ताज़ा खबर
 

सेना का खुलासा- 16 साल में पाकिस्‍तान की फायरिंग में साढ़े चार हजार से ज्‍यादा सैनिक शहीद

जम्‍मू कश्‍मीर में साल 2001 से युद्धविराम उल्‍लंघन के चलते 4500 सैनिकों की जान जा चुकी है। सूचना के अधिकार के तहत सेना ने यह जानकारी दी है।
कश्मीर में भारत-पाक सीमा पर तैनात जवान। (File Photo)

जम्‍मू कश्‍मीर में साल 2001 से युद्धविराम उल्‍लंघन के चलते 4500 सैनिकों की जान जा चुकी है। सूचना के अधिकार के तहत सेना ने यह जानकारी दी है। वडोदरा के पंकज दर्वे ने इस जानकारी के लिए 22 सितम्‍बर को अर्जी दाखिल की थी। दी गई जानकारी के अनुसार कारगिल की जंग के बाद पाकिस्‍तान की ओर से युद्धविराम के उल्‍लंघन में लाइन ऑफ कंट्रोल पर 4675 जवानों की जान गई। हालांकि आरटीआई के जवाब में पिछले 15 साल में युद्ध विराम की कुल घटनाओं की जानकारी नहीं दी गई। हालांकि इसमें बताया गया है कि इस साल जनवरी में पठानकोट की तरह के आतंकी हमलों में 1174 जवानों की मौत हुई। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार साल 2001 के बाद से 7908 आतंकी घटनाएं हुई हैं।

दर्वे ने बताया, ”सितम्‍बर में उरी हमले के बाद से युद्धविराम उल्‍लंघन को लेकर काफी हल्‍ला हो रहा है। मैंने यह जानने के लिए आरटीआई याचिका करी कि कारगित के बाद से सेनाओं को क्‍या झेलना पड़ा है। आंकड़े चौंकाने वाले हैं और बताते हैं कि जितना हमें बताया जाता है कि उससे ज्‍यादा तेजी से हमारे जवान मारे जा रहे हैं। इन सभी घटनाओं के बारे में जनता को बताने के लिए मैं सरकार को चिट्ठी लिखने का विचार कर रहा हूं।”

Speed News: जानिए दिन भर की पांच बड़ी खबरें:

उन्‍होंने आगे कहा कि इन आंकड़ों में प्राकृतिक मौत के चलते मरने वाले जवानों की संख्‍या शामिल नहीं है। गौरतलब है कि भारतीय सेना द्वारा किए गए सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाकिस्तानी सेना ने 99 बार सीजफायर का उल्लंघन किया है। सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, “पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में आतंकी ठिकानों को नष्ट करनेवाले सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाक सैनिकों ने नियंत्रण रेखा पर 99 बार सीजफायर का उल्लंघन किया है।” अधिकारी ने बताया कि इनमें से 83 बार सिर्फ जम्मू क्षेत्र में सीजफायर का उल्लंघन किया गया है।

2015 में पाक की ओर से 405 सीजफायर उल्लंघन के मामले सामने आए थे। वहीं इस साल अब तक 500 मामले हो चुके हैं। इनमें से दो तिहाई घटनाएं पिछले 40 दिन में हुई हैं। सिर्फ जम्मू में ही इस साल सीजफायर के 200 मामले दर्ज किए गए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग