ताज़ा खबर
 

हमले से पहले पठानकोट एयरबेस में 24 घंटे तक छुपे रहे थे आतंकी, NIA को नहीं पता कितने थे हमलावर

पठानकोट एयरबेस हमले की जांच कर ही एनआईए सूत्रों ने बताया कि आतंकी एमईएस बिल्डिंग में ताला तोड़कर अंदर घुसे और उसे अपना अड्डा बना लिया
Author नई दिल्‍ली | January 13, 2016 10:04 am
पठानकोट एयरबेस पर तैनात सुरक्षाकर्मी, घटना के दौरान की तस्वीर। (Express Photo: Gurmeet Singh)

पठानकोट एयरबेस हमले में शामिल में चार आतंकी 24 घंटे तक मिलिट्री इंजीनियर सर्विसेज के एक बंद शेड में रहे थे। हमले की जांच कर रही नेशनल इंवेस्‍टीगेशन एजेंसी(एनआईए) के सूत्रों ने इंडियन एक्‍सप्रेस को यह जानकारी दी है। इससे पता चलता है कि आतंकियों ने हमले से पहले इस जगह की रैकी की थी। जांच से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि अब तक इकट्ठे किए गए सबूतों के आधार पर साफ है कि आतंकी एमईएस बिल्डिंग में ताला तोड़कर अंदर घुसे और उसे अपना अड्डा बना लिया। यह बिल्डिंग अनुपयोगी सामान रखने के लिए काम में ली जाती है।

अधिकारी ने बताया कि आतंकियों ने वहीं पर खाना खाया और वहां पड़े फर्नीचर को हटाकर सोए थे। हमारा अनुमान है कि एयरबेस में घुसने के बाद आतंकियों ने एमईएस शेड में आराम किया और अंधेरा होने का इंतजार किया ताकि सुरक्षा गार्ड्स के थकने पर हमला किया जा सके। गौरतलब है कि पिछले सप्‍ताह इंडियन एक्‍सप्रेस ने अपनी रिपोर्ट में बताया था कि हमलावरों ने यूकेलिप्‍टस पेड़ पर चढ़कर एयरबेस की बाहरी दीवार को लांघा और फिर कंटीले तारों की बाड़ को काटकर नायलोन की रस्‍सी की मदद से अंदर घुसे थे।

Read Also:  परवेज मुशर्रफ का भारत के खिलाफ जहर उगलने वाला बयान, कहा- आगे भी होंगे पठानकोट जैसे हमले

वहीं एनआईए का कहना है कि वह इस बात को लेकर निश्‍चित नहीं है कि हमले में कितने लोग शामिल थे। अभी तक चार कलाशनिकोव राइफलों, तीन पिस्‍तौल के साथ चार शव बरामद किए गए हैं। गुरदासपुर एसपी सलविंदर सिंह के बारे में एनआईए सूत्रों ने बताया कि अभी तक उनके हमले से जुड़े होने का कोई सबूत नहीं मिला है। वे पूछताछ में पूरी मदद कर रहे हैं।

Read Also: पठानकोट हमला: पाकिस्तान की जांच पर राजनाथ सिंह ने कहा, अविश्वास का कोई कारण नहीं

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग