April 26, 2017

ताज़ा खबर

 

OROP सुसाइड: पूर्व सैनिक राम किशन को शहीद का दर्जा देने पर दिल्ली सरकार के खिलाफ जनहित याचिका दायर

पूर्व सैनिक राम किशन ग्रेवाल को शहीद का दर्जा देने के खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट में एक जनहित याचिका डाली गई है।

राम किशन ग्रेवाल की फाइल फोटो। PTI Photo

पूर्व सैनिक राम किशन ग्रेवाल को शहीद का दर्जा देने के खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट में एक जनहित याचिका डाली गई है। गौरतलब है कि दिल्ली सरकार ने राम किशन को शहीद का दर्जा देने की बात कही थी। बता दें कि दिल्ली के जंतर-मंतर पर सैनिकों के लिए वन रैंक वन पेंशन के मामले पर प्रदर्शन कर रहे पूर्व फौजी रामकिशन ग्रेवाल ने सुसाइड कर लिया था। गौरतलब है कि बाद में पता चला था कि राम किशन ग्रेवाल ने अपने पेंशन अकाउंट पर 3.5 लाख रुपए का लोन ले रखा था। राम किशन का वह खाता स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की भिवानी ब्रांच में था उसी खाते में रामकिशन की पेंशन आया करती थी। अंदाजा लगाया जा रहा है कि हो सकता है कि लोन का पैसा ना चुका पाने से परेशान होकर ही राम किशन ने सुसाइड किया हो। एसबीआई ब्रांच पर पूछताछ से पता चला कि लोन 2015 में लिया गया था। लोन के पैसे के बारे में रामकिशन के परिवार को जानकारी नहीं है। राम किशन के बेटे जसवंत ने कहा कि उनको बैंक से लिए गए लोन के बारे में कुछ नहीं पता। जसवंत ने कहा, ‘मुझे और मेरे भाईयों को पिताजी के लोन लेने के बारे में नहीं पता।’

राम किशन ग्रेवाल का एक ऑडियो भी सामने आया था। उसमें वह अपने बेटे से बात कर रहे थे। उस बातचीत में उन्होंने अपने बेटे को जहर खा लेने की बात कही थी।

ऑडियो में ग्रेवाल अपने बेटे से कह रहे थे, ‘मैंने जहर खा लिया है और इंडिया गेट पर बैठा हूं। मैंने तीन-चार सल्फास की गोलियां खाई हैं। हमारे साथ अनर्थ हुआ है। हमारे जवानों को न्याय नहीं मिला। हमारे जवानों के साथ जो अनर्थ और अन्याय हो रहा है, वह देखा नहीं गया। हम लोगों ने अपनी लड़ाई लड़ी। अब आगे ये जवान जानें कि क्या करेंगे और क्या नहीं। हम अपने उसूलों के आदमी हैं। मेरे जवानों, देश और मातृभूमि के लिए अपनी जान न्यौछावर कर दी है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 5, 2016 4:11 pm

  1. S
    Sukhbir Singh
    Nov 5, 2016 at 9:15 pm
    AGAR KABHI YE KHEJRUDIN NAAM KA U BHARAT KA P M BAN A TO YE SABKO SAHEED KARWA DEGA
    Reply
    1. A
      Ashutosh
      Nov 5, 2016 at 1:42 pm
      Good - For a civilised society a suicide cannot be termed as martyrdom. although the terrorists across the world say so.
      Reply
      1. J
        jcr
        Nov 6, 2016 at 8:20 am
        lone liya बाप ne or bete ko malum nahi sharm ki bat हे or beta kahata हे mere बाप ीद हुआ हे lone nahi chuka paye to सुसाइड कर liya or kahte हे shahid ho e dhikkar हे aisi rajniti or rajnetao par
        Reply

        सबरंग