December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

पाकिस्तान ने तोड़ी मर्यादा, 8 भारतीय अफसरों के नाम-फोटो जारी कर सार्वजानिक रूप से लगाया दाग

पाकिस्तान ने बुधवार को मीडिया में अफसरों के नाम और पद को तस्वीरों के साथ जारी किया था, वहीं गुरुवार को पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने सार्वजनिक रूप से इनकी पहचान जारी कर दी है।

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नफीस जकारिया। (Photo: File/AP Photo)

पाकिस्तान सरकार द्वारा भारतीय उच्चायोग के आठ कर्मियों पर पाक विरोधी गतिविधियों को अंजाम देने और जासूसी का आरोप लगाया गया, जिसके बाद भारत ने इन सभी कर्मियों को पाकिस्तान से बुलाने का फैसला किया था। पाकिस्तान ने सभी हदें पार करते हुए जहां बुधवार को पाकिस्तानी मीडिया में इन आठों भारतीय अफसरों के नाम और पद को तस्वीरों के साथ जारी कर दिए थे, वहीं गुरुवार को पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में सार्वजनिक रूप से इन अफसरों की पहचान आधिकारिक रूप से जारी कर दी है।

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नफीस जकारिया ने इस्लामाबाद में हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, “क्या आपको पता है कई भारतीय राजनयिकों और स्टाफ के लोगों का सीधा संबंध भारतीय इंटेलिजेंस एजेंसी रॉ और आईबी से था। ये लोग राजनयिक कार्य के नाम पर पाकिस्तान विरोधी गतिविधियों और आतंकियों के साथ संपर्क करते पकड़े गए हैं।” जकारिया ने इन सभी के पद और नाम सार्वजनिक किए। जिन भारतीय अधिकारियों के नाम सामने आए हैं उनमें वाणिज्यिक काउंसेलर राजेश कुमार अग्निहोत्री, प्रेस और संस्कृति के प्रथम सचिव बलबीर सिंह, प्रथम वाणिज्य सचिव अनुराग सिंह, वीजा अताशे अमरदीप सिंह भट्टी, वीजा सहायक धर्मेन्द्र, विजय कुमार वर्मा और माधवन नंद कुमार और निजी कल्याण कार्यालय में सचिव जयबालन सेंथिल शामिल हैं।

वीडियो: पाकिस्तान ने की सारी हदें पार; 8 अफसरों के नाम-तस्वीरें जारी कर उन्हें जासूस बताया

जकारिया ने आरोप लगाया कि यह भारतीय अधिकारी तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (TTP) दल को चलाते थे, जिसका काम पाकिस्तान में संप्रदायवाद पैदा करना और बलूचिस्तान, सिंध व गिलगिट-बलिस्तान में हिंसा को बढ़ावा देना था। हालांकि नई दिल्ली ने इस सभी आरोपों को बेबुनियाद और निराधार बताया है। भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा, “सरकार साफ तौर पर इन आरोपों को खारिज करती है।” वरिष्ठ भारतीय अधिकारी ने हमारे सहयोगी अखबार द इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “भारत और पाकिस्तान के बीच सभी को पता है कि कौन क्या है। लेकिन पाकिस्तान ने भारतीय अधिकारियों के नाम सार्वजनिक करके सारे नियम तोड़ दिए हैं। ऐसा आज तक नहीं हुआ था।” इससे पहले बुधवार शाम को पाकिस्तान ने नयी दिल्ली में अपने उच्चायोग में जासूसी के एक मामले में अपने कर्मियों की कथित संलिप्तता के संदर्भ में अपने छह अधिकारियों को वापस बुला लिया था। इसके बाद विदेश मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि भारत अपने आठ राजनयिकों को वापस बुलाने पर विचार कर रहा है क्योंकि उनकी सुरक्षा पूरी तरह हटा दी गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 4, 2016 9:02 am

सबरंग