ताज़ा खबर
 

जवानों संग दिवाली मनाने के बाद पीएम मोदी पहुंचे केदारनाथ, बोले- मैंने अच्छा किया या बुरा ये इतिहास बताएगा

साल 2013 में प्राकृतिक आपदा से केदारनाथ धाम को काफी नुकसान पहुंचा था।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (एएनआई)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को भारतीय सैनिकों के साथ दिवाली मनाने के बाद शुक्रवार (20 अक्टूबर) को केदारनाथ मंदिर पहुंचे। पीएम मोदी ने यहां भगवान शिव के दर्शन किए और पूजा की। मोदी यहां केदारपुरी में पुनर्निर्माण के पांच प्रोजेक्ट की शुरुआत करेंगे। पीएम यहां एक जनसभा को भी संबोधित कर रहे हैं। गौरतलब है कि साल 2013 में आई प्राकृतिक आपदा से केदारनाथ धाम को काफी नुकसान पहुंचा था। उत्तराखंड का केदारनाथ धाम, भारत के चार सबसे अहम धामों में से एक है। इस आपदा में करीब 4500 से ज्यादा लोग मारे गए थे। इससे पहले पीएम मोदी ने इसी साल मई महीने में केदारनाथ मंदिर में पूजा-अर्चना की थी। पीएम नरेंद्र मोदी केदारनाथ मंदिर के कपाट खुलने से पहले ही वहां पहुंच गए थे। प्रधानमंत्री ने पवित्र मंदिर के गर्भगृह में पूजा-अर्चना की थी और उन्हें मंदिर की एक प्रतिमूर्ति भी भेंट में दी गई थी। वहीं पीएम नरेंद्र मोदी केदारनाथ दर्शन के दौरान इस धार्मिक स्थल के पुनर्निर्माण से जुड़ी कई योजनाओं का उद्धघाटन करेंगे। इसमें मंदाकिनी और सरस्वती नदी पर बने घाट और मंदिर की सुरक्षा के लिए बनी सुरक्षा दीवार और मंदिर तक जाने के रास्ते का उद्धघाटन करेंगे।

लाइव अपडेट

– प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना के तहत चार करोड़ लोगों को बिजली देंगे।

– उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने स्वास्थ्य के क्षेत्र में बड़ा काम किया है। उनकी सरकार ने शौचालय का नाम बदलकर उसे इज्जत घर कर दिया है।

– हर राज्य दूसरे राज्य के साथ स्वास्थ्य के श्रेत्र में प्रतिस्पर्धा करे।

– उत्तराखंड में पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं।

– हम ऐसी ताकत पैदा करे कि पहाड़ की जवानी हमारे काम आए, उसका पानी हमारे काम आए।

–  हमारे यहां कहावत है पहाड़ की जवानी और पहाड़ का पानी उसके काम नहीं आता है।

–  अगले साल केदारनाथ धाम में दास लाख श्रद्धालु आएंगे।

– बाबा का बेटा ही बाबा का काम करेगा।

– पुनर्निर्माण कार्य में प्रर्यावरण का भी पूरा ध्यान रखा जाएगा। धन की कमी बिल्कुल नहीं होगी।

– बाबा की इच्छा थी मैं सवा सौ करोड़ बाबाओं की सेवा करूं।

– 24 घंटे बिजली-पानी मिलेगी। सड़के चौड़ी की जाएंगी। सबकुछ आधुनिक व्यवस्था से होगा।

– पुरोहितों के दिए जाएंगे मकान।

– मंदिर के पुनर्निर्माण सौभाग्य मुझे मिला है।

– मैंने अच्छा किया या बुरा ये तो इतिहास तय करेगा।

– फिर एक बार बाबा ने मुझे बुला लिया, एक फिर बाबा के चरणों में आया।

– गुजरात में नया साल शुरू हो रहा है। गुजरात को नया साल मुबारक।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.