुलिस महानिदेशक..
Author मुंबई | November 21, 2015 19:46 pm
शीना बोरा की मां इंद्राणी, इंद्राणी के पूर्व पति संजीव खन्ना, पूर्व चालक श्याम राय ने अप्रैल 2012 में कथित तौर पर उसकी हत्या की थी। 24 वर्षीय शीना का शव रायगढ़ जिले के जंगलों में फेंक दिया गया था।

रायगढ़ पुलिस द्वारा 2012 के शीना बोरा हत्या मामले में कथित तौर पर ढिलाई बरतने को लेकर सवाल उठने के बीच महाराष्ट्र सरकार ने राज्य के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) से 15 दिनों के अंदर इस संबंध में एक नयी रिपोर्ट सौंपने को कहा है और यह सवाल किया है कि पीड़ित का शव मिलने के बाद कोई प्राथमिकी क्यों दर्ज नहीं की गयी।

इस बीच एक संबंधित घटनाक्रम में सीबीआई ने शनिवार को भी पूर्व मीडिया हस्ती पीटर मुखर्जी से पूछताछ की। सूत्रों ने बताया कि मुखर्जी से दक्षिण मुंबई स्थित एजेंसी कार्यालय में पूछताछ की गयी जहां उन्हें रखा गया है। मुखर्जी को गुरुवार को गिरफ्तार किया गया था और उन पर हत्या, आपराधिक साजिश, सबूत नष्ट करने और अपनी पत्नी इंद्राणी को बचाने के लिए झूठ बोलने का आरोप है। इंद्राणी के पति पीटर को शुक्रवार को एक मजिस्ट्रेट अदालत ने 23 नवंबर तक के लिए सीबीआई हिरासत में भेज दिया था।

पीटर के पुत्र राहुल मुखर्जी ने कहा कि उनके पिता पर लगाए गए आरोप ‘अपमानजनक’ हैं। राहुल के शीना के साथ संबंध थे। शीना बोरा की मां इंद्राणी, इंद्राणी के पूर्व पति संजीव खन्ना, पूर्व चालक श्याम राय ने अप्रैल 2012 में कथित तौर पर उसकी हत्या की थी। 24 वर्षीय शीना का शव रायगढ़ जिले के जंगलों में फेंक दिया गया था।

राज्य सरकार ने 2012 में रायगढ़ पुलिस के खिलाफ कार्रवाई के संबंध में पूर्व डीजीपी संजीव दयाल द्वारा सौंपी गयी ‘एक पृष्ठ’ की रिपोर्ट पर असंतोष जताया और पुलिस महानिदेशक प्रवीण दीक्षित को एक नयी रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया है।

राज्य सरकार ने यह जांच करने का आदेश दिया है कि 23 मई 2012 को जब महाराष्ट्र में रायगढ़ जिले के पेन तालुका के जंगलों में शीना बोरा का शव पहली बार मिला तो पुलिस ने कोई प्राथमिकी या एडीआर (आकस्मिक मौत रिपोर्ट) क्यों नहीं दर्ज की।

अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) केपी बक्शी ने कहा, ‘पिछले डीजी (दयाल) ने हमें एक पृष्ठ की एक रिपोर्ट सौंपी लेकिन मैं इससे संतुष्ट नहीं हूं। मैंने कहा कि एक वरिष्ठ अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई के लिए संबंधित दस्तावेजों की जरूरत होगी।’’

बक्शी ने कहा कि नए डीजी (प्रवीण दीक्षित) को अब संबंधित दस्तावेजों के साथ एक नयी रिपोर्ट सौंपने की जिम्मेदारी सौंपी गयी है। हमें अगले 15 दिनों में रिपोर्ट मिलने की संभावना है।

शीना बोरा हत्या मामले की जांच में देरी में एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी की कथित संलिप्तता के संबंध में मीडिया की खबरों से इंकार करते हुए बख्शी ने पहले कहा था कि सरकार को इस मुद्दे पर सीबीआई से कोई आधिकारिक संवाद नहीं मिला है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने जांच का जिम्मा जांच एजेंसी को सौंपने के दो दिनों के अंदर यह सुनिश्चित किया कि उसे सभी जरूरी मदद मिल सके।

बक्शी ने कहा कि मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के निर्देश पर सीबीआई को सरकार की ओर से सहायता और मामले को आगे बढ़ाने में उनकी त्वरित कार्रवाई से प्रमुख जांच एजेंसी ने समय से पहले ही आरोपपत्र दाखिल कर दिया। हालांकि उन्होंने इस सवाल पर टिप्पणी करने से इंकार कर दिया कि अगर यह मामला सीबीआई को नहीं सौंपा जाता तो क्या पीटर कानून के चंगुल से बच निकलते।

दक्षिण मुंबई स्थित सीबीआई कार्यालय से बाहर आते हुए राहुल ने कहा, ‘उनके (पीटर) खिलाफ आरोप पूरी तरह अपमानजनक हैं।’ राहुल ने बीती रात सीबीआई कार्यालय में गुजारी क्योंकि उन्होंने वहां रुकने के लिए अधिकारियों से आग्रह किया था।

राहुल ने शुक्रवार को कहा था कि पीटर की गिरफ्तारी उनके लिए एक ‘सदमा’ है। उन्होंने अदालत के बाहर संवाददाताओं से कहा था, ‘मुझे नहीं लगता कि उन्हें (हत्या के बारे में कुछ भी) जानकारी थी, अन्यथा मैं यहां नहीं होता।’

जांच एजेंसी ने अदालत से यह भी कहा था कि पीटर वीभत्स हत्या से पहले, उसके दौरान और उसके बाद इंद्राणी के लगातार संपर्क में थे।

अप्रैल 2012 में हुयी हत्या में वित्तीय कोण को जोड़ते हुए आरोपपत्र में कहा गया है कि शीना की हत्या किए जाने का प्रमुख कारण यह था कि इंद्राणी को डर था कि यदि शीना की शादी पीटर के बेटे राहुल से हो गई तो वह उसकी (इंद्राणी की) और उसके पति पीटर की सारी संपत्ति की हकदार बन जाएगी।

आरोपपत्र में कहा गया है कि इंद्राणी के मन में उसके पूर्व पति संजीव खन्ना से हुई उसकी बेटी विधि के प्रति लगाव था। इंद्राणी को डर था कि शीना और राहुल की शादी होने की स्थिति में सारी संपत्ति उनके पास जा सकती है।

आरोपपत्र में कहा गया कि इसलिए उसने खन्ना और अपने चालक के साथ मिलकर शीना बोरा की हत्या की योजना बनाई। जांच एजेंसी ने अदालत को बताया कि राहुल ने अपने पिता पीटर के साथ हुई उस बातचीत को रिकॉर्ड किया था जिसमें उसके पिता ने उससे कहा था कि उन्होंने शीना से बात की है और वह अमेरिका में है, जबकि उस समय तक उसकी मौत हो चुकी थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग