December 02, 2016

ताज़ा खबर

 

जानिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कुशीनगर की परिवर्तन रैली में क्या कहा

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी के फैसले की आलोचना करने वाले विपक्षी दलों पर आज कुशीनगर में अपनी पार्टी की परिवर्तन रैली कर निशाना साधा है।

Author लखनऊ | November 27, 2016 16:56 pm
रैली को संबोधित करते पीएम मोदी। (Photo Source: ANI)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी के फैसले के बाद कठिनाइयों का सामना करते हुए भी भ्रष्टाचार और कालेधन से लड़ने के इस फैसले का समर्थन करने के लिए जनता को बधाई दी। उन्होंने कहा कि विमुद्रीकरण (डिमोनेटाइजेशन) के कदम के खिलाफ जनता को गुमराह करने के प्रयास चल रहे हैं लेकिन लोग बेहतर भारत के लिए कुर्बानी दे रहे हैं। उन्होंने युवाओं से अपील की कि ‘सच्चे सिपाहियों’ की तरह भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में आगे रहें।

मोदी के आज के बयान ऐसे समय में आये हैं जब नोटबंदी के मुद्दे पर विपक्ष के हमले जारी हैं और विपक्षी दल मांग कर रहे हैं कि इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री संसद में जवाब दें। मोदी ने कहा, ‘‘हमारा सपना नकदीरहित समाज का है। यह बात सही है कि हम इसे तत्काल हासिल नहीं कर सकते। लेकिन भारत निश्चित रूप से नकदी के कम प्रयोग वाले समाज (लैस-कैश सोसायटी) की ओर तो बढ़ ही सकता है। जब हम लैस-कैश सोसायटी की ओर बढ़ना शुरू करेंगे तो नकदीरहित समाज का लक्ष्य दूर नहीं रह जाएगा।’’

उन्होंने इस बड़े फैसले के कारण कठिनाई सहकर, समझौते करके और फिर भी मजबूती से अपने कामकाज के साथ आगे बढ़ने वाले किसानों, चाय बागान मजदूरों और कारोबारियों समेत समाज के विभिन्न वर्गों के प्रयासों की सराहना की। मोदी ने कहा कि नोटबंदी का कदम कारोबारियों के लिए डिजिटल लेनदेन की दिशा में बढ़ने और अपने व्यापार को मजबूत करने का अवसर है। मजदूरों की दशा की बात करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें न्यूतनम वेतन भी नहीं मिलता और कागज पर जो पगार लिखी होती है, उससे भी कम मिलती है। इस तरह से मजदूरों का शोषण होता है।
उन्होंने कहा कि बैंक खाते खोलने से इस समस्या के समाधान में मदद मिलेगी। श्रमिक वर्ग आर्थिक लेनदेन के लिए अपने मोबाइल एप्प का इस्तेमाल कर सकते हैं। प्रधानमंत्री ने युवाओं से अपील की कि दस परिवारों में जाएं और छोटे कारोबारियों के पास जाएं और उन्हें बताएं कि डिजिटल लेनदेन में मोबाइल तकनीक का इस्तेमाल कैसे होता है, जो सुरक्षित होता है। उन्होंने युवाओं को बदलाव का एजेंट बताते हुए कहा कि स्कूलों, कॉलेजों, एनसीसी, एनएसएस में इस तरह के अभियान चलाये जाने चाहिए।
मोदी ने कहा कि डाकघरों, बैंकों के तथा सरकार के कर्मचारी बहुत कठिन परिश्रम कर रहे हैं और 70 साल की बुराइयों से लड़ाई इतनी आसान नहीं रहेगी। प्रधानमंत्री ने भी कहा कि इस साल किसानों ने जो बुवाई की है, वह पिछले साल की तुलना में अधिक है। जम्मू कश्मीर में विकास प्रक्रिया का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि कुछ सप्ताह पहले उन्होंने जिन सरपंचों के साथ बैठक की थी, वे घाटी में स्कूलों को जलाये जाने को लेकर परेशान थे। उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर में हाल ही में हुई बोर्ड परीक्षाओं में 95 प्रतिशत विद्यार्थियों की भागीदारी दिखाती है कि वहां युवा बेहतर भविष्य के लिए दृढ़संकल्पित हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्होंने यूरिया की नीमकोटिंग करवाकर रसायन कारखानों के हाथों होने वाली उसकी कालाबाजारी को रोका, इससे आखिरकार किसानों को बड़ी राहत मिली। पहले की सरकारों को भी इसका ज्ञान था, लेकिन उन्हें किसान से ज्यादा कारखाने वालों की चिन्ता थी। मोदी ने स्वायल हेल्थकार्ड तथा प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का जिक्र करते हुए कहा कि इसे उत्तर प्रदेश सरकार में भी लागू किया जाना चाहिये लेकिन उन्हें नहीं लगता कि प्रदेश सरकार ऐसा करेगी, क्योंकि उसे ऐसे कार्यों में दिलचस्पी ही नहीं है।

उन्होंने कहा कि गण्डक नदी की तलहटी में मिट्टी भरी है, जिसकी वजह से नहर के अंतिम छोर तक पानी नहीं पहुंचता है। वह उत्तर प्रदेश सरकार से कहते-कहते थक गये कि केन््रद सरकार धन देगी, आप मनरेगा से इस नहर की मिट्टी निकलवायें, लेकिन उसे यह करने की भी फुरसत नहीं है। प्रधानमंत्री ने कहा ‘‘आप बताएं कि क्या नदी की सफाई में कोई राजनीति है… इससे किसान का ही भला होगा, लेकिन ये ऐसी राजनीतिक प्रकृति के लोग हैं कि उन्हें कूड़ा कचरा निकालना ही नहीं है, उन्हें कूड़े कचरे में ही मजा आता है।’’

वीडियो:मनमोहन के हमले पर जेटली का पलटवार; बोले- ‘स्कैंडल वाली सरकार नोटबंदी को घोटाला बता रही है’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 27, 2016 4:53 pm

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग