ताज़ा खबर
 

वीडियो: रनवे पर फंसा ओडिशा के सीएम का एयरक्राफ्ट, पुलिसवालों ने मारा धक्का

फ्लाइट में तकनीकी गड़बड़ी विकसित होने के कारण सुरक्षा अधिकारियों ने प्लेन को धक्का मारकर रन-वे से बाहर किया। इसे किसी मुख्यमंत्री के प्लेन को शिफ्ट करने का अब तक का सबसे विचित्र तरीका माना जा रहा है।
Author नई दिल्ली | December 12, 2016 12:25 pm
सीएम के विमान को पुलिसवालों ने लगाया धक्का। (Photo Source: Videograb)

ओडिशा में मुख्यमंत्री के विमान को एयरपोर्ट पर मौजूद सुरक्षा अधिकारियों द्वारा रेन-वे पर धक्का लगाकर किनारे करने का मामला सामने आया है। कुछ यांत्रिकी दिक्कतों के सामने आने के बाद पटनायक के प्लेन में राउरकेला के पुलिस कर्मियों ने धक्का लगाया। यह घटना उस समय हुई जब हवाई अड्डे पर लैंडिंग के कुछ समय बाद नवीन पटनायक का एयरक्राफ्ट रनवे पर खड़ा हुआ था। हवाई अड्डे के अधिकारियों की चिंता उस समय बढ़ गई जब देश के उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी का विमान के आने की जानकारी मिली। नवीन पटनायक और हामिद अंसारी दोनों ग्रामीण हॉकी चैंपियनशिप की ओपनिंग समारोह में यहां पहुंचे थे।

इंडिया टुडे के मुताबिक फ्लाइट में तकनीकी गड़बड़ी विकसित होने के कारण सुरक्षा अधिकारियों ने प्लेन को धक्का मारकर रन-वे से बाहर किया। इसे किसी मुख्यमंत्री के प्लेन को शिफ्ट करने का अब तक का सबसे विचित्र तरीका माना जा रहा है। राउरकेला इंडस्ट्रियल एरिया है, लेकिन इस क्षेत्र में माओवादियों की उपस्थिति के कारण सुरक्षा व्यवस्था राज्य के अन्य हिस्सों की तुलना में अधिक है। गौरतलब है कि मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले को समर्थन करने पर बीजेडी विवादों में घिर चुकी है। इसके अलावा हाल ही में अस्पताल में आग, माओवाद की समस्या और पैसों के कारण लोगों को इलाज के लिए दर-दर भटकने के भी कई मामले सामने आए थे। जिसको लेकर ओडिशा सरकार पर जमकर निशाना साधा गया था।

हाल ही में ओडिशा के कालाहांडी में मानवता को शर्मसार कर देने वाला मामला सामने आया था। यहां के एक आदिवासी शख्‍स को अपनी बीवी की लाश कंधे पर रखकर 12 किलोमीटर इसलिए पैदल चलना पड़ा क्‍योंकि उसके पास गाड़ी करने को रुपए नहीं थे। जिला अस्‍पताल प्रशासन ने कथित तौर पर उसे गाड़ी देने से मना कर दिया था। आंसुओं में डूबी बेटी को साथ लेकर, दाना माझी ने अपनी बीवी अमंगादेई की लाश को भवानीपटना के अस्‍पताल से चादर में पलेटा, उसे कंधे पर टिकाया और वहां से 60 किलोमीटर दूर स्थित थुआमूल रामपुर ब्‍लॉक के मेलघर गांव की ओर बढ़ चला। इसके अलावा भी कई मामले सामने आए, जिसके कारण राज्य सरकार के रवैया पर सवालिया निशान खड़े हुए।

बेटियों ने अपनी मां के अंतिम संस्कार के लिए अपने घर की छत को नष्ट किया, वीडियो देखें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.