December 10, 2016

ताज़ा खबर

 

पूर्व सैनिकों से मिले राहुल गांधी, कहा- मोदी जी झूठ बोलना बंद करें, सरकार ने नहीं दिया OROP

राहुल गांधी ने कहा कि सरकार को वन रैंक-वन पेंशन का वादा पूरा ही करना ही होगा।

Author नई दिल्ली | November 4, 2016 19:24 pm
कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी। ( फाइल फोटो -पीटीआई)

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने वन रैंक वन पेंशन (ओआरओपी) मुद्दे को लेकर सरकार पर शुक्रवार को हमला तेज कर दिया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर इस मामले में ‘गलतबयानी’ करने का आरोप लगाया। इसके साथ ही राहुल ने जोर दिया कि सेवानिवृत्त रक्षाकर्मियों को जो राशि मिल रही है वह ‘बढ़ी हुई पेंशन’ है तथा ओआरओपी की मांग अभी पूरी नहीं हुई है। कांग्रेस उपाध्यक्ष ने जोर दिया कि ओआरओपी सैन्य कर्मियों का अधिकार है और सरकार ‘को यह देना होगा।’ उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री जो कह रहे हैं वह वन रैंक वन पेंशन वास्तव में बढ़ी हुई पेंशन है न कि ओआरओपी। प्रधानमंत्री को इस बारे में गलतबयानी बंद करनी चाहिए। ओआरओपी सशस्त्र बल के कर्मियों का अधिकार है और सरकार को यह देना होगा।’

राहुल ने कहा, ‘देश के किसान और जवानों को पैसा नहीं इज्जत चाहिए। हिंदुस्तान के प्रधानमंत्री खड़े होते हैं और कहते हैं कि हमने वन रैंक-वन पेंशन दे दिया है। अगर आपने ओआरओपी दे दिया तो ये हमारे सैनिक जंतर-मंतर पर मीडिया के सामने क्यों खड़े हैं। सच्चाई यह है कि हिंदुस्तान की सरकार ने ओआरओपी नहीं दिया है। इन्होंने अपनी जिंदगी देश के लिए दी है। इनकी इज्जत कीजिए। ओआरओपी को सचमुच में पूरा करके दिखाएं। ये उनका हक है। सरकार को इनकी यह मांग पूरी करनी ही होगी।’

वीडियो में देखें- राहुल गांधी बोले- ‘मोदी जी झूठ बोलना बंद करें और OROP लागू करें’

पूर्व सैनिक राम किशन ग्रेवाल के आत्महत्या करने के मुद्दे पर हो रहे प्रर्दशनों के दौरान उन्हें दो दिनों में तीन बार हिरासत में लिया गया। राहुल ने कहा कि वह हिरासत में लिए जाने से परेशान नहीं हैं। ग्रेवाल ने कथित तौर पर ओआरओपी को लेकर आत्महत्या कर ली थी। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार ने 15 बड़े उद्योगपतियों के 1.10 लाख करोड़ रूपए के लोन को माफ कर दिया लेकिन उसके पास सैनिकों और किसानों को देने के लिए कुछ नहीं है। कांग्रेस मुख्यालय में करीब 60-70 पूर्व सैनिकों से मुलाकात करने के बाद उन्होंने कहा, ‘सरकार ने सैनिकों को वह सम्मान और हक नहीं दिया है जिसके वे हकदार हैं। अगर ऐसा होता तो पिछले 509 दिनों से ये पूर्व सैनिक क्यों जंतर मंतर पर प्रदर्शन कर रहे हैं।’ ग्रेवाल की आत्महत्या को लेकर प्रदर्शनों के दौरान राहुल काफी सक्रिय रहे। उन्होंने सरकार पर आरोप लगाया कि उसने ‘देश के लिए अपना जीवन बलिदान करने वाले सैनिकों के साथ न्याय नहीं किया।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 4, 2016 4:09 pm

सबरंग