ताज़ा खबर
 

पीएम नरेंद्र मोदी आज हुए जापान के तीन दिवसीय दौरे पर रवाना, असैन्य परमाणु समझौते पर करार संभव

पीएम मोदी जापानी पीएम के साथ शिंकानसेन बुलेट ट्रेन में बैठकर टोक्यो से कोबे जाएंगे। यात्रा से पहले मीडिया को दी गई जानकारी के अनुसार इसी बुलेट ट्रेन तकनीकी का इस्तेमाल मुंबई-अहमदाबाद हाई स्पीड रेलवे में किया जाएगा।
दिसंबर 2015 में जापानी पीएम शिंजो एबे अपने भारत दौरे में पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी भी गए थे। (FILE PHOTO: REUTERS)

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार (10 नवंबर) को जापान की तीन दिन की यात्रा पर रवाना हो गए। माना जा रहा है कि भारतीय प्रधानमंत्री के इस दौरे में दोनों देशों के बीच परस्पर व्यापार, निवेश, सुरक्षा को बढ़ाने पर विचार करने के साथ ही असैन्य परमाणु समझौता हो सकता है। पीएम मोदी जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे के साथ सालाना बैठक भी करेंगे। पीएम मोदी जापान के राजा से भी मिलेंगे। ये पीएम मोदी की दूसरी जापान यात्रा होगी। पीएम मोदी जापानी पीएम के साथ शिंकानसेन बुलेट ट्रेन में बैठकर टोक्यो से कोबे जाएंगे। यात्रा से पहले मीडिया को दी गई जानकारी के अनुसार इसी बुलेट ट्रेन तकनीकी का इस्तेमाल मुंबई-अहमदाबाद हाई स्पीड रेलवे में किया जाएगा। पीएम मोदी कोबे स्थित कावासाकी हेवी इंडस्ट्रीज कारखाने का भी दौरा करेंगे। ये बुलेट ट्रेन इसी कारखाने में तैयार होती है।

पीएम मोदी ने एक बयान में कहा, “मैं 10-12 नवंबर तक सालाना बैठक के लिए जापान यात्रा पर रहूंगा। प्रधानमंत्री के तौर पर ये मेरी दूसरी जापान यात्रा है। मैं भारत और जापान के शीर्ष कारोबारियों से दोनों देशों के आपसी व्यापार और निवेश को बढ़ाने पर चर्चा करूंगा।” बयान में कहा गया है कि 11 नवंबर को जापानी पीएम आबे से मुलाकात में पीएम मोदी दोनों देशों के संबंधों के परस्पर सहयोग को नई ऊंचाइयों पर ले जाने का प्रयास करेंगे। इस बयान में कहा गया है कि भारत और जापान दोनों ही साझा बौद्ध विरासत, लोकतांत्रक मूल्यों और खुली, समावेशी और नियमों का सम्मान करने वाली वैश्विक व्यवस्था में यकीन रखते हैं। माना जा रहा है कि पीएम मोदी के इस दौरे में दोनों देश आपस में असैन्य परमाणु समझौता कर सकते हैं जिसके बाद अमेरिकी परमाणु कंपनियों को भारत में परमाणु संयंत्र लगाने में मदद मिलेगी।

वीडियो: तीन दिवसीय जापान दौरे पर रवाना हुए पीएम नरेंद्र मोदी-

पिछले साल दिसंबर में जापानी पीएम आबे ने भारत का दौरा किया था। आबे के भारत दौरे में दोनों देश के बीच असैन्य परमाणु समझौते पर मोटी सहमति बन गई थी लेकिन उस पर अंतिम मुहर लगनी बाकी है। पिछले हफ्ते विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने बताया था कि दोनों देश इस समझौते के कानूनी और तकनीकी पहलू से जुड़ी प्रक्रियाएं पुरी कर ली हैं। हालांकि स्वरूप ने पीएम मोदी के दौरे में इस समझौते पर दस्तखत होने से जुड़ा सवाल टाल दिया था। उन्होंने कहा था, “मैं पहले से बातचीत के नतीजे का अनुमान नहीं लगा सकता।” भारत और जापान के बीच असैन्य परमाणु समझौते को लेकर कई सालों से बातचीत चल रही है। 2011 में जापान के फुकोशिमा में हुए परमाणु हादसे के बाद इस बातचीत में ठहराव आ गया था।

वीडियो: देखिए 500 और 1000 के नोट बंद होने पर क्या रही जनता की प्रतिक्रिया-

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.