ताज़ा खबर
 

Pathankot Attack की जिम्‍मेदारी हिज्‍बुल चीफ सलाहुद्दीन ने ली, बोला- भारत के खिलाफ उग्रवादी हमले होते रहेंगे

हिज्‍बुल मुजाहिदीन चीफ सैयद सलाहुद्दीन ने पठानकोट हमले की जिम्‍मेदारी लेते हुए कहा कि यह भारतीय सेना को निशाना बनाने की प्रक्रिया का हिस्‍सा है।
Author नई दिल्‍ली | January 21, 2016 08:15 am
हिजबुल मुजाहिदीन प्रमुख सैयद सलाहुद्दीन। (फाइल फोटो)

हिज्‍बुल मुजाहिदीन चीफ सैयद सलाहुद्दीन ने पठानकोट हमले की जिम्‍मेदारी लेते हुए कहा कि यह भारतीय सेना को निशाना बनाने की प्रक्रिया का हिस्‍सा है। पाकिस्‍तान की ऊर्दू न्‍यूज पोर्टल को दिए इंटरव्यू में सलाहुद्दीन ने पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की कश्‍मीर नीति की भी आलोचना की। उसने कहा कि, ‘कश्‍मीर मामले में पाकिस्‍तान प्राथमिक पार्टी और वकील है। भारत के साथ अपने रिश्‍ते सुधारने से पहले पाकिस्‍तान कश्‍मीरी लोगों की भावनाओं और आकांक्षाओं के प्रति जिम्‍मेदार है। आप एक हत्‍यारे और मृतक दोनों के दोस्‍त नहीं हो सकते।’

सलाहुद्दीन यूनाइटेड जिहाद काउंसिल का भी मुखिया है। यूनाइटेड जिहाद काउंसिल के प्रवक्‍ता ने ही पठानकोट हमले की जिम्‍मेदारी ली थी। पठानकोट हमले के भारत पाकिस्‍तान बातचीत को रोकने की साजिश के सवाल पर सलाहुद्दीन ने कहा कि, ‘यह धारण शत प्रतिशत गलत है। हथियारबंद मुजाहिदीन 26 साल से आठ लाख भारतीय सुरक्षाबलों के साथ लड़ रहे हैं। हर रोज वे भारतीय सेना पर हमले करते हैं। पठानकोट उसी प्रक्रिया की कड़ी था। इसका बातचीत से कोई लेना देना नहीं है। 150 से ज्‍यादा बार बातचीत हो चुकी है लेकिन कश्‍मीर मुद्दे पर एक बार भी चर्चा नहीं हुई। भारत अंतरराष्‍ट्रीय समुदाय को धोखा देने के लिए इस प्रक्रिया को अपनाता है ताकि उसे कश्‍मीर में अपने सैन्‍य बल को मजबूत करने में मदद मिल जाए। चाहे कोई इसे समझे या नहीं, हम कश्‍मीरी इसे समझते हैं।’

Read Also: PATAHNKOT TERROR ATTACK में NIA को शक- मारे गए छह में से दो आतंकी थे INSIDERS

उसने कहा कि, भारत न तो कश्‍मीर के मूल मुद्दे पर चर्चा करना चाहता है और न ही अधिकृत कश्‍मीर को पार्टी मानने को तैयार है। इसलिए यह बातचीत प्रक्रिया समय की बर्बादी है। आजाद जम्‍मू कश्‍मीर मेरा घर और बेस कैंप है। नैतिक रूप से और अंतरराष्‍ट्रीय कानून के अनुसार हम हमारी कब्‍जाई हुई जमीन के लिए कोई भी तरीका अपना सकते हैं। भारत से डरे हुए लोग हमारा साथ देना छोड़ सकते हैं। भारत विरोधी भावनाएं और युवाओं में जिहाद के प्रति लगाव से उग्रवादी गतिविधियां चलती रहेंगी।

Read Also: आतंकियों की घुसपैठ रोकने के लिए भारत-पाक बॉर्डर पर लगेंगे लेजर वॉल

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.