March 27, 2017

ताज़ा खबर

 

रिपोर्टः बढ़ाई गई राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, पीएम नरेंद्र मोदी, सोनिया गांधी और राहुल गांधी की सुरक्षा

एसपीजी आपाकालीन स्थिति की तैयारी के तौर पर प्रधानमंत्री आवास और कार्यलाय में मॉक ड्रील भी करेगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा का जिम्मा एसपीजी पर है। (Express Photo)

बुधवार (5 सितंबर) को हुई सुरक्षा मामलों की कैबिनेट कमेटी (सीसीएस) की बैठक में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, उप-राष्ट्रपति हामिद अंसारी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की सुरक्षा बढ़ाने का फैसला लिया गया। इन सभी लोगों की सुरक्षा स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (एसपीजी) करती है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पार पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में पिछले हफ्ते भारत द्वारा किए गए सर्जिकल स्ट्राइक के बाद खुफिया एजेंसियों की सलाह पर सीसीएस ने ये फैसला लिया। 18 सितंबर को जम्मू-कश्मीर के उरी में सेना के कैम्प पर आतंकियों ने हमला कर दिया था जिसमें 19 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। पीएम मोदी के अलावा गृह मंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, वित्त मंत्री अरुण जेटली और रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर सीसीएस के सदस्य हैं।

वीडियो: चश्मदीदों ने बताया कि सर्जिकल स्ट्राइक के बाद ट्रकों पर ले गए शव-  

एसपीजी को प्रधानमंत्री आवास 7 लोक कल्याण मार्ग और उनके साउथ ब्लॉक स्थित कार्यलय की सुरक्षा परत बढ़ाने के लिए कहा गया है। एसपीजी आपाकालीन स्थिति की तैयारी के तौर पर प्रधानमंत्री आवास और कार्यलाय में मॉक ड्रील भी करेगी। भारतीय रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा डिजाइन किया गया विशेष बख्तरबंद गाड़ी प्रधानमंत्री की सुरक्षा में तैनात की जाएगी। भारतीय सेना भी प्रधानमंत्री की सुरक्षा व्यवस्था में एसपीजी की मदद करेगी। अभी हाल ही में पीएम मोदी एक मॉक ड्रील में शामिल हुए थे जिसमें उन्हें अचानक किए गए आतंकी हमले या प्राकृतिक आपदा की स्थिति में बचाव के रास्तों के बारे में बताया गया था।

बुधवार सुबह मीडिया में खबर आई कि भारतीय सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो भारत सरकार को सौंप दिया है। वीडियो को जारी करने का आखिरी फैसला सरकार करेगी। बुधवार सुबह पीएम मोदी ने मंत्रिमंडल की बैठक भी की थी। आम आदमी पार्टी के नेता और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पीएम मोदी से कहा था कि वो सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत पेश करके पाकिस्तान के दावों को झूठा साबित कर दें। पाकिस्तान सर्जिकल स्ट्राइक से इनकार करता रहा है। वहीं कांग्रेसी नेता संजय निरुपम ने भी यह कहकर विवाद पैदा कर दिया कि सर्जिकल स्ट्राइक फर्जी प्रतीत होती है। कई अन्य स्वतंत्र विश्लेषक भी सर्जिकल स्ट्राइक की जानकारी “सार्वजनिक” किए जाने की आलोचना की है।

उरी हमले के बाद भारत लगातार पाकिस्तान को कूटनीतिक तौर पर अलग-थलग करने की कोशिश कर रहा है। भारत के बहिष्कार के बाद पाकिस्तान में नवंबर में होने वाला दक्षेस सम्मेलन रद्द हो गया। बांग्लादेश, अफगानिस्तान, भूटान और श्रीलंका ने भारत का समर्थन करते हुए दक्षेस सम्मेलन में पाकिस्तान जाने से इनकार कर दिया था।

Read Also: सर्जिकल स्‍ट्राइक को फर्जी बताने वाले संजय निरुपम पर भड़की शिवसेना, राष्‍ट्रद्रोह का मामला दर्ज करने की मांग

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 5, 2016 6:29 pm

  1. No Comments.

सबरंग