December 05, 2016

ताज़ा खबर

 

राज्‍यसभा: मायावती का पीएम मोदी पर तंज- तैयारी की होती तो बूढ़ी मां को लाइन में नहीं खड़ा करना पड़ता

बसपा प्रमुख ने मंगलवार को गुजरात में पीएम मोदी की मां हीरा बा के बैंक की लाइन में लगकर नोट बदलवाने पर तंज कसा।

मायावती ने फैसला लागू करने की सरकार की तैयारियों पर भी सवाल खड़े किए।

संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन राज्‍यसभा में विपक्ष ने नोटबंदी के मसले पर केंद्र सरकार को घेरा। कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने चर्चा की शुरुआत करते हुए नरेंद्र मोदी सरकार पर तीखे प्रहार किए। इसके बाद बारी बसपा सुप्रीमो मायावती की आई। उ न्‍होंने राज्‍यसभा में कहा कि ”मैं राज्‍यसभा में बड़ी देर से जेटली जी को देख रही हूं और वे बहुत ‘दुखी’ नजर आते हैं।” मायावती ने नोटबंदी पर चर्चा के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी को भी सदन में बुलाने की मांग की। उन्‍होंने कहा, ”यह संवेदशनील मुद्दा है, हम चाहते हैं कि पीएम राज्‍यसभा आएं और चर्चा में हिस्‍सा लें।” मायावती ने फैसला लागू करने की सरकार की तैयारियों पर भी सवाल खड़े किए। उन्‍होंने कहा, ”पीएम ने कहा कि सरकार पिछले 10 महीने से विमुद्रीकरण की तैयारी कर रही थी, इतना वक्‍त काफी होता है, हालात अभी भी काबू में नहीं हैं। असल बात ये है कि इन 10 महीनों में भाजपा के नेताओं और उद्याेगपतियों ने अपना काला धन ठिकाने लगा दिया।”

बसपा प्रमुख ने मंगलवार को गुजरात में पीएम मोदी की मां हीरा बा के बैंक की लाइन में लगकर नोट बदलवाने पर भी तंज कसा। उन्‍होंने कहा, ”अगर तैयारी पूरा होती तो भावनात्‍मक ड्रामा नहीं करना पड़ता, न अपनी बूढ़ी मां को लाइन में खड़ा करना पड़ता।”

राज्यसभा में बुधवार को शीतकालीन सत्र के पहले दिन नोटबंदी और इससे आम जनता को हो रही परेशानी के मुद्दे को उठाते हुए कांग्रेस ने कहा, ‘सरकार सबसे पहले यह बताए कि काले धन की परिभाषा क्या है।’ नोटबंदी के मुद्दे पर सरकार को घेरते हुए कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने राज्‍यसभा में जोरदार भाषण दिया। उन्‍होंने मांग की कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यह साफ करें क‍ि उनकी जान को किससे खतरा है। नोटबंदी और इसके प्रभावों पर चर्चा की शुरुआत करते हुए शर्मा ने कहा, ”आपको कौन धमका रहा है? आपको कौन मारना चाहता है, संसद को बताइए।”

समाजवादी पार्टी के निष्‍कासित महासचिव व राज्‍यसभा सांसद प्रो. रामगोपाल यादव ने भी केंद्र सरकार पर तीखे हमले किए। उन्‍हाेंने कहा, ”ऐसा इमरजेंसी के दौरान नहीं हुआ। आम आदमी भिखारी बन गया है। अगर आप आज गांव जाकर वोट मांगेंगे तो महिलाएं बेलन उठाएंगी और सबक सिखाएंगी।”

वीडियो में देखें- जनसत्ता एक्सक्लूसिव: नोटबंदी की ज़मीनी हकीकत

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 16, 2016 5:33 pm

सबरंग