June 25, 2017

ताज़ा खबर
 

पीएम मोदी से मिले एनडीए के राष्ट्रपति उम्मीदवार रामनाथ कोविंद, विपक्ष बोला- सोचकर बताएंगे क्‍या करना है

रामनाथ कोविंद को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी का राष्ट्रपति उम्मीदवार घोषित किया है।

बीजेपी के राष्ट्रपति उम्मीदवार रामनाथ कोविंद (बाएं) और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (फाइल फोटो)

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) अध्यक्ष अमित शाह ने सोमवार (19 जून) को बीजेपी संसदीय दल की बैठक के बाद पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के तौर पर बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद का नाम घोषित किया। रामनाथ कोविंद के नाम की घोषणा के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, बिहार के सीएम नीतीश कुमार, आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू, तेलंगाना के सीएम के चंद्रशेखर राव और तमिलनाडु के सीएम के पलानीस्वामी से फोन पर बात की। तेलंगाना के सीएम और टीआरएस के नेता केसी राव ने बीजेपी के राष्ट्रपति उम्मीदवार को समर्थन देने की घोषणा भी कर दी है। रामनाथ सोमवार को विमान से दिल्‍ली पहुंचे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। उन्‍होंने भाजपा अध्‍यक्ष अमित शाह से मिलकर उन्‍हें इतनी बड़ी जिम्‍मेदारी सौंपने पर धन्‍यवाद दिया। पटना से दिल्ली रवाना होने से पहले कोविंद ने बिहार के लोगों को बधाई देते हुए कहा कि यह ‘बिहार की धरती का कमाल है।’ दिल्ली रवाना होने से पहले पत्रकारों से मुखातिब कोविंद ने कहा, “मैं इस समय कुछ और नहीं कहूंगा, यह बिहार की धरती का कमाल है। मैं बिहार के विकास की कामना करता हूं और यहां के लोगों को बधाई देता हूं।”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रामनाथ कोविंद के नाम की घोषणा के बाद ट्वीट किया, “मैं आश्वस्त हूं कि श्री रामनाथ कोविंद एक अप्रतिम राष्ट्रपति बनेंगे और गरीबों, वंचितों और हाशिये के समाज के मजबूत आवाज बने रहेंगे।” बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने सोमवार को रामनाथ कोविंद के नाम की घोषणा के बाद बताया कि बीजेपी के सहयोगी दलों को भी रामनाथ कोविंद के उम्मीदवार बनाए जाने के बारे में सूचित कर दिया गया है और वो राजग के राष्ट्रपति उम्मीदवार होंगे। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि राजग के राष्ट्रपति उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को समर्थन देने पर निर्णय पार्टी नेताओं से मंगलवार को चर्चा के बाद लिया जाएगा। ठाकरे ने शिवसेना के 51वें स्थापना दिवस पर पार्टी कार्यकर्ताओं की एक रैली को संबोधित करते हुए घोषणा की, “हम बगैर चर्चा के कोई निर्णय नहीं लेंगे और इसकी घोषणा कल (मंगलवार) को की जाएगी।”

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को कहा कि उप्र के लिए यह गौरव की बात है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने प्रदेश की 22 करोड़ जनता में से एक दलित व्यक्ति को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया है। उप्र के सभी राजनीतिक दल दलगत भावना से ऊपर उठकर उनकी उम्मीदवारी का समर्थन करें। 5, कालिदास मार्ग स्थित अपने आधिकारिक आवास पर पत्रकारों से बातचीत में मुख्यमंत्री योगी ने कहा, “बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद की राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवारी उप्र के लिए गौरव का विषय है। यह हम सबके लिए प्रसन्नता का विषय है। रामनाथ कोबिंद को एनडीए का राष्ट्रपति पद का प्रत्याशी बनाया गया है।”

राष्ट्रपति चुनाव के उम्मीदवार की घोषणा से कुछ दिन पहले बीजेपी अमित शाह ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री अरुण जेटली और सूचना एवं प्रसारण मंत्री वेंकैया नायडू की एक तीन सदस्यीय कमेटी बनाई थी जिसे राष्ट्रपति चुनाव पर विपक्षी दलों के साथ बातचीत करने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। राजनाथ और वेंकैया ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की थी लेकिन बैठक के बाद कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा था कि बीजेपी नेताओं ने किसी के नाम का सुझाव वहीं दिया बल्कि वो उन्हीं से राष्ट्रपति उम्मीदवार के बारे में पूछ रहे थे।

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार वेंकैया नायडू ने लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी को रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाए जाने के बारे में सूचित कर दिया था। वहीं बीजेपी द्वारा रामनाथ कोविंद के नाम की घोषणा के बाद कांग्रेसी नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि बीजेपी अगर सर्वसम्मति से राष्ट्रपति उम्मीदवार उतारना चाहती थी तो उसे सार्वजनिक घोषणा से पहले ही विपक्ष को उसके बारे में बताना चाहिए था।

जदयू नेता शरद यादव ने कहा है कि सभी विपक्षी दल 22 जून को विपक्ष के राष्ट्रपति उम्मीदवार के नाम पर विचार के लिए बैठक करेंगे। शरद यादव ने कहा कि विपक्ष की बैठक में बीजेपी गठबंधन के नाम पर भी विचार होगा। विपक्ष की बैठक में कांग्रेस के अलावा, ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस, नीतीश कुमार जदयू, नवीन पटनायक की बीजद, लालू यादव की राजद, मायावती की बसपा और सीपीएम  इत्यादि शामिल हो सकते हैं।

देश के मौजूदा राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो रहा है। चुनाव आयोग ने 14 जून को राष्ट्रपति चुनाव की अधिसूचना जारी की। 28 जून तक राष्ट्रपति चुनाव के लिए नामांकन दाखिल किया जा सकता है। एक जुलाई तक नाम वापस लिया जा सकता है। 17 जुलाई को राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान होगा। 20 जुलाई को नतीजे आएंगे।

राष्ट्रपति चुनाव 2017 बेहद करीब है। चुनाव को लेकर राजनीतिक दलों में सुगबुगाहट तेज हो गई है। नए राष्ट्रपति के नाम को लेकर सभी बैठकें और विचार-विमर्श में जुटे हैं। तो आइए जानते हैं कि इस बार के चुनाव में दिख सकती है कुछ इस तरह की तस्वीर। राष्ट्रपति चुनाव की बात सुनने और देखने में जितनी आसान लगती है, असल में यह उतनी ही टेढ़ी खीर है। देश की सबसे ताकतवर कुर्सी के लिए जनता मतदान नहीं करती। जी हां, राष्ट्रपति को सीधे तौर पर लोग खुद नहीं चुन सकते। राष्ट्रपति चुनाव की प्रक्रिया में विधायक और सांसद वोट देते हैं। ऐसे गिने जाते हैं उनके मत।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on June 19, 2017 2:46 pm

  1. No Comments.
सबरंग