ताज़ा खबर
 

एडीशनल और ज्‍वायंट सेक्रेट्रीज से म‍िले पीएम, खुल कर बोल सकें इसल‍िए कैब‍िनेट सच‍िव को नहीं बुलाया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शासन की नई शैली को अपनाया है।
एडीशनल और ज्‍वायंट सेक्रेट्रीज से मुलाकात करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (फोटो सोर्स पीटीआई)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शासन की नई शैली को अपनाया है। इस बार उन्होंने ग्रुप्स में करीब 60-70 एडीशनल सेक्रेट्रीज और ज्‍वायंट सेक्रेट्रीज से मुलाकात की। चार राज्यों के आईएएस स्तर के अधिकारियों से पीएम मोदी ने सरकार की छवि और प्रशासन में सुधार के लिए अधिकारियों से अपने विचार देने को कहा। मीटिंग में भविष्य के मेगा प्रोजेक्ट के साथ देश के विकास के लिए अगले पांच से दस साल के विजन को लेकर चर्चा भी की गई। खबर के अनुसार मीटिंग में कुछ एडीशनल सेक्रेट्रीज पीएम द्वारा शुरू किए गए स्वच्छ भारत मिशन की खामियां बताने में उत्सुक नजर आए। इस दौरान पीएम मोदी ने उनके सुझावों को ध्यान से सुना और कहा सभी सामाजिक कल्याण योजनाओं (एसडब्ल्यूएस) में सुधार जरूरी थे। मीटिंग में नवी मुंबई एयरपोर्ट, बैंगलोर हवाई अड्डे को नममा मेट्र से जोड़ने, चेन्नई एयरपोर्ट का विस्तार के साथ कुछ अन्य मुद्दों पर भी बातचीत की गई।

गौरतलब है कि पीएम मोदी और सेक्रेट्रीज, ज्‍वायंट सेक्रेट्रीज के मुलाकात के वक्त कैबिनेट सचिव पीके सिन्हा उपस्थित नहीं थे। दरअसल पीएम मोदी चाहते थे कि कैबिनेट सचिव की उपस्थिति के कारण एडीशनल सेक्रेट्रीज किसी भी तरह से असहज महसूस ना करें। हालांकि पीके सिन्हा ने कहा कि एडीशनल सेक्रेट्रीज ने जो कहा है उनके मुद्दों को नोटिस में लिया गया। उन्हें प्रधानमंत्री के सामने दोहराए जाने की जरूरत नहीं थी। इसलिए इन अधिकारियों को प्रधानमंत्री से मिलने से पहले अनौपचारिक दिशा निर्देश जारी किए गए। जानकारी के लिए बता दें कि प्रधानमंत्री अगली बार एक सितंबर (2017) को कुछ राज्यों के आईएएस अधिकारियों से मुलाकात करेंगे। पीएम जिन राज्यों के आईएएस अधिकारियों से मुलाकात करेंगे उनमें कर्नाटक, मध्य प्रदेश, राजस्थान, झारखंड और छत्तीसगढ़ शामिल है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग