ताज़ा खबर
 

1000-500 के नोट बैन कर नरेंद्र मोदी ने बनाया सरकारी खजाने में 300 अरब रुपए लाने का रास्‍ता

अर्थशास्त्रियों के बीच इस मुद्दे पर मतभेद है कि सरकार के 500 और 1000 के नोट बैन की कार्रवाई से कितने राजस्व का फायदा होगा।
राष्‍ट्र को संबोधित करेंगे पीएम नरेंद्र मोदी। (Source: DD/File)

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 500 और 1000 के नोट बैन करने से भारतीय अर्थव्यवस्था को करीब 300 अरब रुपये का फायदा होगा। इसके साथ ही महंगाई भी कम करने में मदद मिलेगी। मुंबई की एक ब्रोकरेज कंपनी एडेल्विज सिक्योरिटीज लिमिटेड ने अनुमान जाहिर किया है कि मोदी सरकार के इस कदम से 300 अरब रुपये (45 बिलियन डॉलर) सरकारी खजाने में आएंगे। यह राशि टैक्स चुकाने के डर से अभी तक दबा कर रखी गई थी। आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज प्राइमरी डिलरशिप लिमिटेड को इससे भी ज्यादा धन आने की उम्मीद है। उसके अनुमानों के मुताबिक 460 अरब रुपये सरकारी खजाने में आएंगे।

हालांकि, अर्थशास्त्रियों के बीच इस मुद्दे पर मतभेद है कि सरकार के 500 और 1000 के नोट बैन की कार्रवाई से कितने राजस्व का फायदा होगा। एक अनुमान के मुताबिक इस कदम से अर्थव्यवस्था के चलन में 1780 अरब रुपये में से 86 फीसदी बैंकों में जमा हो जाएंगे। विशेषज्ञों के मुताबिक इनमें से एक तिहाई कालाधन साबित हो जाएगा जिस पर कोई भी दावा नहीं कर पाएगा।

वीडियो देखिए: नोट बंद करने के फैसले को लेकर पीएम मोदी पर बरसे केजरीवाल, PayTm के एड में फोटो लगने पर भी पूछा सवाल

एडेल्विज सिक्योरिटीज लिमिटेड के विशेषज्ञ मनोज बहेती ने कहा कि नोट बैन से प्राप्त राजस्व का सरकार अब कई आर्थिक सुधारों के लिए कर सकती है। विशेषज्ञों के मुताबिक सरकार के इस कदम से रियल एस्टेट, ज्वैलरी और सीमेन्ट सेक्टर से पैसे निकाले जा सकते हैं। विशेषज्ञों का दावा है कि लोगों के पास जब कम नकद राशि होगी तब लोगों की खरीद क्षमता कम होगी और ऐसे में बढ़ती महंगाई पर अंकुश लगाया जा सकेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. M
    Malik
    Nov 10, 2016 at 3:46 pm
    भ्रस्टाचारी कालाधन का उपयोग न कर सके इसके लिए सोने (गोल्ड)की खरीद पर सरकार को कड़ी ानी रखनी चाहिए | नहीं तो भ्रस्टाचारी लोग सारा पैसा gold के खपा देंगे
    (1)(0)
    Reply
    सबरंग