ताज़ा खबर
 

राष्ट्रपति चुनाव में बीजेपी को हराने के लिए नीतीश चाहते हैं एनडीए के विपक्षी दल मिलकर लड़ें चुनाव

कई पार्टियों के बड़े नेताओं से की नीतीश कुमार ने मुलाकात।
लालू प्रसाद यादव (बाएं) के साथ बिहार के सीएम नीतीश कुमार। (Photo: PTI)

राष्ट्रपति चुनाव नजदीक आता जा रहा है। जैसे जैसे चुनाव के दिन नजदीक आ रहे हैं सभी पार्टियों में हलचल शुरू होती दिखाई दे रही है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार राष्ट्रपति चुनाव के लिए उन सभी राजनीतिक  पार्टियों से बात कर रहे हैं जोकि एनडीए के साथ नहीं हैं। नीतीश कुमार चाहते हैं कि सभी पार्टियां मिलकर राष्ट्रपति पद के लिए अपना एक उम्मीदवार मैदान में उतारें। जिस उम्मीदवार को उतारें वही देश का राष्ट्रपति भी बने। वह चाहते हैं कि सभी पार्टियां मिलकर एनडीए के उम्मीदवार को हरा दें। वह चाहते हैं कि राष्ट्रपति एनडीए का न बने। 2012 के राष्ट्रपति चुनाव के समय नीतीश कुमार एनडीए का हिस्सा थे इसके बावजूद भी उन्होंने यूपीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार प्रणब मुखर्जी का समर्थन किया था। हाल ही में जब नीतीश कुमार दिल्ली में थे तो उन्होंने इसकी चिंता जाहिर करते हुए एनसीपी, सीपीएम, सीपीआई और इंडियन नेशनल लोक दल के टॉप नेताओं से इसके बारे में बात की। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि गैर एनडीए दलों को अपना एक ही उम्मीदवार मैदान में उतारना चाहिए।

नीतीश कुमार ने दिल्ली में शनिवार को आईएनएलडी के नेता ओम प्रकाश चौटाला से मुलाकात की। हालांकि जेडीयू के नेता ने कहा कि यह एक औपचारिक मुलाकात थी। दोनों नेताओं के संबंध बहुत पुराने हैं। बिहार के मुख्यमंत्री ने शुक्रवार सीपीआई के केंद्रीय कार्यालय भी गए। वहां उन्होंने सीपीआई के नेता डी राजा और सुधाकर रेड्डी से मुलाकात की। इसके बाद उन्होंने सीपीएम के महासचिव सीताराम येचुरी से मुलाकात की। इसके बाद उन्होंने महाराष्ट्र के गोंदिया में मनोहरभाई पटेल इंस्टिट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग ऐंड टेक्नॉलोजी में एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल के साथ एक कार्यक्रम में हिस्सा लिया।

जेडीयू के सूत्रों के मुताबिक इन मुलाकातों में राष्ट्रपति पद के लिए सभी पार्टियां एक ही उम्मीदवार उतारें इस पर बात हुई है। सूत्रों ने कहा कि सीएम कांग्रेस के नेताओं के संपर्क में भी हैं। राष्ट्रपति चुनाव हमारे लिए एक बड़ा मुद्दा है। लोकसभा चुनाव से दो साल पहले राष्ट्रपति का चुनाव होता है। यह एक संवैधानक हम चाहते हैं कि राष्ट्रपति आरएसएस से या कोई ऐसा व्यक्ति नहीं होना चाहिए जो कि पक्षपात करे। जुलाई में राष्ट्रपति का चुनाव है।

पप्‍पू यादव ने किया नीतीश कुमार का चरित्रहनन, कहा- कैशलेस का समर्थन करते हैं और खुद पैसे देकर मनसुख, नयनसुख लेते हैं देखें वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.