ताज़ा खबर
 

नेशनल हेराल्ड केस : बीजेपी सांसद सुब्रमण्यन स्वामी की अर्जी खारिज, दस्तावेजों की कर रहे थे मांग, अगली सुनवाई 10 फरवरी को

इससे पहले कोर्ट ने अगस्त महीने में हुई सुनवाई के दौरान कांग्रेस नेता सोनिया गांधी, राहुल गांधी समेत सभी पक्षों को नोटिस जारी कर उनका जवाब मांगा था।
भाजपा सांसद सुब्रमण्यन स्वामी

चर्चित नेशनल हेराल्ड मामले में दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने बीजेपी नेता सुब्रमण्यन स्वामी की तरफ से दायर अर्जी खारिज कर दी।  स्वामी ने नेशनल हेराल्ड मामले से जुड़े कुछ दस्तावजों की मांग की थी। अब इस मामले की सुनवाई 10 फरवरी को होगी। इससे पहले कोर्ट ने अगस्त महीने में हुई सुनवाई के दौरान कांग्रेस नेता सोनिया गांधी, राहुल गांधी समेत सभी पक्षों को नोटिस जारी कर उनका जवाब मांगा था। स्वामी ने कांग्रेस से जुड़े दस्तावेज कोर्ट में सबूत के तौर पर मंगाने की मांग की थी।

सुब्रमण्यन स्वामी ने तब इसका विरोध करते हुए कहा था कि दोनों को जमानत मिली तो वे देश छोड़ कर भाग सकते हैं। इसके बाद जून 2016 में नेशनल हेराल्ड केस में सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी को बड़ी राहत मिली। दिल्ली हाईकोर्ट ने मामले में पटियाला हाउस कोर्ट के फैसले को निरस्त कर दिया था।

यह है मामला

बीजेपी नेता सुब्रमण्यन स्वामी का आरोप है कि गांधी परिवार हेराल्ड की प्रॉपर्टीज का गलत तरीके से इस्तेमाल कर रहा है। वे इस आरोप को लेकर 2012 में कोर्ट गए। लंबी सुनवाई के बाद 26 जून 2014 को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने सोनिया गांधी, राहुल गांधी के अलावा मोतीलाल वोरा, सुमन दूबे और सैम पित्रोदा को समन जारी कर पेश होने के आदेश जारी किए थे, तब से यह मामला कोर्ट में चल रहा है। कांग्रेस प्रवक्ता और वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा था कि कांग्रेस का केस मजबूत है और वह कानूनी दायरे में अपनी लड़ाई लड़ेंगे। सिंघवी ने कहा था कि ये पूरा मामला राजनीतिक बदले के अलावा और कुछ नहीं है। गौरतलब है कि नवंबर महीने में नेशनल हेराल्ड का डिजिटल संस्करण शुरू किया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. M
    manoj
    Dec 26, 2016 at 10:41 am
    नपुंसक भारतीय न्याय व्यस्था से न्याय की उम्मीद वह भी बड़े पोलिटिकल नेता के खिलाफ ? आज तक किसी बड़े नेता को सजा मिली है ? ३० साल में जो राजधानी के ३००० हत्यारों को सजा नहीं दे पाए वह न्याय व्यस्था क्या न्याय करेगी ? भारतीय व्यस्था में न्याय एक बिकाऊ चीज है जो उसे मिलती है जो उसे खरीद सकता है उसे नहीं मिलती जिसे उसके जरूरत है ?
    (1)(0)
    Reply
    सबरंग