ताज़ा खबर
 

सर्जिकल स्ट्राइक का बदला लेने के लिए ब्रिक्स समिट को बनाया जा सकता है निशाना, तैनात किए गए मार्कोस कमांडो

खुफिया सूत्रों के मुताबिक उरी हमले का बदला लेने के लिए पाकिस्तान समर्थित आतंकी गोवा में 12 से 14 अक्टूबर के बीच होने वाले ब्रिक्स सम्मेलन को आतंकी निशाना बना सकते हैं।
Author नई दिल्ली | October 12, 2016 17:02 pm
दोनों नेता BRICS बैठक के तहत अगले महीने गोवा में फिर मिलेंगे। (Source: ANI)

खुफिया सूत्रों के मुताबिक उरी हमले का बदला लेने के लिए पाकिस्तान समर्थित आतंकी गोवा में 12 से 14 अक्टूबर के बीच होने वाले ब्रिक्स सम्मेलन को आतंकी निशाना बना सकते हैं। बता दें कि गोवा में 8वां ब्रिक्स सम्मेलन का आयोजित किया गया है। भारतीय सेना की ओर से पीओके में किए गए सर्जिकल स्ट्राइक का बदला लेने के लिए समिट आतंकियों के निशाने पर है। समिट में चीन के राष्ट्रपति शी जिंगपिंग और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन समेत 11 देशों के प्रमुख उपस्थित रहेंगे। इसके अलावा 15-16 अक्टूबर को बिम्सटेक समिट होना है।

इंडिया टुडे के रिपोर्ट के मुताबिक नेशनल सिक्योरिटी एडवाइजर अजित डोवाल ने सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेने के लिए नेवी, कोस्ट गार्ड और अन्य एजेंसियों के वरिष्ठ अधिकारियों से मुलाकात की। साथ ही मीटिंग में खुफिया सूचनाओं का परीक्षण भी किया गया। रिपोर्ट के मुताबिक जमीन, हवा और यहां तक की पानी के भीतर भी मल्टी लेवल सुरक्षा व्यवस्था का इंतजाम किया गया है। वहीं मार्कोस कमांडो को गोवा एयरपोर्ट जैसे महत्वपूर्ण स्थानों पर तैनात किया गया है।

लगातार तीन दिन तक चला पंपोर एनकाउंटर खत्म; दो आतंकी मारे गए

गृह मंत्रालय ने भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) की डॉग स्क्वायड K9 को सम्मेलन की सुरक्षा की जिम्मेदारी दी है। ये डॉग स्क्वायड ब्रिक्स सम्मेलन के प्रमुख स्थलों और इसमें शामिल होने आ रहे नेताओं के रुकने की जगहों की सुरक्षा करेगा। क्योंकि गोवा पुलिस और स्थानीय आर्मी डॉग स्क्वॉड के लिए इतने भव्य आयोजन की सुरक्षा अपने दम पर कर पाना संभव नहीं था।

READ ALSO: गुलामी की इस निशानी को खत्म करेगी मोदी सरकार, आजादी के बाद भी ढो रहा है भारत

गौरतलब है कि भारत की ओर से किए गए सर्जिकल स्ट्राइक से पाकिस्तान बुरी तरह से बौखला गया है। हाल ही में आई रिपोर्ट के मुताबिक खुफिया एजेंसियों ने सुरक्षा व्यवस्था को लेकर चिंता जताई थी। आईएसआई ने आतंकियों को किसी भी तरह से हमले का बदला लेने के लिए कहा है। इसके बाद पाकिस्तान बेस्ड आतंकी संगठन जैश का सरगना मौलाना मसूद अहजर फिर से भारतीय संसद पर हमला करने की सोच रहा है। सुरक्षा एजेंसियों के मुताबिक अगर जैश-ए-मोहम्मद संसद पर फिदायीन हमला करने में नाकाम रहता है तो वह दिल्ली सचिवालय को निशाना बना सकता है। इसके अलावा उसकी टारगेट लिस्ट में अक्षरधाम मंदिर और लोट्स टेम्पल भी है। रिपोर्ट के कहा गया है कि जैश के आकाओं ने अपने ऑपरेटिव्स (गुर्गों) को कहा कि अगर वह महत्वपूर्ण जगहों को टारगेट करने में फेल होते हैं तो भीड़भाड़ वाले इलाके (जैसे- बाजार और अन्य) में हमला करे।

READ ALSO: फ्लाइट में पैसेंजर ने कपड़े उतार फीमेल क्रू मेंबर से मांगी मदद, आपत्तिजनक टिप्पणी की

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 12, 2016 4:57 pm

  1. No Comments.
सबरंग