April 30, 2017

ताज़ा खबर

 

पंजाब नाभा जेल ब्रेक: जेल के डीजी निलंबित,अधीक्षक और उपाधीक्षक बर्खास्त

पंजाब की नाभा जेल में रविवार (27 नवंबर) को 10 हथियार बंद लोग घुस गए। वे लोग वहां बंद खालिस्तान लिबरेशन फोर्स के चीफ हरमिंदर सिंह मिंटो और उनके चार साथियों को छुड़ाकर ले गए।

जेल से कैदियों के भागने की घटना के बाद पंजाब सरकार ने रविवार (27 नवंबर) को महानिदेशक (जेल) को निलंबित कर दिया और नाभा जेल के अधीक्षक एवं उपाधीक्षक को बर्खास्त कर दिया एवं इसकी जांच के लिए एक विशेष कार्यबल गठित किया। गृह विभाग का प्रभार संभाल रहे उपमुख्यमंत्री सुखबीर बादल ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘महानिदेशक :जेल: को निलंबित कर दिया गया है, जेल अधीक्षक एवं उपाधीक्षक बर्खास्त कर दिए गए हैं।’’उन्होंने बताया कि भागे कैदियों का पता लगाने के लिए एक तलाशी अभियान छेड़ा गया है तथा इस काम के लिए एक विशेष कार्यबल गठित किया गया है। उन्होंने बताया कि एडीजीपी रैंक के अधिकारी के नेतृत्व में एक विशेष जांच दल गठित किया गया है जो जेल से कैदियों के भागने की घटना के सिलसिले में खामियों और साजिश संबंधी थ्योरी पर गौर करेगा।

उपमुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘विशेष जांच दल को तीन दिन के संबंध में रिपोर्ट देने को कहा गया है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘गृह सचिव इस बात पर मुझे रिपोर्ट देंगे कि कोई चूक हुई है या नहीं। इस घटना में जो भी जिम्मेदार पाया जाएगा, उसके विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी। ’’ उन्होंने कहा कि चिंता की कोई बात नहीं है क्योंकि, ‘उन्हें (कैदियों को) भागने नहीं दिया जाएगा। पुलिस उनके पीछे पड़ी है। हम उन्हें शीघ्र पकड़ लेंगे। ’

यहां नाभा जेल पर पुलिस की वर्दी में कुछ हथियारबंद लोगों ने हमला किया और खलिस्तान लिबरेशन फ्रंट के प्रमुख हरमिंदर मिंटू समेत पांच कैदियों को को भगा ले गए।

गौरतलब है कि पंजाब की नाभा जेल में रविवार (27 नवंबर) को 10 हथियार बंद लोग घुस गए। वे लोग वहां बंद खालिस्तान लिबरेशन फोर्स के चीफ हरमिंदर सिंह मिंटो और उनके चार साथियों को छुड़ाकर ले गए। पुलिस ने बताया कि वे 10 लोग पुलिस की वर्दी पहनकर जेल में घुसे थे और उन्होंने लगभग 100 राउंड फायर किए थे। बाकी जिन लोगों को वे लोग ले गए उनका नाम गुरप्रीत सिंह, विक्की सिंह गंडोरा, नितिन देओल और विक्रमजीत सिंह विक्की है। भागने वालों में दो आतंकी हैं।

हरमिंदर सिंह मिंटू जो कि 49 साल का है उसपर 10 से ज्यादा केस दर्ज हैं। उनमें डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख राम रहीम पर हमला का मामला भी शामिल है। हरमिंदर को नवंबर 2014 में दिल्ली एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया गया था। जाननकारी मिली है कि हथियारबंद लोग दो गाड़ियों में बैठकर जेल पहुंचे थे। सबसे पहले उन्होंने गार्ड पर चाकू से हमला किया और फिर जेल के अंदर घुस गए। पंजाब को इस वक्त हाई अलर्ट पर रखा गया है। पंजाब पुलिस के डायरेक्टर जनरल ने डिप्टी सीएम सुखबीर सिंह से मुलाकात करके हालात का जानकारी दी है।

punjab-jail-1 punjab-jail-2 punjab-jail-3 punjab-jail-4 punjab-jail-5

(Photo Source: Indian Express/Harmeet Sodhi)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 27, 2016 10:37 am

  1. B
    Bharti
    Nov 27, 2016 at 5:25 am
    Modi government saying that they will jail for 4 years to tax evaders, what kind of Jails and what Judicial reform you did FEKU
    Reply
    1. D
      Dharamvir Saihgal
      Nov 27, 2016 at 6:19 am
      Good Luck.
      Reply
      1. V
        Vijay Anand
        Nov 27, 2016 at 10:06 am
        जेल से भाग तो गये हो पर सावधान रहना तुम सब भागने के चक्कर मे कहीं मार न दिये जाओछिप जाओ कहीं थाने मे जा कर |
        Reply
        1. B
          Bhagawana Upadhyay
          Nov 28, 2016 at 2:50 am
          जेल का कोई कर्मचारी शहीद हुआ है तो उसको एक करोड़ का इनाम बनाता है पर बर्खाश्त होने पर भी २-५ करोड़ ............वह इंडिया और ....
          Reply
          1. B
            Bhagawana Upadhyay
            Nov 28, 2016 at 2:59 am
            न्याय पालिकाओं में जजो के पदों को खाली रखा जाकर और न्याय व्यवस्था को लचर बनाकर अपराधियो को पनाह और निरपराधों को सज्जा का गंदा खेल देश में आज़ादी के समय से चल रहा है . देश के प्रधान मंत्री और मानवता के मसीहा लाल बहादुर शास्त्री की ह्त्या का खेल व श्री राजिव जी दिक्षित की ह्त्या इसके उदाहरण कहे जा सकते है .
            Reply
            1. B
              Bhagawana Upadhyay
              Nov 28, 2016 at 2:40 am
              वाह मेरा देश महान . कमी तो है सिस्टम में , दोष किसी पर डालकर मजे करने,सत्ता सुख भोगरहे नेताओ के असली चेहरो को समझने की जरूरत है . इनका चेहरा इज़्ज़त फिल्म के गीत "क्या मिलिए ऐसे लोगो से जिनकी फिदरत छुपी रहे ..." से अलग नहीं है . इन्होंने ये समझ लिया की देश की जनता की भावनाओ से खेलकर धर्म ,जाती ,मजहब ,आरक्षण ,सब्सिडी से बांटकर अपना उल्लू सीधा करना , सत्ता सुख भोगना बहूत आसान है . अपराध को पनाह देकर जनता को भयाक्रांत कर सत्तासीन होना और समय समय पर सिस्टम से बचाकर राष्ट्र द्रोह करते है .
              Reply
              1. Load More Comments

              सबरंग