ताज़ा खबर
 

प्रियंका गांधी vs स्मृति ईरानी, ‘IIIT’ को लेकर छिड़ा वाकयुद्ध

प्रियंका गांधी वाड्रा और मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी के बीच आज वाकयुद्ध तब छिड़ गया जब प्रियंका ने कहा कि उनकी मां सोनिया गांधी के निर्वाचन क्षेत्र में केन्द्रीय मंत्री आईआईआईटी क्यों नहीं स्थापित करवा रही हैं जबकि स्मृति ने पलटवार करते हुए कहा कि उन्होंने सही ढंग से जानकारी नहीं जुटायी है।
Author May 28, 2015 15:04 pm
उन्होंने इस बात पर हैरत जतायी कि क्या कांग्रेस का मानना है कि ‘‘श्री गांधी इतने समर्थन नहीं है कि वह अपने स्वयं के क्षेत्र का बचाव नहीं कर पाये और उन्हें अतिरिक्त गोलाबारूद की जरूरत है।’’

प्रियंका गांधी वाड्रा और मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी के बीच आज वाकयुद्ध तब छिड़ गया जब प्रियंका ने कहा कि उनकी मां सोनिया गांधी के निर्वाचन क्षेत्र में केन्द्रीय मंत्री आईआईआईटी क्यों नहीं स्थापित करवा रही हैं जबकि स्मृति ने पलटवार करते हुए कहा कि उन्होंने सही ढंग से जानकारी नहीं जुटायी है।

स्मृति ने कल गांधी-नेहरू परिवार पर हमला बोलते हुए कहा था कि वर्षों तक कोरे वादे झेलती रही अमेठी एवं रायबरेली अब विकास देखेगी। प्रियंका ने संवाददाताओं से बात करते हुए आज कहा कि मानव संसाधन विकास मंत्री को रायबरेली में आईआईआईटी स्थापित करने से कौन रोक रहा है। उन्होंने कहा कि युवाओं को कई समस्याएं आ रही है तथा यह उनका विभाग है। वह इस ओर क्यों नहीं देख रही हैं।


थोड़ी ही देर बाद पश्चिम बंगाल के मिदनापुर में संवाददाता सम्मेलन में स्मृति ने कहा, ‘‘श्रीमती वाड्रा ने जानकारी ढंग से नहीं जुटायी। अमेठी में आईआईआईटी इलाहाबाद का एक आफ कैंपस है। यह हैरत में डालने वाली बात है कि गांधी परिवार ने 60 साल तक तक इस गढ़ पर शासन किया और उन्होंने कुछ भी नहीं किया।’’

स्मृति ने कहा, ‘‘और अब एक जीतने वाला प्रत्याशी एक हारने वाले प्रत्याशी से उसके निर्वाचन क्षेत्र के विकास के लिए कह रहा है…एक ऐसा निर्वाचन क्षेत्र जिस पर 60 साल से अधिक समय से उनके परिवार का नियंत्रण है।’’

केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि वह इस प्रकार के हमले की उम्मीद कर ही रही थी क्योंकि वह कल अमेठी में थीं।

स्मृति ने आईअईआईटी के बारे में एक सवाल के जवाब में कहा, ‘‘मैं यह बात पहले भी कह चुकी हूं कि कम से कम मेरी उपस्थिति की वजह से ही अमेठी में गांधी परिवार अधिक दिखायी देगा। और मेरा वह बयान सही साबित हो रहा है।’’

उन्होंने इस बात पर हैरत जतायी कि क्या कांगे्रस का मानना है कि ‘‘श्री गांधी इतने समर्थन नहीं है कि वह अपने स्वयं के क्षेत्र का बचाव नहीं कर पाये और उन्हें अतिरिक्त गोलाबारूद की जरूरत है।’’

नेहरू..गांधी परिवार पर हमला जारी रखते हुए स्मृति ने कहा कि अमेठी में राहुल से हारने के बावजूद उन्होंने अपनी जेब से प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना के तहत अमेठी के 25 हजार निवासियों का पहला प्रीमियम चुकाया है।

उन्होंने कहा, ‘‘…मैंने अपनी जेब से अमेठी के 25 हजार नागरिकों का पहले साल का प्रीमियम चुकाया है। क्या आपने यह सुना है कि पहले अमेठी में किसी गांधी ने ऐसा किया हो।’’

रायबरेली के दो दिवसीय दौरे पर यहां पहुंचीं प्रियंका ने कहा कि स्मृति अब मानव संसाधन विकास मंत्री हैं ऐसे में रायबरेली में वायदे के अनुरूप आईआईआईटी की स्थापना में क्या बाधा है?

उल्लेखनीय है कि स्मृति ने कल अपने अमेठी दौरे पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी समेत गांधी-नेहरू परिवार पर हमला बोलते हुए कहा था कि अब तक कोरे वादे स्वीकार करती रही अमेठी की जनता विकास देखेगी।

स्मृति ने अमेठी संसदीय क्षेत्र में आने वाले रायबरेली जिले के सलोन कस्बे में आयोजित सभा में नेहरू-गांधी परिवार पर परोक्ष हमला करते हुए कहा, ‘‘नाना कह गये, नानी कह गयीं और ये (राहुल) भी वादा कर रहे हैं। वे सभी वादा करते चले आये लेकिन यहां के लोगों को रेलवे लाइन के दर्शन नहीं हुए। अब इस पर जल्द काम शुरू होगा।’’

लखनऊ के अमौसी हवाई अड्डे से सड़क मार्ग के जरिए सोनिया के निर्वाचन क्षेत्र पहुंची प्रियंका ने कहा कि रायबरेली में कई समस्याएं हैं और इस बार वह कुछ सोच समझकर यहां के दौरे पर आयी हैं। यहां की महिलाओं के साथ प्रियंका ने विशेष तौर पर अलग से मुलाकात और बातचीत की।

प्रियंका ने चिंता खेड़ा, भोजपुर, विसायकपुर, निसगर, नीबी, रानी खेड़ा तथा पूरे पाण्डेय गांवों का दौरा किया। इस दौरान ग्रामीणों ने पेयजल की किल्लत तथा घर ना होने की शिकायत की। इस पर प्रियंका ने इन समस्याओं को कल होने वाली जिला सतर्कता एवं अनुश्रवण समिति की बैठक में क्षेत्रीय सांसद सोनिया गांधी के सामने उठाने का आश्वासन दिया।

कांग्रेस स्टार प्रचारक ने ऊंचाहार विधानसभा क्षेत्र के रामपुर बरारा, जलालपुर धई, कदरावां इत्यादि गांवों में विकास कार्यों का औचक निरीक्षण भी किया।

प्रियंका कल अपनी मां सोनिया के रायबरेली दौरे के दौरान होने वाले कार्यक्रमों में उनके साथ रहेंगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. R
    RAJGUPTA
    May 28, 2015 at 4:32 pm
    अब तो आप '' वाड्रा '' हो गयी तो '' गांधी'' टाइटल क्यों?? आप महात्मा गांधी की , या राष्टपिता मोहनचंद करमचंद गांधी की वारिस तो है नहीं ,फिर क्यों ,, किस लिए ???
    (0)(0)
    Reply