ताज़ा खबर
 

500, 1000 के नोट बंद करना कालाधन के खिलाफ ताबूत में आखिरी कील ठोकने के समान: राधामोहन सिंह

राधामोहन ने कहा कि नई व्यवस्था से करीब 75 प्रतिशत लोगों को कुछ दिनों के लिए, 24 प्रतिशत लोगों को 10 से 20 दिनों तक कठिनाई होगी एवं एक प्रतिशत लोगों को परेशानी होगी।
Author मोतिहारी | November 12, 2016 21:36 pm
केंद्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह। (पीटीआई फाइल फोटो)

केन्द्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री राधामोहन सिंह ने शनिवार (12 नवंबर) को दावा किया कि केंद्र सरकार का 500, 1000 के नोट बंद करना कालाधन के खिलाफ ताबूत में आखिरी कील ठोकने के समान साबित होगा। पूर्वी चंपारण जिला मुख्यालय मोतिहारी में आज (शनिवार, 12 नवंबर) पत्रकारों से राधामोहन ने केंद्र सरकार द्वारा 500 एवं 1000 के नोट बंद करना कालेधन पर ‘सर्जिकल स्ट्राईक’ की संज्ञा दी और कहा कि इस निर्णय के जरिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने न केवल कालाधन, भ्रष्टाचार और आतंकवाद के खिलाफ अभियान छेड़ा है बल्कि यह कालेधन के खिलाफ ताबूत में आखिरी कील ठोकने के समान है। उन्होंने बताया कि कालाधन, भष्टाचार और आतंकवाद के मुद्दों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने लोकसभा चुनाव के दौरान ही उठाया था और जनता से किए गए वादों को पूरा किया है। उन्होंने पाकिस्तान पर जाली नोट के जरिए भारतीय अर्थव्यवस्था को प्रभावित करने की कोशिश करने का आरोप लगाते हुए कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था एवं राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए यह कर्रवाई आवश्यक हो गया था, इसने पाकिस्तानी मंसूबे पर पानी फेर दिया है।

राधामोहन ने कहा कि नई व्यवस्था से करीब 75 प्रतिशत लोगों को कुछ दिनों के लिए, 24 प्रतिशत लोगों को 10 से 20 दिनों तक कठिनाई होगी एवं एक प्रतिशत लोगों को परेशानी होगी। सरकार का यह कदम ईमानदार नागरिकों के हित उठाया गया है। उन्होंने सरकार के इस निर्णय का उत्तर प्रदेश सहित अन्य राज्यों में आसन्न विधानसभा चुनाव पर सकारात्मक प्रभाव पड़ने का दावा करते हुए आरोप लगाया कि काले धन पर लगाए गए लगाम से सियासी बैचेनी बढी है क्योंकि किसी भी राजनीतिक दल में कालेधन के बगैर अपने बलबूते चुनाव रहने के बल नहीं है। केंद्रीय मंत्री ने बिहार सरकार पर केंद्र की योजनाओं को अपनी योजनाएं बताकर जनता की आंख में धूल झोंकने का आरोप लगाते हुए कहा कि केंद्र ने पेयजल, नाली के निर्माण, विधुतिकरण के लिए राशि जारी कर दी है और जनता अकलमंद है और वह सभी चीजों को समझती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग