ताज़ा खबर
 

जासूसी के शक में पकड़े गए PAK उच्चायोग के अधिकारी ने कैमरे पर कबूला- ISRO के सूत्रों से मिली थी ‘सीक्रेट जानकारियां’

पाकिस्तान के लिए जासूसी करने के आरोप में भारत से निकाले गए पाकिस्तान उच्‍चायोग के वीजा विभाग के कर्मचारी महमूद अख्तर ने बताया कि ISRO के एक अधिकारी ने भी उसको संवेदनशील जानकारियां दी थीं।
पाकिस्तान के लिए जासूसी करने के आरोप में पकड़े गए महमूद अख्तर से 45 मिनट तक पूछताछ की गई थी।

पाकिस्तान के लिए जासूसी करने के आरोप में भारत से निकाले गए पाकिस्तान उच्‍चायोग के वीजा विभाग के कर्मचारी महमूद अख्तर ने दिल्ली पुलिस को बताया कि इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन (ISRO) के एक अधिकारी ने भी उसको संवेदनशील जानकारियां दी थीं। इंडियन एक्स्प्रेस को मिली जानकारी के मुताबिक, दिल्ली पुलिस ने अख्तर को पाकिस्तान उच्चायोग को सौंपने से पहले उससे पूछताछ की थी। उस पूछताछ की एक वीडियो भी बनाई गई थी। पुलिस के एक सीनियर अधिकारी ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, ‘जब उससे मुखबिरों और सूत्रों के बारे में पूछा गया तो उसने आईएसआई के उन एजेंट्स के नाम बताए जो पाकिस्तान उच्चायोग में काम करते हैं। इसके अलावा उसने ISRO के उस अधिकारी का भी नाम बताया जिसने उसे संवेदनशील कागजात लाकर दिए थे।’ पुलिस ने बताया कि लगभग 45 मिनट तक पूछताछ चली थी। मिली जानकारी के मुताबिक, वीडियो की शुरुआत में अख्तर को दो पुलिसवालों ने पकड़ रखा होता है और वह उससे उसका नाम और पता पूछ रहे होते हैं। मिली जानकारी के मुताबिक, पुलिस द्वारा हिंदी में सवाल पूछे जाने पर भी अख्तर थोड़ा सहम सा गया था। फिर पुलिसवालों ने ही उसे पानी पिलाया और थोड़ा रिलेक्स करने को कहा। पुलिस के मुताबिक अख्तर यह देखकर हैरान हो गया था कि ऑफिसर पहले से उसके बारे में सबकुछ जानते थे। अख्तर ने ही रमजान खान और सुभाष जांगिड़ के नाम बताए थे। उन दोनों को गुरुवार को ही गिरफ्तार कर लिया गया था।

वीडियो: जासूसी के आरोप में पकड़े गए पाकिस्तान उच्चायोग के अधिकारी को छोड़ा गया

पुलिस के सूत्रों के मुताबिक, पाकिस्तान उच्चायोग में काम करने वाले आठ अधिकारियों के नाम सामने आए हैं। उन सभी पर आईएसआई से ट्रेनिंग लेने का आरोप भी है। अख्तर से पूछताछ के दौरान पाकिस्तान उच्चायोग के सीनियर अधिकारी भी चाणक्यपुरी थाने पहुंच गए थे। हालांकि, उनके सामने ज्यादा सवाल नहीं पूछे गए। पाकिस्तान उच्चायोग की तरफ से सभी आरोपों को नकारा जा चुका है।

Read Also: पाकिस्तान के लिए जासूसी करने का आरोपी लड़ चुका है विधायक का चुनाव

बता दें, दिल्ली पुलिस ने गुरुवार को एक जासूसी रैकेट का पर्दाफाश किया था। इंडियन एक्सप्रेस को जानकारी मिली की पुलिस उस रैकेट के पीछे पिछले 6 महीनों से लगी हुई थी। उस गिरोह पर बॉर्डर पर तैनात भारतीय सुरक्षा बल से जुड़ी सीक्रेट जानकारी पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) तक पहुंचाने का आरोप है। इस गिरोह में पुलिस ने कुल चार लोगों को पूछताछ के लिए पकड़ा था। पुलिस ने महमूद अख्तर, रमजान खान और सुभाष जांगिड़ को पकड़ा था। इन तीनों को दिल्ली के चिड़िया घर के पास से पकड़ा गया था। महमूद अख्‍तर पाकिस्तान उच्‍चायोग के वीजा विभाग में काम करता था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.